नमस्कार मित्रो इस आर्टिकल में हम आपको PGT के बारे में जानकारी देने वाले है की PGT क्या होता व PGT कैसे करते है इसमें नौकरी के क्या क्या अवसर आपको मिलते है एवं PGT Full Form क्या होता है इससे जुडी सभी जानकारी हम आपको हिंदी में बताने वाले है.

PGT Full Form

अक्सर हम सब लोग PGT  के बारे में पढ़ते व सुनते रहते है पर कई लोगो को इसके बारे में अधिक जानकारी नहीं होती की PGT Full Form क्या होता है या PGT किसे कहते है व इसके लिए योग्यता क्या रखी गयी है इन सब के बारे में बहुत से लोगो को जानकारी नहीं होती तो हम यह आर्टिकल इसीलिए लिख रहे है ताकि हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी बता सके.

PGT Full Form in Hindi

PGT क्या होता है व कैसे करते है इसके बारे में जानकारी देने से पहले हम आपको इसके पुरे नाम के बारे में बता रहे है.

PGT Full Form – Post Graduate Teacher

हिंदी में इसको आप इसको पोस्ट ग्रेजुएट टीचर भी कह सकते है एवं अगर आपका सपना अध्यापक बनने का है तो ऐसे में PGT आपके लिए बहुत ही उपयोगी हो सकता है.

PGT क्या है

PGT कोई कोर्स नहीं होता बल्कि यह एक शीर्षक अथवा title होता है व यह आपको तभी मिलता है जब आप किसी भी particular विषय में post Graduate + B.ed + M.ed को पूरा कर लेते है व उसके साथ ही आपके बीएड में कम से कम 55% अंक होने जरुरी है तभी आपको यह शीर्षक मिलता है.

PGT का अर्थ यही होता है की अपने अध्यापक बनने के लिए पोस्ट ग्रेडुएशन को सफलतापूर्वक उत्तीर्ण कर लिया है व इसके साथ ही PGT के अध्यापको का वेतन अन्य अध्यापको की तुलना में काफी अच्छा होता है इसमें एक अध्यापक को 50,000 रूपए से लेकर 1,15,000 रूपए तक का वेतन दिया जाता है जिसके कारण अधिकांश लोगो की रूचि PGT अध्यापक बनने में होती है.

अगर आप PGT कर लेते है तो इसके बाद आपको इंटर कॉलज जैसे की ग्यारवी एवं बाहरवीं कक्षाओं को पढ़ाने का मौका मिल जाता है व आपको प्राइवेट विधालय में भी इसके लिए बहुत ही अच्छा वेतन मिल जाता है व आप चाहे तो विज्ञप्ति आने पर उसमे आवेदन कर के सरकारी अध्यापक भी बन सकते है इसके लिए आपकी उम्र सीमा 21 वर्ष से अधिक होनी अनिवार्य है.

TGT और PGT में क्या अंतर है

अक्सर लोगो के मन में TGT और PGT को लेकर कई सवाल आते है की इन दोनों में अंतर क्या है तो हम आपको बता दे की इनमे ज्यादा अंतर नहीं होता TGT को “प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक” कहा जाता है वही PGT को पोस्ट ग्रेजुएट टीचर कहा जाता है व इन दोनों में PGT की पोस्ट बड़ी होती है.

TGT किये हुए व्यक्ति आठवीं से दसवीं तक के व्यक्तियों को पढ़ा सकते है वही PGT किये हुए व्यक्ति ग्यारवी और बाहरवीं कक्षा को पढ़ने में सक्षम हो जाते है व TGT में 20,000 से 70,000 रूपए तक का वेतन दिया जा सकता है व PGT में आपको 50,000 रूपए से लेकर 1,15,000 रूपए तक का वेतन दिया जा सकता है.

PGT के विषय

अगर आप PGT करना चाहते हो या PGT कर चुके है तो आपको इसके बारे में पता होना जरुरी है की इसमें आप किन विषय को पढ़ा सकते है तो वो विषय निम्न प्रकार से है.

  • अंग्रेज़ी
  • हिंदी
  • गणित
  • इतिहास
  • भूगोल
  • आर्थिक
  • भौतिक विज्ञान
  • रसायन विज्ञान
  • जीवविज्ञान
  • वाणिज्य विषय आदि

यह सभी विषय आप PGT के अंतर्गत पढ़ा सकते है व इसके आलावा भी कई विषय है जो आप इसमें पढ़ा सकते है इसमें आप उसी विषय को पढ़ने योग्य माने जाते है जिसमे आपने बीएड उत्तीर्ण किया है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको PGT Full Form क्या होता है एवं PGT क्या है इसके बारे में जानकारी देने का प्रयत्न किया है हमे उम्मीद है की आपको हमारी बताई गयी जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें व इससे सम्बंधित आप किसी भी प्रकार का सवाल पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट कर के बता सकते है.

पिछला लेखGoogle का मालिक कौन है व यह किस देश की कंपनी है
अगला लेखJio Balance Check कैसे करे व Jio Balance देखने के 4 तरीके

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें