नमस्कार मित्रो आज के आर्टिकल में हम आपको Yeast Infection के बारे में बता रहे है यह समस्या महिलाओ को होती है व इसके कारन महिलाओ को कई प्रकार की परेशानी का सामना भी करना पड़ता है पर इसके कई सारे घरेलु इलाज है जिसकी मदद से आप बहुत ही कम समय में इस प्रकार की छुटकारा प्राप्त कर सकते है.

yeast infection ke gharelu upay

हर महिला को  Yeast Infection अर्थात वेजिनल इन्फेक्शन से एक न एक बार गुजरना होता है व यह महिलाओ के लिए काफी परेशानी वाला समय भी होता है क्युकी इसमें महिलाओ को कई प्रकार की परेशानी का सामना करना पड़ता है जैसे की वेजिना में खुजली होना व सूजन आना व रैशेज और दर्द आदि से जुडी समस्या होता है व इस इससे छुटकारा पाने के लिए आप हमारा पूरा आर्टिकल पढ़े और हम आपको जो तरीका बता रहे है आप उसको फॉलो करे.

Yeast Infection के घरेलु इलाज

अगर किसी को Yeast Infection की समस्या है तो उसको चिंता करने की जरुरत नहीं है क्युकी कई सारे घरेलु इलाज है जिससे आप इस प्रकार की समस्या से छुटकारा प्राप्त कर सकते है व इसके लिए आपको हम जो घरेलु उपाय बता रहे है आपको उन तरीको को अपनाना जरुरी है तभी आपको इसका फायदा मिल सकता है.

नारियल तेल

नारियल का तेल अक्सर सभी घरो में मिल जाता है व आप किसी दूकान आदि से भी नारियल का तेल आसानी से प्राप्त कर सकते है यह Yeast Infection में बहुत ही फायदेमंद होता है क्युकी इसमें एंटीफंगल प्रॉपर्टी होती है जिसके कारन से यह Yeast Infection में राहत पहुँचती है इसके लिए आपको अच्छे कोकोनट आयल को अपने प्राइवेट पार्ट में अंदर और बाहर की तरफ लगाना है इससे आपको निश्चित तौर पर फायदा मिल जाता है व इससे सूजन दर्द और खुजली में भी राहत मिलेगी और इन्फेक्शन भी नहीं बढ़ेगा.

दही का इस्तमाल

Yeast Infection  जैसी समस्या में दही आपके लिए रामबाण की तरह शाबित हो सकता है क्युकी यह हमारे शरीर में बुरे बैक्टीरिया को मारने में मददगार होता है व आप Yeast Infection से छुटकारा पाने के लिए दही का सेवन कर सकती है और इसके साथ ही आप दही को अपने प्राइवेट पार्ट पर भी लगा सकती है इससे आपको बहुत लाभ होगा पर एक बात का ध्यान रखे की वो दही सादा होना चाहिए उसमे किसी प्रकार का फ्लेवर या चीनी अत्यादि नहीं होनी चाहिए.

टी ट्री ऑयल

Yeast Infection में टी ट्री ऑयल भी आपके लिए बहुत ही लाभदायक हो सकता है व विशेषज्ञ भी इसकी सलाह देते है Yeast Infection में आपको टी ट्री ऑयल को किसी भी वेजिटेबल ऑयल या फिर नारियल तेल के साथ मिला लेना है इसके बाद आपको इसको प्राइवेट पार्ट में लगाना है इससे आपको काफी लाभ मिलेगा पर अगर इसको लगाने से आपको खुजली या जलन आदि की समस्या हो तो इसका इस्तमाल न करें.

तुलसी का इस्तमाल

तुलसी को भी Yeast Infection में काफी मददगार माना गया है व आप Yeast Infection होने पर तुलसी के कुछ पत्ते ले और उनको धोकर साफ़ कर ले उसके बाद आप उन पत्तो को प्रभावित स्थान पर रगड़े इससे आपको काफी लाभ होगा.

Yeast Infection से कैसे बचे

Yeast Infection से बचने के लिए कुछ तरीके होते है आप इनको अपनाकर इससे बच सकते है व हम आपको कुछ तरीको को बता रहे है जिससे की आप इस इन्फेक्शन से बच सकते है इसके लिए आप इन बातो को विशेष रूप से ध्यान रखे.

  • हमेशा साफ़ सुथरे कपडे पहने.
  • त्वचा को हमेशा साफ़ रखे और स्वछता पर ध्यान रखे.
  • अच्छी तरह से सूखे कपड़ो का ही इस्तमाल करें.
  • पोलिस्टर कर नाइलोन आदि के कपडे पहनने से बचे व हो सके तो सूती के कपड़ो का अधिक इस्तमाल करे.
  • प्रतिदिन काम काज करते वक्त आप चप्पल पहन के रखे और बाथरूम या स्नानघर आदि में चप्पल पहन कर ही जाए.
  • अगर किसी महिला का वजन ज्यादा है तो उसको अपनी त्वचा को सूखा रखना जरुरी है.
  • अगर कोई महिला मोटापे आदि का शिकार है तो उसे योग व्यायाम आदि करना चाहिए और मोटापे पर कंट्रोल पाना चाहिए.
  • प्राइवेट पार्ट के आसपास कभी पुराने या खराब साबुन या किसी सुगन्धित स्प्रे या डिटर्जेंट आदि का इस्तमाल करने से बचना चाहिए क्युकी इसे खुजली हो सकती है व इसके कारण बैक्टीरिया फ़ैल सकता है.
  • अगर परिवार में कोई इस प्रकार की परेशानी से ग्रसित है तो उसका तुरंत इलाज कराये.
  • हमेशा मुलायम और ढीले कपडे पहने यह आपके लिए फायदेमंद होगा.
  • हमेशा स्नान करे व अपनी त्वचा को साफ़ रखे.
  • किसी भी अन्य व्यक्ति की चीजों का इस्तमाल करने से बचे.
  • अपने आसपास के वातावरण को साफ़ और स्वच्छ रखे.

निम्न बातो को आप ध्यान में रखते है और इनका पालन करते है तो इससे आप Yeast Infection से खुद का बचाव कर सकती है व इस तरह के इन्फेक्शन से बचने के लिए स्वछता का ध्यान रखना बेहद ही जरुरी होता है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको Yeast Infection के घरेलु इलाज के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है की आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करे और इससे जुड़ा किसी भी प्रकार का सवाल आदि पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट कर के बता सकते है.

पिछला लेखALS Full Form in Hindi : ALS क्या होता है व इसके लक्षण क्या है
अगला लेखSSSM ID : मध्यप्रदेश समग्र पोर्टल ( MP Samagra ID ) में आवेदन कैसे करें

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें