नमस्कार मित्रों आज हम आपको में दुनिया के सात अजूबे Seven Wonders of the World in Hindi कौन कौनसे हैं इसके बारे में बताने वाले हैं आप‌ सभी लोगो ने सात अजूबे का‌ नाम तो कई बार सुना ही होगा पर क्या आप यह जानते हैं की आखिर सात अजूबे किसको कहा जाता हैं व क्यु कहा जाता हैं आप अगर फिल्में आदि देखते हैं तो आपको कई बार सात अजूबे का नाम सुनने को मिल जाता हैं या आप किताब आदि पढते हैं तो उसमें भी आपको इसके बारे मैं कई बार देखने को मिलता हैं पर बहुत से लोगो को पता नही हैं की यह सात अजूबे होते क्या कि तो आज के आर्टिकल में हम आपको इसी के बारे में बतायेगे.

Seven Wonders of the World in Hindi

आप अगर पढाई‌ करते हैं तो आपको दुनिया के सात अजूबे की जानकारी होनी बहुत जरुरी हैं की यह अजूबे किसको कहा जाता हैं व उन्हैंं अजूबा मानने के मुख्य कारण क्या थे इसकी जानकारी सभी लोगो को होनी बेहद जरुरी हैं अगर आपको इसकी जानकारी नहीं हैं तो आप आज का हमारा यह पूरा आर्टिकल पढे.

दुनिया के सात अजूबे कब व कहा चुने गये

ये एक बेहद महत्वपूर्ण सवाल होता की आखिर सात अजूब चुने कब गये थे तो सन्‌ 1999 को सात अजूबे चुनने की पहल शुरू हुई थी जो की स्विट्जरलैंड में शुरू की गयी थी व इसके लिए एक फाउंडेशन बनागा गया था.

इसमें दुनिया की 200 धरोहरों की एक सूचि बनाई गयी थी व उसमें से सात अजूबे चुनने के लिए इंटरनेट व SMS के द्वारा voting शुरु की गयी थी जिससे की लोग अपना वोट दे सकते थे उसके बाद 2007 को इसका रिजल्ट जारी हुआ था जिसमें से निम्न धरोहरों को सात अजूबे माना गया.

सात अजूबे के नाम

हम आपको दुनिया के सात अजूबो के नाम बता रहे है जिसके बारे में अक्सर बहुत से लोगो को पता नहीं होता

  1. चीन की दीवार
  2. ताजमहल
  3. क्राइस्ट रिडीमर
  4. माचु पिच्चु
  5. पेट्रा
  6. कोलोजीयम
  7. चिचेन इत्जा

यह सभी दुनिया के सात अजूबे माने जाते हैं व इन अजूबे का भारत की एक धरोहर भी शामिल हैं जिसको ताजमहल कहा जाता है.

1. चीन की दीवार China wall

इसके बारे में लगभग सभी लोग जानते हैं क्युँकि यह किताबों में भी पढाया जाता हैं यह चीन में स्थित हैं जो की इतनी उंची हैं की इसको अंतरिक्ष से भी आसानी से देखा जा सकता हैं इसका निर्माण 7 वीं शताब्दी से 16 वीं शताब्दी तक हुआ व इसका निर्माण हमलावरों से बचने के लिए किया गया था.

इस दीवार की लम्बाई लगभग 6400 किलोमीटर तक हैं व इसकी उँचाई तकरीबन 35 मीटर तक हैं व यह इतनी चौडी हैं की इसपर दस लोग एक साथ आसानी से चल सकते हैं व यह भी माना जाता हैं की इस दीवार को बनाने के लिए 20 लाख से भी ज्यादा लोगों ने अपना पूरा जीवन लगा दिया था.

2. ताजमहल Taj Mahal

इसके बारे में तो शायद आप सभी लोग जानते होगे ताजमहल आगरा में स्थित हैं जो की मुगल बादशाह शाहजहाँ द्वारा अपनी बेगम मुमताज के लिए 1632 बनाया था व यह पूर्व रुप से सफेद संगमरमर से बना हुआ है.

इसके निर्माण में लगभग 15 वर्ष का समय लगा था व यह भी माना जाता हैं की बादशाह ने ताजमहल बनाने वाले मजदूरों के हाथों को काट दिया था ताकि अन्य इस प्रकार का महल कोई ना बना सके.

3. क्राइस्ट रिडीमर Christ redeemer

यह ब्राजील के रियो डी जेनेरा में तिजुका नेशनल फोरेस्ट पार्क में स्थित हैं जो की एक ईसा मसीह की एक दुर्लभ प्रतिमा हैं इसकी उचाई तल समेत 130 फिट की हैं व इसकी चौडाई 98 फीट तक की है.

इस प्रतिमा का वजन लगभग 635 टन का हैं इस प्रतिमा का‌ निर्माण 1922 – 1931 के मध्य हुआ था व प्रतिमा को कंक्रीट व सोपस्टोन से बनाया गया है.

4. माचु पिच्चु Machu Picchu

यह दक्षिण अमेरिका के पेरू में स्थित एक एतिहासिक स्थल‌ है‌ माना जाता हैं की यहाँ पर पूर्व मे इंका सभ्यता रहा करती थी समुद्री तक से इस क्षेत्र की उँचाई 2430 मीटर तक की हैं व माना जाता हैं की इसका निर्माण 1400 में वहा के राजा पचाकुति ने करवाया था.

इस अजूबे की सोचने वाली बात यह हैं की उस समय के लोग इतने उंचे क्षेत्र पर रहते कैसे होगे इस क्षेत्र के निर्माण के बाद एक युद्ध में में यह क्षेत्र स्पेन के कब्जे में आ गया था व स्पेन ने इस क्षेत्र को ऐसे ही छोड दिया था जिसके कारण धीरे धीरे यह धरोहर नष्ट होती चली गयी.

उसके बाद अमेरिका के एक इतिहासकार हीरम बिघंम ने इस क्षेत्र की खोज 1911 में की थी जिसके बाद से इस स्थान को पहचाना जाने लगा व इसको सात अजूबो‌ मे‌ शामिल किया गया.

5. पेट्रा Petra

जार्डन के‌ मआन क्षेत्र में स्थित एक एतिहासिक नगरी हैं जिसे पेट्रा कहा जाता हैं माना जाता हैं की इसका निर्माण 1200 ईसापूर्व के करीब हुआ था यहाँ बडी बडी चट्टानों व पत्थरों से तराशे गये इमारतें आपको देखने‌ को मिलती हैं व यहाँ एक से बढकर एक कलाकृति आपको देखने को मिल जाती है.

उसको देखने की लिये काफी दूर दूर से पर्यटक आते रहते हैं व इस स्थान को भी दुनिया के सात अजूबे में शामिल किया गया है.

6. कोलोजीयम Colosseum

यह इटली के रोम में स्थित एक प्राचिन स्टेडियम हैं माना जाता हैं की प्राचिन समय में यहाँ पर जानवरों की लडाई कराई जाती थी इसका निर्माण 70 वीं व 72 वीं ईस्वी में वेस्पियन ने शुरू कराया‌ था व इसको 80 ईस्वी में सम्राट टाइसन ने पूरा किया था.

यह धरोहर अत्यधिक प्राचिन होने के कारण कई प्राकृतिक आपदा व भूकंप आदि के कारण इसका कुछ हिस्सा नष्ट भी हुआ था.

इसको रेत व कंक्रीट से बनाया गया था इस स्टेडियम में एक साथ 50 हजार से 80 हजार लोग आसानी से बैठ सकते हैं.

7. चिचेन इट्ज़ा Chichen Itza

यह विश्व प्रसिद्ध एक मायन प्राचीन मंदिर हैं इस मंदिर का निर्माण 600 ईसापूर्व किया गया था व यह मंदिर 5 किलोमीटर के दायरे में फैला हुआ है.

यह मंदिर एक पिरामिड की आकृति का बनाया गया हैं जो की 79 फीट तक ऊँचा हैं व इसपर चढ़ाई करने के लिए चारों तरफ सीढियां बनाई गयी है। व हर दिशा में 91 सीढियां बनाई गयी हैं इस मंदिर की सभी सीढियाँ की कुल संख्या 365 है.

यह विश्व के सात अजूबे हैं जिनको देखने के लिए हर कोई इच्छुक रहता हैं पर अपनी आर्थिक स्थिति व समय ना मिल पाने के कारण वो इन सभी को नही देख पाते आप इंटरनेट के माध्यम से भी इन्हैंं देख सकते है.

इस आर्टिकल में हमने आपको दुनिया के सात अजूबे के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है की आपको दुनिया के सात अजूबो के बारे में बताई गयी जानकारी पसंद आयी होगी अगर आप इससे सम्बंधित कोई सवाल पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट कर सकते है व जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर भी जरूर करें.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें