नमस्कार मित्रो आज हम आपको NCR Full Form के बारे में बताने वाले है अक्सर कई लोगो को इसके बारे में जानकारी नही होती की आखिर इसका पूरा नाम क्या होता है और एनसीआर किसे कहते है तो इससे जुडी सम्पूर्ण जानकारी हम आपको इस आर्टिकल में बतायेगे इसके बारे में जानने के लिए आप यह आर्टिकल ध्यान से पढ़े.

NCR Full Form

हाल में एनसीआर को लेकर काफी सारी अलग अलग खबर आती रहती है ऐसे में आपको इसके बारे में जानकारी होनी बेहद ही जरुरी है अगर आपको इसके बारे में जानकारी होगी तो यह आपके लिए कई अलग अलग प्रकार से फायदेमंद साबित होगी इसके बारे में जानने के लिए आप NCR Full Form आर्टिकल को पूरा पढ़े ताकि आपको इसकी विस्तृत जानकारी समझ में आ सके.

NCR Full Form in Hindi

एनसीआर क्या होता है और किसे कहते है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको इसका हिंदी और अंग्रेजी में पूरा नाम क्या होता है इसके बारे में बता रहे है.

 NCR Full Form – National Capital Region है

जिसे हिंदी मे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र कहा जाता हैं NCR मे दिल्ली के कुछ पडोसी शहर आते हैं जैसे हरियाणा, राजस्थान आदि व  भारतीय संविधान 69th Amendment Act 1991 के तरत भारत की राजधानी दिल्ली व उससे सटे कुछ इलाकों को मिलाकर एक NCR जोन बनाया गया.

NCR क्या है

जैसा की हमने आपको बताया की इसका पूरा नाम राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र होता हैं व जैसा की आप जानते हो की यह हमारा National Capital हैं व इसी कारण से अन्य राज्य व क्षेत्रों की तुलना में दिल्ली में सबसे ज्यादा विकास होता है.

इसी के कारण आप भारत के हर क्षेत्र से लोग नौकरी व्यवसाय करने आदि के दिल्ली आते हैं व इसके कारण दिल्ली की आबादी भी बहुत अधिक बढ़ गयी हैं व इस कारण से वर्त्तमान में दिल्ली के स्थाई निवासियों को भी कई प्रकार की समस्याओ का सामना अदि करना पड़ता हैं जैसे – बिजली, पानी , आवास आदि..

इस कमी को दूर करने के लिए सरकार के द्वारा 1985 में National Capital Region Planning Board की शुरुआत की गयी इसको दिल्ली के द्वारा NCT नाम दिया गया व कई सारे अलग अलग राज्यों को इसमें शामिल किया गया था जिसके बारे में  हम आपको बताने वाले है.

NCR मे आने वाले क्षेत्र

एनसीआर में कई सारे अलग अलग क्षेत्र आते हैं जिसमे से कुछ बड़े शहर भी हैं तो कुछ छोटे शहर आदि भी हैं हम आपको जो शहर बता रहे हैं उनको आप भविष्य में उपयोग के लिए नोटबुक में भी लिख सकते है.

ज्यादातर लोगो को इसके बारे में पता नहीं होता इसके कारण ज्यादातर लोगो ने इसके बारे में कई बार पूछा था की इसके दायरे में कितने व कौन कौनसे शहर आते हैं जैसा की हमने बताया की दिल्ली NCR मे कई जिले व शहर आते हैं जिसके बारे मे हम बताने वाले हैं की कौन कौन से शहर इस क्षेत्र में आते हैं.

  • दिल्ली
  • भरतपुर
  • हापुड़
  • मुजफ्फरनगर
  • गुड़गांव
  • मेवात
  • अलवर
  • गाजियाबाद
  • गौतमबुद्ध नगर
  • बुलंदशहर
  • सोनीपत
  • रेवाड़ी
  • पलवल
  • महैंन्द्रगढ़
  • बागपत
  • फरीदाबाद
  • रोहतक
  • झाझर
  • पानीपत
  • भिवानी
  • जिंद
  • करनाल

ये सभी वह 22 जिले NCR के क्षेत्र में आते  है व आने वाले समय में और भी अधिक जिलो को इसमें शामिल किया जा सकता है क्युकी उत्तरप्रदेश द्वारा लम्बे समय से अपने राज्य के जिलो को NCR में शामिल करने का प्रयत्न किया जा रहा है अगर उत्तर प्रदेश के जिले NCR में जोड़े जाते है तो NCR के सदस्य जिलो की संख्यां में इजाफा होगा.

हरियाणा के वो शहर जो NCR में है

NCR में आने वाले ज्यादातर शहर हरियाणा राज्य के ही है इस राज्य के कई शहर इसके अंतर्गत आते है जिनके नाम हम आपको बता रहे है यह निम्न प्रकार से है.

  • कामुक
  • गुड़गांव
  • जींद
  • झज्जर
  • पलवल
  • पानीपत
  • फरीदाबाद
  • भिवानी
  • महेंद्रगढ़
  • मेवात
  • रेवाड़ी
  • रोहतक
  • सोनीपत

उत्तरप्रदेश के वो शहर जो NCR में है

हरियाणा के बाद दुसरे नंबर पर उत्तरप्रदेश आता है जिसके ज्यादातर जिले और शहर एनसीआर के अंतर्गत आते है हम आपको उत्तरप्रदेश राज्य के उन शहरों के नाम बता रहे है जो NCR में आते है.

  • गाजियाबाद
  • गौतम बुद्ध नगर जिला
  • बागपत
  • बुलंदशहर
  • मुजफ्फरनगर
  • मेरठ
  • हापुड़

राजस्थान के वो शहर जो NCR में है

राजस्थान के सबसे कम शहर NCR में आते है अर्थात राजस्थान राज्य के केवल दो जिले ही इसके अंतर्गत आते है जिनके नाम निम्न प्रकार से है.

  • अलवर
  • भरतपुर

इस तरह से 3 राज्य के शहर इसमें शामिल किये गये है व उत्तरप्रदेश द्वारा निरंतर प्रयास किया जा रहा है ताकि अन्य शहरों को भी इसमें शामिल किया जा सके एवं यह भी संभव है की आने वाले दिनों में NCR में आने वाले शहरो की संख्या बढ़ भी सकती है.

NCR का Map

NCR के क्षेत्रो को आसानी से समझने के लिए हम इसका मैप आपके साथ साझा कर रहे है ताकि आप NCR के सदस्य जिलो के बारे में आसानी से समझ सके इसके लिए आप इस मैप को ध्यान से देखे.

NCR

NCR का उद्देश्य

Delhi NCR के कई सारे अलग अलग उद्देश्य हैं व इन्ही के लिए इसकी शुरुआत की गयी थी इसको शुरू करने  का मुख्य उद्देश्य था की वो सभी सदस्य जो इसके क्षेत्र में आते हैं उन क्षेत्रों का विकास आदि करना होता हैं .

ये जो भी शहर हैं जो की एनसीआर में अंतर्गत आते हैं उन सभी  का विकास करना व किसी भी वास्तु आदि की आपूर्ति आदि करना एनसीआर का मुख्य उद्देश्य हैं इसके अलावा भी इसके कई सारे अलग अलग कार्य होते है.

Delhi NCR का उद्देश्य अपने सदस्य शहरो मे विकास करना हैं जैसा की आप जानते हैं की Delhi NCR में metro सुविधा दी गई हैं जिससे कई लोगो के आवागमन मे आसानी होती हैं इसी तरह से कई प्रकार की सुविधाएँ उपलब्ध कराना इसका महत्वपूर्ण कार्य हैं व सबसे ज्यादा पैसा भी इन शहरों के विकास मे ही खर्च किया जाता हैं एनसीआर में आने वाले सभी शहर एक से बड़ी से सुविधा से सुसज्जित हैं व इनमे कई तरह की सुविधाएं भी दी गयी हैं अन्य शहरों की तुलना में इन शहरों में विकास आदि के लिए अधिकांश पैसे खर्च किये जाते हैं जो की NCR में आते है.

NCR में कौनसे क्षेत्र आते है

भारत का नॅशनल केपिटल रीजन NCR न सिर्फ भारत का बल्कि पुरे विश्व का सबसे बड़ा केपिटल रीजनल माना जाता है जो की पुरे भारत के लिए एक गर्व की बात है व इसमें कुल 4 करोड़ 70 से भी आबादी निवास करती है एवं NCR में दिल्ली की सीमाओं से सटे कई राज्यों के शहर शामिल किये गये है जिसमे राजस्थान, हरियाणा, उत्तरप्रदेश आदि भी शामिल है.

देश में NCR का बहुत ही बड़ा महत्व है क्युकी इसके द्वारा रोजगार से लेकर व्यापार और शैक्षणिक व संस्कृतिक तौर पर भारत को विश्व में एक ऊँचा दर्जा प्राप्त होता है NCR की स्थपाना का मुख्य उद्देश्य इसके अंतर्गत आने वाले क्षेत्रो का विकास और रोजगार के क्षेत्र में बढ़ावा देना है.

NCR से जुड़े फेक्ट्स

NCR से जुड़े कई अलग अलग तरह के फैक्ट्स है जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए हम आपको इससे कुछ कुछ मुख्य फैक्ट्स के बारे में बता रहे है जो निम्न प्रकार से है.

  • NCR प्लानिंग बोर्ड एक्ट 1985 के तहत दिल्ली के पडोसी राज्य उत्तर प्रदेश, राजस्थान व हरियाणा के कुछ जिले व राजस्धानी को मिलाकर NCR का निर्माण किया गया था.
  • हाल में NCR दिल्ली का क्षेत्रफल 1,484 स्क्वायर किलोमीटर है जो की NCR का कुल 2.9 फीसदी  भाग कवर करता है.
  • NCR में राजस्थान राज्य के भरतपुर एवं अलवर दो जिलो को शामिल किया गया है.
  • NCR में हरियाणा राज्य के गुड़गांव, मेवात, फरीदाबाद, सोनीपत, रेवाड़ी, रोहतक, झज्जर, पानीपत, महेंद्रगढ़, भिवाड़ी, पलवल, जिंद और करनाल 13 शहरों को शामिल किया गया है.
  • NCR में उत्तरप्रदेश राज्य के मेरठ, गाजियाबाद, गौतम बुद्ध नगर, बुलंदशहर, बागपत, हापुड़ और मुजफ्फरनगर 7 शहरों को NCR में शामिल किया गया है.
  • सन् 2013 में NCR में तीन नये जिलो को शामिल किया गया जिसमे हरियाणा राज्य के भिवाड़ी और महेंद्रगढ़ व राजस्थान राज्य के भरतपुर को शामिल किया गया उसके बाद NCR में कुल जिलो की संख्या 19 हो गयी.
  • उत्तरप्रदेश राज्य द्वारा तीन नए शहर अलीगढ, मथुरा, आगरा को भी एनसीआर में शामिल करने पर जोर दिया जा रहा है.
  • 2011 – 12 में एनसीआर के सभी क्षेत्रो ने कुल 128.9 यूएस अरब डॉलर का सकल घरेलु उत्पाद किया जो की भारतीय जीडीपी का 7.5 प्रतिशत हिस्सा था.

NCR को मिलने वाले लाभ

अन्य शहरों की तुलना में NCR में आने वाले शहरों में अधिक लाभ प्रदान किये जायेगे इसके कई मुख्य कारण है हम NCR को दिए जाने वाले कुछ फायदों के बारे में विस्तृत रूप से बताने जा रहे है जिससे की आपको पता चल सके की आखिर इसमें शहरों को विशेष क्या क्या मिलने वाला है

पानी की सुविधा – हाल में भारत के लोगो के लिए  पानी की बहुत ही बड़ी समस्या है और अक्सर कई महिलाओं में इसके कारण हाथापाई भी होती रहती है ऐसे में NCR के लोगो को पानी में बहुत बड़ी राहत देखने के लिए मिलेगी क्युकी NCR में आने वाले जिलो को 24 घंटे पिने का पानी उपलब्ध करवाया जा सकेगा ताकि NCR का कोई सदस्य पानी से जुडी समस्या का सामना न करे

बिजली की सुविधा – इसके बारे में तो आप सभी लोग जानते ही होगे की हाल में भारत के ज्यादातर क्षेत्रो में लोगो को बिजली से जुडी काफी मुसीबते उठानी पड़ती है क्युकी बिजली कंपनी मनमाने तरीके से बार बार बिजली काट देती है जिससे लोगो को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है ऐसे में NCR के लोगो को यह समस्या नहीं देखने को मिलेगी क्युकी NCR में 24 घंटे की बिजली उपलब्ध करवाई जाएगी

उच्च शिक्षा – शिक्षा देश के लिए बहुत ही जरुरी है यह अच्छे भविष्य के साथ देश के विकास की भी नीव रखती है ऐसे में NCR से जुड़े जिलो में शिक्षा को अधिक महत्त्व दिया जायेगा व यहाँ पर नए नए शिक्षण संस्थान शुरू किये जायेगे जिससे की लोगो को बेहतरीन शिक्षा उपलब्ध करवाई जा सके.

यातायात सुविधा – हाल में कई क्षेत्रो में यातायात की भारी कमी देखने को मिलती है व खासकर रात में लोगो को यातायात की समस्या अधिक होती है क्युकी इस वक्त ज्यादा वाहन उपलब्ध नहीं होते ऐसे में NCR के लिए बहुत ही बड़ा फायदा है क्युकी इन शहरो में देश के किसी भी कोने में जाने के लिए 24 घंटे की यातायात सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी

बैंक, अस्पताल, रेस्टोरेंट –  यह तीनो चीजे ऐसी है जिसकी हर स्थान पर जरुरत होती है व हर व्यक्ति को इसकी जरुरत होती है ऐसे में NCR के सभी जिलो एवं शहरों में bank व्यवस्था, अस्पताल व्यवस्था एवं रेस्टोरेंट व्यवस्था उपलब्ध करवाई जाएगी ताकि यहाँ के लोगो को बेहतर सुविधा उपलब्ध करवाई जा सके और इन चीजो के लिए उन्हें किसी प्रकार की परेशानी न उठानी पड़े

आपातकालीन आवास – जो शहर या जिले NCR में आते है इन सभी जिलो में आपातकालीन आवास की व्यवस्था की जाएगी ताकि जरुरत पड़ने पर किसी भी व्यक्ति को यहाँ रहने की सुविधा मिल सके एवं इन आपातकालीन आवास में रहने की व्यवस्था को मुफ्त रखा गया है इसके लिए आपको किसी भी प्रकार का पैसा खर्च नहीं करना है ना ही आपको कोई किराया आदि देना होगा इस तरह से यह सुविधा हर व्यक्ति के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है.

रोजगार के अवसर – जब कोई जिला NCR में आता है तो वहां पर विकास तेजी से बढने लगता है व इसके कारण वहां नए नए रोजगार शुरू होते है एवं नयी नयी कंपनी शुरू होती है इस कारण से लोगो को रोजगार प्राप्त करने में भी काफी ज्यादा आसानी होगी और आपको अच्छा रोजगार मिलने की संभावना भी काफी ज्यादा बढ़ जाती है.

तेजी विकास – अन्य जिलो की तुलना में NCR के अंतर्गत आने वाले जिलो का विकास काफी तेजी से होता है इसकें कई अलग अलग कारण होते है एवं साथ ही बड़े बड़े इन्वेस्टर भी इन जगहों पर पैसा लगाने में रूचि रखते है इस कारण से इन क्षेत्रो में तेजी विकास होने लगता है और यहाँ के लोगो को बेहतरीन सुविधाए उपलब्ध होती है.

सुरक्षा – अगर सुरक्षा के बार में कहा जाये तो NCR में लोगो को बेहतरीन सुरक्षा उपलब्ध करवाई जाती है क्युकी इन क्षेत्र में सिक्यूरिटी हमेशा काफी ज्यादा टाइट रखी जाती है जिसका फायदा आम जनता को होता है और उन्हें 24 घंटे की बेहतरीन सुरक्षा मिल जाती है इस कारण से यहाँ रहने वाले लोगो को अच्छी सुरक्षा मिल जाती है.

प्रोपर्टी में लाभ – जहां आम शहरों की प्रोपर्टी की कम प्राइज होती है वही NCR में आने के बाद उस क्षेत्र में आने वाली सही प्रॉपर्टी काफी ज्यादा महँगी हो जाती है इसका लाभ वहां के लोगो को मिल जाता है जिन्होंने वहां पर जमीन खरीद कर रखी है, उनकी जमीन और प्रोपर्टी की कीमतों में भारी तेजी देखने के लिए मिल सकती है.

यह सभी अलग अलग प्रकार की सुविधाए NCR के नागरिको को प्रदान की जाती है इसके अलावा भी इन्हें अन्य कई तरह की सुविधाए भी दी जाती है जो राज्य के आम जिलो की तुलना में काफी बेहतर है.

NCR के नुकसान

जिस तरह से NCR में आने के बाद शहरों को कई तरह के लाभ होते है वैसे ही कई तरह के नुकसान भी होने की संभावना बढ़ जाती है हम आपको इसके कारण होने वाले कुछ नुकसान के बारे में बता रहे है जिनके बारे में आपको पता होना जरुरी है.

ज्यादा प्रदूषण – जब कोई जिला NCR में आता है तो इसके बाद वहां पर कंपनी, फेक्ट्री और यातायात बहुत ही तेजी से बढ़ने लग जाते है इसका परिणाम यह होता है की उन क्षेत्रो में प्रदुषण भी काफी तेजी से बढ़ने लगता है और इसके कई तरह के नुकसान होते है जिसके बारे में शायद आप सभी को पता ही होगा.

अधिक टेक्स – हाल में हर प्रदेश को एक सामान टेक्स भरने होते है लेकिन जैसे ही कोई प्रदेश NCR के अंतर्गत चला जाता है तो उसके बाद उस शहर पर कई तरह के टेक्स बढ़ जाते है जिसका बोझ सीधा वहां रहने वाली जनता के ऊपर पड़ता है एवं इसके कारण महंगाई बढ़ने की संभावना भी बढ़ जाती है इस कारण से NCR आम जनता के लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है.

छोटे व्यापारियों का नुकसान – जब कोई जिला NCR में आता है तो वहां विकास तेजी से बढ़ने लगता है और बड़े बड़े बिजनेस शुरू हो जाते है जिसका असर सीधा छोटे व्यापारी के ऊपर पड़ता है और उनका धंधा मंदा पड़ने लग जाता है एवं निरंतर बिजनेस में नुकसान देखने के लिए मिलता है एवं साथ में व्यापारियों के टेक्स आदि भी बढ़ जाते है.

वाहनचालको को नुकसान – जैसा की आप लोग जानते होगे की एनसीआर ने 10 साल पुराने डीजल वाहनों एवं 15 साल पुराने पेट्रोल-वाहनों के ऊपर रोक लगा दी है जिसका असर सीधा वहां की जनता के ऊपर पड़ता है क्युकी वो लोग पुराने वहां नहीं चला पायेगे इसके कारण उन्हें पुराने वाहन सस्ते दामो में बेचकर नए वहां खरीदने होगे जो की एक आम व्यक्ति के लिए बहुत बड़ी बात होती है.

इस तरह से NCR के कुछ नुकसान भी होते है व दोनों का अनुपात निकाला जाये तो फायदों से ज्यादा इसके नुकसान ही देखने के लिए मिलते है जिसके कारण कई लोगो को NCR में रूचि होती है तो कई लोग NCR में रहने की रूचि नही रखते.

NCR FAQ

NCR प्लानिंग बोर्ड की स्थापना कब हुई?

उत्तर – भारत में NCR प्लानिंग बोर्ड की स्थापना सन् 1985 में की गयी थी.

NCR में कुल कितने जिले है?

उत्तर – NCR में भारत के 3 राज्य हरियाणा, राजस्थान, उत्तरप्रदेश के कुल 22 जिले शामिल है एवं दिल्ली भी इसमें शामिल है.

दिल्ली भारत की राजधानी कब बनी?

उत्तर –  दिल्लो की भारत की राजधानी 13 फरवरी 1931 को बनाया गया था व इससे पहले भारत की राजधानी कोलकाता (कलकत्ता) थी.

YouTube video

Calculation –  इस आर्टिकल में हमने आपको NCR Full Form क्या है व NCR के अंतर्गत कौन कौन से शहर आते है इसके बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी पसंद आयी होगी अगर आप इसके बारे में कोई सवाल पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट कर के पूछ सकते है व जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर भी जरूर करें.

HSC Full Form in Hindi  BTS Full Form in Hindi 
ICSE Full Form in Hindi B.Tech Full Form in Hindi
BRO Full Form in Hindi BRICS Full Form in Hindi
ISC Full Form in Hindi BRB Full Form in Hindi
BPO Full Form in Hindi  LLM Full Form in Hindi
BPL Full Form in Hindi BOB Full Form in Hindi
BMW Full Form in Hindi MSC Full Form in Hindi
BMT Full Form in Hindi  VDO Full Form in Hindi
EMI Full Form in Hindi  BMS Full Form in Hindi 
Mobile Full Form in Hindi  MS Full Form in Hindi
BMR Full Form in Hindi RO Full Form in Hindi 
RSVP Full Form in Hindi  JOB Full Form in Hindi
BMI Full Form in Hindi NIIT Full Form in Hindi
TSP Full Form in Hindi BMD Full Form in Hindi
CPT Full Form in Hindi NCC Full Form in Hindi
PGDM Full Form in Hindi BMC Full Form in Hindi
BLOB Full Form in Hindi  PUC Full Form in Hindi 
ACC Full Form in Hindi  AM PM Full Form In Hindi
Bachelor Meaning in Hindi  I Love You Full Form in Hindi
SEO Full Form in Hindi  NCTV Full Form in Hindi 
SIR Full Form in Hindi PUBG Full Form in Hindi
OBC Full Form in Hindi  KGF Full Form in Hindi 
POK Full Form in Hindi  MSCIT Full Form in Hindi 
BKU Full form in Hindi  PGT Full Form in Hindi
NCR Full Form in Hindi BIS Full Form in Hindi
BIOS Full Form in Hindi OK Full Form in Hindi
CID Full Form in Hindi  BIFR Full Form in Hindi
DP Full Form in Hindi  BFSI Full Form in Hindi
ASP Full Form in Hindi  INR Full Form in Hindi 
IPS Full Form in Hindi BHIM Full Form in Hindi
BDO Full Form in Hindi  ASLV Full Form in Hindi
BCG Full Form in Hindi BCE Full Form in Hindi 
ASAT Full Form in Hindi BCCI Full Form in Hindi 
BCA Full Form in Hindi  ASAP Full Form in Hindi
ARDS Full Form in Hindi ARMD Full Form in Hindi
NOTA Full Form in Hindi APK Full Form in Hindi
BEP Full Form in Hindi India Full Form in Hindi 
APJ  Full Form in Hindi BBA Full Form in Hindi 
SMS Full Form in Hindi BASIC Full Form in Hindi
AMW Full Form in Hindi BARC Full Form in Hindi
BDS Full Form in Hindi BAMS Full Form in Hindi
API Full Form in Hindi POA Full Form in Hindi
BAE Full Form in Hindi DJ Full Form in Hindi
TGT Full Form in Hindi BA Full Form in Hindi
AMUL Full Form in Hindi  NCB Full Form in Hindi 
NDRF Full Form in Hindi BTC Full Form in Hindi
MCWG Full Form in Hindi Email Full Form in Hindi 
MBA Full Form in Hindi  AML Full Form in Hindi 
TC Full Form in Hindi AMC Full Form in Hindi
GST Full Form in Hindi ETC Full Form in Hindi 
LLB Full Form in Hindi  ATM Full Form in Hindi
WiFi Full Form in Hindi Computer Full Form in Hindi
ALS Full Form in Hindi  KYC Full Form in Hindi 
ICICI Full Form in Hindi SOS Full Form in Hindi
PNR Full Form in Hindi LED Full Form in Hindi
ASR Full Form in Hindi  CBI Full Form in Hindi
AIDS Full Form in Hindi ATS Full Form in Hindi
IIT Full Form in Hindi AICTE Full Form in Hindi 
AHRC Full Form in Hindi  ATP Full Form in Hindi 
ADR Full Form in Hindi AT&T Full Form in Hindi
ATA Full Form in Hindi  ADHD Full Form in Hindi
ADIDAS Full Form in Hindi ADB Full Form in Hindi
AD Full Form in Hindi ACU Full Form in Hindi
ACS Full Form in Hindi ACP Full Form in Hindi
ACD Full Form in Hindi  RIP Full Form in Hindi
AC Full Form in Hindi ABS Full Form in Hindi 
NEET Full Form In Hindi ABM Full Form in Hindi
HIV Full Form in Hindi  EEG Full Form In Hindi
ABP Full Form in Hindi OPD Full Form in Hindi 
ABG Full Form in Hindi EDTA Full Form In Hindi
ECG Full Form In Hindi EBC Full Form In Hindi 
AAI Full Form in Hindi DVD Full Form In Hindi
NDA Full Form in Hindi DSP Full Form In Hindi 
BBC Full Form in Hindi  DSLR Full Form In Hindi
VIP Full Form in Hindi ICU Full Form in Hindi 
DRDO Full Form In Hindi  DLC Full Form in Hindi
ISD Full Form in Hindi B.Com Full Form in Hindi
DPT Full Form In Hindi  NOC Full Form in Hindi
DNC Full Form In Hindi MBBS Full Form in Hindi
DIG Full Form In Hindi SI Full Form in Hindi
DC Full Form In Hindi  CEO Full Form in Hindi
DBT Full Form In Hindi CVV Full Form In Hindi
CISF Full Form in Hindi BSC Full Form in Hindi
CTET Full Form In Hindi BFF Full Form in Hindi
AIIMS Full Form In Hindi CTBT Full Form In Hindi 
COPD Full Form In Hindi CHC Full Form In Hindi
ARMY Full Form In Hindi APMC Full Form In Hindi
CFC Full Form In Hindi ANM Full Form In Hindi 
AEPS Full Form In Hindi IAS Full form in Hindi 
ADM Full Form In Hindi  CDO Full Form In Hindi
CPU Full Form In Hindi CGL Full Form In Hindi 
PFI Full Form in Hindi DDT Full Form In Hindi 
JEE Full Form in Hindi DA Full Form In Hindi 
NRI Full Form in Hindi CRP Full Form In Hindi
DM Full Form in Hindi CrPC Full Form In Hindi 
CPR Full Form In Hindi CSC Full Form In Hindi 
CNG Full Form In Hindi BPED Full Form In Hindi
IVF Full Form In Hindi ASEAN Full Form in Hindi
BEMS Full Form In Hindi CDS Full Form In Hindi
ASCII Full Form in Hindi  PGDCA Full Form in Hindi 
CS Full Form in Hindi  KVS Full Form In Hindi
CGPA Full Form in Hindi SSC GD Full Form In Hindi 
CCA Full Form in Hindi BHMS Full Form in Hindi
CTI Full Form in Hindi  BE Full Form in Hindi
PHD Full Form in Hindi  B Ed Full Form in Hindi
CCC Full Form in Hindi  BSF Full Form in Hindi
UAPA Full Form in Hindi CTC Full Form in Hindi 
ICT Full Form in Hindi MC Full Form in Hindi
FD Full Form in Hindi  RTGS Full Form in Hindi 
CO Full Form in Hindi CT Scan Full Form In Hindi
RTA Full Form in Hindi BJP Full Form In Hindi
PCS Full Form in Hindi ASI Full Form In Hindi 
ARO Full Form In Hindi TBH Full Form in Hindi 
ITI Full Form in Hindi BC Full Form in Hindi
CM Full Form In Hindi NTPC Full Form in Hindi
BODMAS Full Form in Hindi  ACH Full Form In Hindi
CCTV Full Form In Hindi CCE Full Form In Hindi 
TDS Full Form in Hindi POC Full Form in Hindi
SSLC Full Form in Hindi EEE Full Form in Hindi
CBSE Full Form In Hindi IP Full Form in Hindi 
TRP Full Form in Hindi  LCM Full Form In Hindi 
Cat Full Form In Hindi ED Full Form in Hindi
CV Full Form in Hindi CAG Full Form In Hindi 
NEFT Full Form in Hindi BPSC Full Form In Hindi
GDP Full Form in Hindi BPM Full Form In Hindi 
DNA Full Form in Hindi OTT Full Form in Hindi
BLO Full Form In Hindi CABG Full Form in Hindi
SDM Full Form in Hindi  CAA Full Form in Hindi
AJAX Full Form in Hindi  Google Full Form in Hindi 
BPD Full Form In Hindi MD Full Form in Hindi 
AIAA Full Form in Hindi  CA Full Form in Hindi
CRPF Full Form in Hindi  BUN Full Form in Hindi 

 

पिछला लेखअजीनोमोटो क्या है व Ajinomoto Side Effects in Hindi
अगला लेखSapne Me Billi Dekhna? सपने में बिल्ली दिखते ही हो सकते है आप अमीर

2 टिप्पणी

  1. बागपत है तो वहा विकास क्यों नहीं किया जाता हैं, वहा पर कोई भी सुविधा नहीं मिल पा रही है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें