नमस्कार मित्रो आज हम आपको NCR Full Form  के बारे में बताने वाले है अक्सर आपने कई बार एनसीआर के बारे में पढ़ा और सुना होगा लेकिन ज्यादातर लोगो को इसके बारे में पता नही होता की आखिर यह होता क्या है और इसका पूरा नाम क्या होता है तो इससे जुडी पूरी जानकारी हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले है.

NCR Full Form

हाल में हर व्यक्ति को एनसीआर के बारे में पता होना बेहद ही आवश्यक है अगर आप स्टूडेंट है तो आपको इसके बारे में विशेष रूप से पता होना चाहिए अक्सर इससे जुड़े सवाल परीक्षा आदि में भी पूछे जाते है आप एनसीआर के बारे में जानने के लिए NCR Full Form क्या होता है इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़े ताकि आपको इसके बारे में पूरी जानकारी समझ में  आ सके.

NCR Full Form in Hindi

एनसीआर क्या होता है और किसे कहते है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको इसका हिंदी और अंग्रेजी में पूरा नाम क्या होता है इसके बारे में बता रहे है.

 NCR Full Form – National Capital Region

इसे  हिंदी मे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र कहा जाता हैं NCR मे दिल्ली के कुछ पडोसी शहर आते हैं जैसे हरियाणा, राजस्थान आदि व  भारतीय संविधान 69th Amendment Act 1991 के तरत भारत की राजधानी दिल्ली व उससे सटे कुछ इलाकों को मिलाकर एक NCR जोन बनाया गया.

NCR क्या है

जैसा की हमने आपको बताया की इसका पूरा नाम राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र होता हैं व जैसा की आप जानते हो की यह हमारा National Capital हैं व इसी कारण से अन्य राज्य व क्षेत्रों की तुलना में दिल्ली में सबसे ज्यादा विकास होता है.

इसी के कारण आप भारत के हर क्षेत्र से लोग नौकरी व्यवसाय करने आदि के दिल्ली आते हैं व इसके कारण दिल्ली की आबादी भी बहुत अधिक बढ़ गयी हैं व इस कारण से वर्त्तमान में दिल्ली के स्थाई निवासियों को भी कई प्रकार की समस्याओ का सामना अदि करना पड़ता हैं जैसे – बिजली, पानी , आवास आदि.

इस कमी को दूर करने के लिए सरकार के द्वारा 1985 में National Capital Region Planning Board की शुरुआत की गयी इसको दिल्ली के द्वारा NCT नाम दिया गया व कई सारे अलग अलग राज्यों को इसमें शामिल किया गया था जिसके बारे में  हम आपको बताने वाले है.

NCR मे आने वाले क्षेत्र

एनसीआर में कई सारे अलग अलग क्षेत्र आते हैं जिसमे से कुछ बड़े शहर भी हैं तो कुछ छोटे शहर आदि भी हैं हम आपको जो शहर बता रहे हैं उनको आप भविष्य में उपयोग के लिए नोटबुक में भी लिख सकते है.

ज्यादातर लोगो को इसके बारे में पता नहीं होता इसके कारण ज्यादातर लोगो ने इसके बारे में कई बार पूछा था की इसके दायरे में कितने व कौन कौनसे शहर आते हैं जैसा की हमने बताया की दिल्ली NCR मे कई जिले व शहर आते हैं जिसके बारे मे हम बताने वाले हैं की कौन कौन से शहर इस क्षेत्र में आते हैं.

  • दिल्ली
  • भरतपुर
  • हापुड़
  • मुजफ्फरनगर
  • गुड़गांव
  • मेवात
  • अलवर
  • गाजियाबाद
  • गौतमबुद्ध नगर
  • बुलंदशहर
  • सोनीपत
  • रेवाड़ी
  • पलवल
  • महैंन्द्रगढ़
  • बागपत
  • फरीदाबाद
  • रोहतक
  • झाझर
  • पानीपत
  • भिवानी
  • जिंद
  • करनाल

ये सभी वह 22 जिले NCR के क्षेत्र में आते  है व आने वाले समय में और भी अधिक जिलो को इसमें शामिल किया जा सकता है क्युकी उत्तरप्रदेश द्वारा लम्बे समय से अपने राज्य के जिलो को NCR में शामिल करने का प्रयत्न किया जा रहा है अगर उत्तर प्रदेश के जिले NCR में जोड़े जाते है तो NCR के सदस्य जिलो की संख्यां में इजाफा होगा.

हरियाणा के वो शहर जो NCR में है

NCR में आने वाले ज्यादातर शहर हरियाणा राज्य के ही है इस राज्य के कई शहर इसके अंतर्गत आते है जिनके नाम हम आपको बता रहे है यह निम्न प्रकार से है.

  • कामुक
  • गुड़गांव
  • जींद
  • झज्जर
  • पलवल
  • पानीपत
  • फरीदाबाद
  • भिवानी
  • महेंद्रगढ़
  • मेवात
  • रेवाड़ी
  • रोहतक
  • सोनीपत

उत्तरप्रदेश के वो शहर जो NCR में है

हरियाणा के बाद दुसरे नंबर पर उत्तरप्रदेश आता है जिसके ज्यादातर जिले और शहर एनसीआर के अंतर्गत आते है हम आपको उत्तरप्रदेश राज्य के उन शहरों के नाम बता रहे है जो NCR में आते है.

  • गाजियाबाद
  • गौतम बुद्ध नगर जिला
  • बागपत
  • बुलंदशहर
  • मुजफ्फरनगर
  • मेरठ
  • हापुड़

राजस्थान के वो शहर जो NCR में है

राजस्थान के सबसे कम शहर NCR में आते है अर्थात राजस्थान राज्य के केवल दो जिले ही इसके अंतर्गत आते है जिनके नाम निम्न प्रकार से है.

  • अलवर
  • भरतपुर

इस तरह से 3 राज्य के शहर इसमें शामिल किये गये है व उत्तरप्रदेश द्वारा निरंतर प्रयास किया जा रहा है ताकि अन्य शहरों को भी इसमें शामिल किया जा सके एवं यह भी संभव है की आने वाले दिनों में NCR में आने वाले शहरो की संख्या बढ़ भी सकती है.

NCR का उद्देश्य

Delhi NCR के कई सारे अलग अलग उद्देश्य हैं व इन्ही के लिए इसकी शुरुआत की गयी थी इसको शुरू करने  का मुख्य उद्देश्य था की वो सभी सदस्य जो इसके क्षेत्र में आते हैं उन क्षेत्रों का विकास आदि करना होता हैं .

ये जो भी शहर हैं जो की एनसीआर में अंतर्गत आते हैं उन सभी  का विकास करना व किसी भी वास्तु आदि की आपूर्ति आदि करना एनसीआर का मुख्य उद्देश्य हैं इसके अलावा भी इसके कई सारे अलग अलग कार्य होते है.

Delhi NCR का उद्देश्य अपने सदस्य शहरो मे विकास करना हैं जैसा की आप जानते हैं की Delhi NCR में metro सुविधा दी गई हैं जिससे कई लोगो के आवागमन मे आसानी होती हैं इसी तरह से कई प्रकार की सुविधाएँ उपलब्ध कराना इसका महत्वपूर्ण कार्य हैं व सबसे ज्यादा पैसा भी इन शहरों के विकास मे ही खर्च किया जाता हैं एनसीआर में आने वाले सभी शहर एक से बड़ी से सुविधा से सुसज्जित हैं व इनमे कई तरह की सुविधाएं भी दी गयी हैं अन्य शहरों की तुलना में इन शहरों में विकास आदि के लिए अधिकांश पैसे खर्च किये जाते हैं जो की NCR में आते है.

NCR में कौनसे क्षेत्र आते है

भारत का नॅशनल केपिटल रीजन NCR न सिर्फ भारत का बल्कि पुरे विश्व का सबसे बड़ा केपिटल रीजनल माना जाता है जो की पुरे भारत के लिए एक गर्व की बात है व इसमें कुल 4 करोड़ 70 से भी आबादी निवास करती है एवं NCR में दिल्ली की सीमाओं से सटे कई राज्यों के शहर शामिल किये गये है जिसमे राजस्थान, हरियाणा, उत्तरप्रदेश आदि भी शामिल है.

देश में NCR का बहुत ही बड़ा महत्व है क्युकी इसके द्वारा रोजगार से लेकर व्यापार और शैक्षणिक व संस्कृतिक तौर पर भारत को विश्व में एक ऊँचा दर्जा प्राप्त होता है NCR की स्थपाना का मुख्य उद्देश्य इसके अंतर्गत आने वाले क्षेत्रो का विकास और रोजगार के क्षेत्र में बढ़ावा देना है.

NCR से जुड़े फेक्ट्स

हम आपको एनसीआर से जुड़े कुछ बेहतरीन facts बता रहे है जिनके बारे में आपको पता होना बेहद ही जरूरी है क्युकी यह आपके लिए कई प्रकार से उपयोगी साबित हो सकते है एनसीआर से जुड़े facts निम्न प्रकार से है.

  • NCR प्लानिंग बोर्ड एक्ट 1985 के तहत दिल्ली के पडोसी राज्य उत्तर प्रदेश, राजस्थान व हरियाणा के कुछ जिले व राजस्धानी को मिलाकर NCR का निर्माण किया गया था.
  • हाल में NCR दिल्ली का क्षेत्रफल 1,484 स्क्वायर किलोमीटर है जो की NCR का कुल 2.9 फीसदी  भाग कवर करता है.
  • NCR में राजस्थान राज्य के भरतपुर एवं अलवर दो जिलो को शामिल किया गया है.
  • NCR में हरियाणा राज्य के गुड़गांव, मेवात, फरीदाबाद, सोनीपत, रेवाड़ी, रोहतक, झज्जर, पानीपत, महेंद्रगढ़, भिवाड़ी, पलवल, जिंद और करनाल 13 शहरों को शामिल किया गया है.
  • NCR में उत्तरप्रदेश राज्य के मेरठ, गाजियाबाद, गौतम बुद्ध नगर, बुलंदशहर, बागपत, हापुड़ और मुजफ्फरनगर 7 शहरों को NCR में शामिल किया गया है.
  • सन् 2013 में NCR में तीन नये जिलो को शामिल किया गया जिसमे हरियाणा राज्य के भिवाड़ी और महेंद्रगढ़ व राजस्थान राज्य के भरतपुर को शामिल किया गया उसके बाद NCR में कुल जिलो की संख्या 19 हो गयी.
  • उत्तरप्रदेश राज्य द्वारा तीन नए शहर अलीगढ, मथुरा, आगरा को भी एनसीआर में शामिल करने पर जोर दिया जा रहा है.
  • 2011 – 12 में एनसीआर के सभी क्षेत्रो ने कुल 128.9 यूएस अरब डॉलर का सकल घरेलु उत्पाद किया जो की भारतीय जीडीपी का 7.5 प्रतिशत हिस्सा था.

NCR को मिलने वाले लाभ

अन्य शहरों की तुलना में NCR में आने वाले शहरों में अधिक लाभ प्रदान किये जायेगे इसके कई मुख्य कारण है हम NCR को दिए जाने वाले कुछ फायदों के बारे में विस्तृत रूप से बताने जा रहे है जिससे की आपको पता चल सके की आखिर इसमें शहरों को विशेष क्या क्या मिलने वाला है

पानी की सुविधा – हाल में भारत के लोगो के लिए  पानी की बहुत ही बड़ी समस्या है और अक्सर कई महिलाओं में इसके कारण हाथापाई भी होती रहती है ऐसे में NCR के लोगो को पानी में बहुत बड़ी राहत देखने के लिए मिलेगी क्युकी NCR में आने वाले जिलो को 24 घंटे पिने का पानी उपलब्ध करवाया जा सकेगा ताकि NCR का कोई सदस्य पानी से जुडी समस्या का सामना न करे

बिजली की सुविधा – इसके बारे में तो आप सभी लोग जानते ही होगे की हाल में भारत के ज्यादातर क्षेत्रो में लोगो को बिजली से जुडी काफी मुसीबते उठानी पड़ती है क्युकी बिजली कंपनी मनमाने तरीके से बार बार बिजली काट देती है जिससे लोगो को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है ऐसे में NCR के लोगो को यह समस्या नहीं देखने को मिलेगी क्युकी NCR में 24 घंटे की बिजली उपलब्ध करवाई जाएगी

उच्च शिक्षा – शिक्षा देश के लिए बहुत ही जरुरी है यह अच्छे भविष्य के साथ देश के विकास की भी नीव रखती है ऐसे में NCR से जुड़े जिलो में शिक्षा को अधिक महत्त्व दिया जायेगा व यहाँ पर नए नए शिक्षण संस्थान शुरू किये जायेगे जिससे की लोगो को बेहतरीन शिक्षा उपलब्ध करवाई जा सके.

यातायात सुविधा – हाल में कई क्षेत्रो में यातायात की भारी कमी देखने को मिलती है व खासकर रात में लोगो को यातायात की समस्या अधिक होती है क्युकी इस वक्त ज्यादा वाहन उपलब्ध नहीं होते ऐसे में NCR के लिए बहुत ही बड़ा फायदा है क्युकी इन शहरो में देश के किसी भी कोने में जाने के लिए 24 घंटे की यातायात सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी

बैंक, अस्पताल, रेस्टोरेंट –  यह तीनो चीजे ऐसी है जिसकी हर स्थान पर जरुरत होती है व हर व्यक्ति को इसकी जरुरत होती है ऐसे में NCR के सभी जिलो एवं शहरों में bank व्यवस्था, अस्पताल व्यवस्था एवं रेस्टोरेंट व्यवस्था उपलब्ध करवाई जाएगी ताकि यहाँ के लोगो को बेहतर सुविधा उपलब्ध करवाई जा सके और इन चीजो के लिए उन्हें किसी प्रकार की परेशानी न उठानी पड़े

आपातकालीन आवास – जो शहर या जिले NCR में आते है इन सभी जिलो में आपातकालीन आवास की व्यवस्था की जाएगी ताकि जरुरत पड़ने पर किसी भी व्यक्ति को यहाँ रहने की सुविधा मिल सके एवं इन आपातकालीन आवास में रहने की व्यवस्था को मुफ्त रखा गया है इसके लिए आपको किसी भी प्रकार का पैसा खर्च नहीं करना है ना ही आपको कोई किराया आदि देना होगा इस तरह से यह सुविधा हर व्यक्ति के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है.

रोजगार के अवसर – जब कोई जिला NCR में आता है तो वहां पर विकास तेजी से बढने लगता है व इसके कारण वहां नए नए रोजगार शुरू होते है एवं नयी नयी कंपनी शुरू होती है इस कारण से लोगो को रोजगार प्राप्त करने में भी काफी ज्यादा आसानी होगी और आपको अच्छा रोजगार मिलने की संभावना भी काफी ज्यादा बढ़ जाती है.

तेजी विकास – अन्य जिलो की तुलना में NCR के अंतर्गत आने वाले जिलो का विकास काफी तेजी से होता है इसकें कई अलग अलग कारण होते है एवं साथ ही बड़े बड़े इन्वेस्टर भी इन जगहों पर पैसा लगाने में रूचि रखते है इस कारण से इन क्षेत्रो में तेजी विकास होने लगता है और यहाँ के लोगो को बेहतरीन सुविधाए उपलब्ध होती है.

सुरक्षा – अगर सुरक्षा के बार में कहा जाये तो NCR में लोगो को बेहतरीन सुरक्षा उपलब्ध करवाई जाती है क्युकी इन क्षेत्र में सिक्यूरिटी हमेशा काफी ज्यादा टाइट रखी जाती है जिसका फायदा आम जनता को होता है और उन्हें 24 घंटे की बेहतरीन सुरक्षा मिल जाती है इस कारण से यहाँ रहने वाले लोगो को अच्छी सुरक्षा मिल जाती है.

प्रोपर्टी में लाभ – जहां आम शहरों की प्रोपर्टी की कम प्राइज होती है वही NCR में आने के बाद उस क्षेत्र में आने वाली सही प्रॉपर्टी काफी ज्यादा महँगी हो जाती है इसका लाभ वहां के लोगो को मिल जाता है जिन्होंने वहां पर जमीन खरीद कर रखी है, उनकी जमीन और प्रोपर्टी की कीमतों में भारी तेजी देखने के लिए मिल सकती है.

यह सभी अलग अलग प्रकार की सुविधाए NCR के नागरिको को प्रदान की जाती है इसके अलावा भी इन्हें अन्य कई तरह की सुविधाए भी दी जाती है जो राज्य के आम जिलो की तुलना में काफी बेहतर है.

NCR FAQ

NCR प्लानिंग बोर्ड की स्थापना कब हुई?

उत्तर – भारत में NCR प्लानिंग बोर्ड की स्थापना सन् 1985 में की गयी थी.

NCR में कुल कितने जिले है?

उत्तर – NCR में भारत के 3 राज्य हरियाणा, राजस्थान, उत्तरप्रदेश के कुल 22 जिले शामिल है एवं दिल्ली भी इसमें शामिल है.

दिल्ली भारत की राजधानी कब बनी?

उत्तर –  दिल्लो की भारत की राजधानी 13 फरवरी 1931 को बनाया गया था व इससे पहले भारत की राजधानी कोलकाता (कलकत्ता) थी.

Calculation –  इस आर्टिकल में हमने आपको NCR Full Form क्या है व NCR के अंतर्गत कौन कौन से शहर आते है इसके बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी पसंद आयी होगी अगर आप इसके बारे में कोई सवाल पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट कर के पूछ सकते है व जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर भी जरूर करें.

पिछला लेखGood Morning Quotes & Shayari हिंदी में
अगला लेखAT&T Full Form in Hindi : AT&T क्या है पूरी जानकारी

2 टिप्पणी

  1. बागपत है तो वहा विकास क्यों नहीं किया जाता हैं, वहा पर कोई भी सुविधा नहीं मिल पा रही है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें