नमस्कार मित्रो आज हम आपको  RTO Officer Kaise Bane इसके बारे में बता रहे है हर व्यक्ति सरकारी अधिकारी बनने की चाहत रखता है व कई लोग आरटीओ बनकर अपना भविष्य बनाना चाहते है पर कई लोगो को पता नहीं होता की वो किस प्रकार से आरटीओ बन सकते है और इस क्षेत्र में अपना बेहतरीन कैरियर बना सकते है तो इसके बारे में हम आपको इस आर्टिकल में पूरी जानकारी देने वाले है.

 RTO Officer Kaise Bane

जैसा की आप सब  जानते है की यह बहुत ही जिम्मेदारी वाला पद होता है इस कारण से आप इस पद पर नौकरी पाना चाहते है तो आपको कड़ी मेहनत करने की जरुरत होगी आप कड़ी मेहनत करके ही अपना आरटीओ बनने का सपना पूरा कर सकते है पर इससे पहले आपको  RTO Officer Kaise Bane इसके बारे में जानकारी होनी भी बेहद ही आवश्यक है.

RTO Officer Kaise Bane

आरटीओ अधिकारी कैसे बनते है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको आरटीओ क्या होता है इसके बारे में बता रहे है इसका पूरा नाम क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय होता है जिसे अंग्रेजी में REGIONAL TRANSPORT OFFICER भी कहा जाता है व यह भारतीय सरकार का एक संगठन है जो पुरे भारत के सभी वाहनों और वाहन चालकों के डाटाबेस को बनाने के लिए  जिम्मेदार होते है.

मोटर वाहन विभाग की स्थापना मोटर वाहन अधिनियम 1988 की धारा 213 (1 ) के तहत की गयी है जिसके परिणामस्वरूप यह देश में लागू एक केंद्रीय अधिनियम है व यह विभाग अधिनियम के अलग अलग प्रावधानों को लागू करने के लिए भी जिम्मेदार होते है साथ ही आप वाहन चलने के लिए जो लाइसेंस बनाते है वो भी आरटीओ के द्वारा ही जारी किये जाते है.

RTO Officer बनने के लिए शैक्षिक योग्यता

RTO Officer बनाने के लिए उम्मीदवार का किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक उत्तीर्ण होना आवश्यक हैं साथ ही आरटीओ में अन्य कई अलग अलग तरह की पोस्ट भी होते है जिसमे अलग अलग तरह की योग्यता रखी जाती है एवं आप किसी भी स्ट्रीम से ग्रेडुएशन करने के बाद इस भर्ती में आवेदन कर सकते है.

RTO Officer के लिए उम्र सीमा

RTO Officer बनाने के लिए उम्मीदवार की उम्र न्यूनतम 21 वर्ष व अधिकतम 30 वर्ष तक आयु होनी आवश्यक हैं व OBC वर्ग के लोगो को 3 वर्ष व ST /SC वर्ग के लोगो को 5 वर्ष की छूट का प्रावधान है एवं सभी राज्य में उम्र सीमा अलग अलग हो सकती है इसलिए इसकी सटीक जानकारी के लिए आप इसके अधिकारिक नोटिफिकेशन को देख सकते है.

RTO Officer की चयन प्रक्रिया

RTO Officer बनने की चयन प्रक्रिया 3 अलग अलग चरणों में रखी गयी हैं जिसमे सफलता प्राप्त कारने ने बाद आप इस पर पर नौकरी प्राप्त कर सकते है.

  1. लिखित परीक्षा
  2. फिजिकल टेस्ट
  3. साक्षात्कार

1. लिखित परीक्षा

आवेदन करने के बाद उम्मीदवारों की सबसे पहले लिखित परीक्षा ली जाती हैं उसमे सभी आवेदन करने वाले युवा भाग ले सकते हैं ये परीक्षा 2 घंटे की होती हैं व ये 200 अंको की परीक्षा होती हैं इसमें आपसे  राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय वर्तमान घटनाक्रम, भारत का इतिहास, भूगोल, हिंदी व्याकरण, आर्थिक और सामाजिक विकास, पर्यावरण और पारिस्थितिकी, सामान्य विज्ञान, अंग्रेजी भाषा आदि से सम्बंधित सवाल पूछे जाते है.

2. फिजिकल टेस्ट

लिखित परीक्षा में सफल घोषित होने के बाद उम्मीदवारों को फिजिकल टेस्ट के लिए बुलाया जाता हैं व इसमें सफल होने के लिए आपको शारीरिक रूप से स्वास्थ्य व fit  होना आवश्यक हैं इसमें आपके अलग अलग तरह से test लिए जाते हैं व इसमें आपके प्रदर्शन के आधार पर आपको अंक प्रदान किरये जाते है.

3. साक्षात्कार

लिखित परीक्षा व फिजिकल टेस्ट दोनों में सफलता प्राप्त करने के बाद आपको साक्षात्कार Interview के लिए बुलाया होता हैं व इसमें आपकी बुद्धि, क्षमता, मूल्यों और गुणों के आधार पर आपको जांचा जाता है। और आपसे कुछ सवाल किये जाते हैं जिसमे आप किस  तरह से उनके सवालों के जवाब देते हैं उस आधार पर आपको इसमें अंक दिए जाते है.

RTO Officer के लिए फिजिकल टेस्ट

आपको लिखित परीक्षा को उत्तीर्ण करने के बाद फिजिकल टेस्ट देना होता है व इसमें आपकी लम्बाई, वजन, दौड़, लम्बी कूद, ऊँची कूद आदि जैसे कुछ टेस्ट लिए जाते है व सभी टेस्ट के लिए अलग अलग  अंक निर्धारित होते है आप जिस टेस्ट में जितना अच्छा प्रदर्शन करते है आपको उसके उतने ही ज्यादा अंक भी दिए जाते है जिसके कारण आपको फिजिकल की बेहतरीन तयारी करनी बहुत ही जरुरी है.

RTO Officer के लिए मेडिकल टेस्ट

आप फिजिकल टेस्ट कर लेते है तो अंतिम चरण में आपका मेडिकल टेस्ट करवाया जायेगा इसमें शरीर के अंगो की जाँच की जाएगी जैसे की आँख, कान, गला और उम्मीदवार को कोई गंभीर रोग तो नहीं है इन सब की जाँच की जाती है व जो व्यक्ति पूर्ण रूप से स्वास्थ्य है वो इस टेस्ट में आसानी से सफल हो जाता है.

RTO Officer का मासिक वेतमान

RTO अधिकारी को सभी राज्य में वहां के नियमानुसार अलग अलग वेतन दिया जाता है व इस पद पर आपको मासिक 20,000  रुपये से लेकर 40,000 रूपए तक का वेतन दिया जाता है उसके साथ ही आपको महंगाई भत्ता, किराया भत्ता, आवास भत्ता, यात्रा भत्ता आदि जैसी कई अलग अलग तरह की सुविधाएं और भत्ते आदि भी दिए जाते है.

RTO Officer के कार्य

आप आरटीओ अधिकारी बनने की चाहत रखते है  तो ऐसे में आपको यह पता होना भी बहुत ही जरुरी है की इनके कार्य क्या क्या होते है तो हम आपको इनके कुछ मुख्य काम के बारे में बता रहे है जो की एक आरटीओ अधिकारी को करने होते है.

1. Driving  Licence

किसी भी वाहन को चलाने के लिए आपके पास Driving licence होना आवश्यक हैं अगर आप बिना licence के वाहन चलाते हैं तो आपसे जुर्माना भी वसूला जा सकता हैं व licence बनाने के लिए आपको RTO office जाना होता हैं व आपका licence RTO के द्वारा ही बनाया जाता हैं आप ये भी कह सकते हैं की licence बनाना RTO का महत्वपूर्ण कार्य होता है.

2. Vehicle Registration

आपने देखा होगा की कोई भी छोटा बड़ा वाहन खरीदने पर उसका Registration करना अनिवार्य होता हैं व जब आप किसी वाहन का Registration करते हैं तो आपको उस वाहन की एक number plat दी जाती हैं ये सब registration के बाद होता हैं व आप बिना Registration के वाहन उपयोग करते हैं तो वो गैर कानूनी होता है.

3. Pollution Test 

कई बार आपने देखा होगा की छोटे बड़े वाहनों को रोक कर उनका Pollution test लिया जाता हैं व अगर कोई वाहन अधिक Pollution फैला रहा हो तो उस वाहन के मालिका या ड्राइवर से fine लिया जाता हैं ये कार्य भी RTO के द्वारा होता है.

4. Insurance

किसी वाहन आदि का इंश्योरेंस का काम भी RTO के द्वारा किया जाता है। किसी को भी अपने वाहन का बीमा करवाना हो या इससे जुड़ा कोई कार्य हो तो उस व्यक्ति को RTO Office जाना होता है.

5. यातायात की जाँच करना

अक्सर कई बार आपने हाइवे पर आरटीओ अधिकारी को देखा होगा तो वो ऑवरलोड वाहन और अवैध वाहनों की जाँच करते है और कोई भी वाहन ऑवरलोड पाया जाता है तो उसका चालान बनाने का इनका कार्य होता है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको  RTO Officer Kaise Bane इसके बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें और आप RTO से जुड़ा कोई भी सवाल आदि पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट के द्वारा भी बता सकते है.

पिछला लेखEEG Full Form In Hindi : EEG क्या होता है और कब किया जाता है
अगला लेखSubah Jaldi Kaise Uthe : सुबह जल्दी उठने के आसान तरीके
मै रघुवीर चारण PMO Yojana का संस्थापक हूँ हमें लेख लिखना व किताब पढ़ना बेहद पसंद है है हम शिक्षा, कंप्यूटर, मोबाइल, सरकारी नौकरी, नई योजनाओं व इस प्रकार की अन्य कई जानकारी इस Website पर लिखते है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें