नमस्कार मित्रो आज हम आपको बेहद ही खास जानकारी बताने वाले है जिन लोगो का सपना Principal बनने का है उनके लिए यह जानकारी बेहद ही उपयोगी साबित होने वाली है क्युकी इसमें हम आपको Principal Kaise Bane इसके बारे में पूरी जानकारी विस्तृत रूप से देने वाले है ताकि आप अपना प्रिंसिपल बनने का सपना आसानी से पूरा कर सके.

Principal Kaise Bane

हर व्यक्ति अपने भविष्य को लेकर अलग अलग सपने देखते है तो कई लोगो का सपना होता है की वो एक प्रिंसिपल के रूप में अपना बेहतरीन कैरियर बनाए पर इसकी सही जानकारी न होने के कारण कई लोगो का यह सपना पूरा नही हो पाता अगर आपको प्रिंसिपल बनना है तो इसके लिए आपको Principal Kaise Bane इसकी जानकारी होने बेहद ही आवश्यक है इसके बारे में जानने के लिए आप हमारे आर्टिकल को ध्यान से पढ़े.

Principal Kaise Bane

प्रत्येक विधालय एवं कॉलेज में प्रिसिपल नियुक्त होते है जो की कॉलेज और विधालय आदि का सही तरह से सञ्चालन करते है व यह अपने विधालय में होने वाली हर गतिविधि पर नजर रखते है व स्कुल को सही तरह से चलाने का प्रयत्न करते है इनका मुख्य काम स्कुल के लिए नयी नीतिया और नियम लागू करना, शिक्षक और कर्मचारियों को उपयुक्त कार्य करवाना और उनपर नजर रखना, विधार्थियों की समस्या को ठीक करना आदि अलग अलग तरह के कार्य इनके द्वारा किये जाते है.

किसी भी विधालय के सही तरह से संचालन के लिए प्रिंसिपल का पद बेहद ही ख़ास होता है इन्ही के द्वारा अपने विधालय में प्रशासन व्यवस्था को संभाला जाता है एवं प्रिंसिपल के द्वारा अपने विधालय में प्रवेश की संख्या को बढाने का कार्य किया जाता है इस पद पर नौकरी पाने के लिए सिर्फ डिग्रियों का होना ही जरुरी है नही इसके लिए आपके पास कौशल और अनुभव होना भी अनिवार्य है.

प्रिंसिपल बनने के लिए योग्यता

आपको प्रिंसिपल बनने के लिए कुछ ख़ास योग्यता को पूरा करना होता है हम आपको इसके लिए जो जरुरी योग्यता होती है उसके बारे में बता रहे है उन्हें पूरा करने के बाद आप प्रिंसिपल बन सकते है.

  • आपके पास बीएड की डिग्री होनी चाहिए.
  • एकीकृत बीएड जैसे बीए+बीएड, बीएससी+बीएड के उम्मीदवार भी पात्र होगे.
  • आपको कम से कम 5 वर्ष का शिक्षण का अनुभव होना चाहिए.
  • आप एम.एड. करने के बाद भी प्रिंसिपल बन सकते है.

यह सभी इसके लिए मुख्य डिग्री है जिनको करने के बाद आप एक प्रिंसिपल बन सकते है व डिग्री के साथ आपको 5 से 10 साल तक शिक्षक के रूप में अपनी सेवाए भी देनी होती है तभी आपको प्रिंसिपल बनने का अवसर प्राप्त हो सकता है.

प्रिंसिपल के कार्य

एक प्रिंसिपल को अपने विधालय को बेहतर बनाने के लिए कई तरह के कार्य करने होते है इनके सभी कार्य के बारे में बताना काफी मुश्किल है पर हम आपको इनके कुछ मुख्य कार्य आदि के बारे में बता रहे है जो निम्न प्रकार से है.

  • अपने विधालय में प्रशासनिक नेतृत्व करना.
  • विधालय में अनुशासन को बनाये रखना.
  • विधालय में प्रशासनिक कार्य निर्धारित करना.
  • विधालय की हर गतिविधि पर नजर रखना.
  • शिक्षको पर नजर रखना की वो सही तरह से पढाये.
  • विधालय की शिक्षा में विकास लाना.
  • लोगो को शिक्षा के लिए प्रेरित करना.
  • विधालय के लिए नए प्रवेश लाना.
  • विधालय की साफ़ सफाई करवाना.
  • विधालय में जो कमियाँ है उनकी आपूर्ति करना.
  • विधार्थियों की समस्याओं को सुलझाना.
  • विधालय की रिपोर्ट बनाना और उच्चधिकारियो को भेजना.

यह सभी कुछ मुख्य काम है जो एक प्रिंसिपल को अपने पद पर रहते हुए करने होगे है इनका मुख्य काम अपने विधालय का सही तरह से संचालन करना और अपने क्षेत्र के लोगो को शिक्षा के लिए प्रेरित करने का होता है.

प्रिंसिपल बनने का तरीका

आपको प्रिंसिपल बनने के लिए कुछ वर्षो तक इस क्षेत्र में सेवाए देनी होती है क्युकी सीधे तौर पर आपको इस पद पर नियुक्ति नही दी जाती इसके लिए आपको पहले कुछ वर्षो तक लेक्चरार के रूप में कार्य करना होता है व इसके लिए आपको बीएड, एम ए जैसी डिग्री प्राप्त करनी होती है उसके बाद ही आपको एक लेक्चरार बनाया जाता है.

जब आप कुछ वर्ष तक लेक्चरार के तौर पर काम करते है तो आपको इसके बारे में अच्छा अनुभव हो जाता है इसके बाद आपको प्रमोशन के रूप में प्रिंसिपल के पद पर नियुक्ति दी जा सकती है पर इसमें काफी अधिक समय लगता है वही कई विधालय में इंटरव्यू के आधार पर भी प्रिंसिपल की नियुक्ति की जाती है आप चाहे तो इस तरीके से भी प्रिंसिपल बन सकते है.

इसके लिए सबसे पहले तो आपको पता करना होगा की किस विधालय में प्रिंसिपल के पद खाली है और उनकी नियुक्ति इंटरव्यू के आधार पर की जाएगी उसके बाद आपको उस पद के लिए आवेदन करना होता है बादमे आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है इसके आपके इंटरव्यू और आपके दस्तावेज सत्यापन के बाद आपको प्रिंसिपल पद पर नियुक्ति दी जा सकती है.

प्रिंसिपल बनने के विकल्प

आपको प्रिंसिपल बनना है तो इसके लिए आपके पास कई अलग अलग तरह के विकल्प होते है उसके आधार पर आप प्रिंसिपल बन सकते है इसके लिए हम आपको जो विकल्प बता रहे है उन्हें आप ध्यान से देखे.

  • केन्द्रीय विधालय
  • राज्य सरकार द्वारा संचालित विधालय
  • मैनेजमेंट विधालय
  • निजी/ प्राइवेट विधालय

इन चार विकल्प के द्वारा आप प्रिंसिपल बन सकते है हालाकि केन्द्रीय और राज्य सरकार के द्वारा संचालित विधालय में प्रिंसिपल बनने के लिए आपको काफी मेहनत करनी होगी और इसमें काफी समय भी लग सकता है वही प्राइवेट या निजी विधालय में प्रिंसिपल बनना थोडा आसान होता है.

प्रिंसिपल का वेतन

प्रिंसिपल को विधालय के अनुसार अलग अलग वेतन दिया जा सकता है व निजी विधालय में इनका वेतन काफी कम हो सकता है पर सरकारी विधालयो में इनको 78800/- रूपए एवं इससे अधिक का वेतन दिया जाता है इसके साथ ही इन्हें महंगाई भत्ता, किराया भत्ता, यात्रा भत्ता आदि कई तहर के भत्ते और सुविधाए आदि भी प्रदान की जाती है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको Principal Kaise Bane इसके बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरुर करें और इससे जुडा किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट करके भी बता सकते है.

पिछला लेखIncome Tax Officer Kaise Bane : इनकम टैक्स अधिकारी कैसे बनते है
अगला लेखEye Doctor Kaise Bane : आँखों का डॉक्टर कैसे बने पूरी जानकारी

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें