मध्य प्रदेश में कितने जिले हैं?

आज हम आपको मध्य प्रदेश में कितने जिले हैं इसके बारे में बताने वाले है। हाल में हर एक व्यक्ति को मध्यप्रदेश के सभी जिलो की जानकारी पता होनी आवश्यक है। अगर आप मध्यप्रदेश के निवासी है या आप किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे है तो ऐसे में मध्य प्रदेश में कुल कितने जिले हैं यह जानकारी बहुत अधिक उपयोगी साबित हो सकती है।

मध्य प्रदेश में कितने जिले हैं

अक्सर कई लोगो के मन में मध्यप्रदेश के जिलो के बारे में अलग अलग प्रकार के सवाल होते है। की इस राज्य में कुल कितने जिले है, सभी जिलो के नाम क्या है और मध्यप्रदेश में कितने संभाग है तो इस लेख में हम आपको इससे जुडी सम्पूर्ण जानकारी देने वाले है। अगर आप इसके बारे में विस्तृत रूप से जानना चाहते है तो मध्य प्रदेश में कितने जिले हैं, यह लेख ध्यान से पढ़े।

मध्य प्रदेश में कितने जिले हैं

मध्य प्रदेश की स्थापना 1 नवंबर, 1956 को हुई थी। इस राज्य की स्थापना भारत के राज्य पुनर्गठन अधिनियम, 1956 के तहत की गयी थी एवं उस वक्त मध्य भारत का विभाजन करके मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश राज्य की स्थापना की गयी थी। वर्त्तमान समय में मध्य प्रदेश के 55 जिलों के नाम निम्न प्रकार से है:

  • भोपाल
  • राजगढ़
  • रायसेन
  • विदिशा
  • सीहोर
  • श्योपुर
  • मुरैना
  • भिंड
  • अशोकनगर
  • गुना
  • ग्वालियर
  • दतिया
  • शिवपुरी
  • इंदौर
  • खंडवा
  • खरगोन
  • झाबुआ
  • धार
  • बुरहानपुर
  • बड़वानी
  • कटनी
  • छिंदवाड़ा
  • जबलपुर
  • डिंडौरी
  • नरसिंहपुर
  • मंडला
  • बालाघाट
  • सिवनी
  • बैतूल
  • हरदा
  • होशंगाबाद
  • रीवा
  • सतना
  • सीधी
  • सिंगरौली
  • छतरपुर
  • टीकमगढ़
  • दमोह
  • पन्ना
  • सागर
  • निवाड़ी
  • अनूपपुर
  • उमरिया
  • शहडोल

इस प्रकार से इस राज्य में कुल 55 अलग अलग जिले है। आपको सभी जिलो के नाम याद रखने आवश्यक है। अगर आप चाहे तो इन जिलो के नाम किसी नोटबुक में भी लिखकर भी रख सकते है ताकि आपको इन जिलो के नाम याद करने में आसानी हो सके।

मध्यप्रदेश के जिले और संभाग

मध्यप्रदेश राज्य में कुल 55 जिले और 10 संभाग है। प्रत्येक जिले को अलग अलग संभाग में विभाजित किया गया है। हम आपको सभी संभाग और उसके अंतर्गत आने वाले जिलो के नाम बता रहे है, जो की निम्न प्रकार से है:

  • भोपाल संभाग – भोपाल, राजगढ़, रायसेन, विदिशा, सीहोर
  • चंबल संभाग – श्योपुर, मुरैना, भिंड
  • ग्वालियर संभाग – अशोकनगर, गुना, ग्वालियर, दतिया, शिवपुरी
  • इंदौर संभाग – अलीराजपुर, इंदौर, खंडवा, खरगोन, झाबुआ, धार, बुरहानपुर, बड़वानी
  • जबलपुर संभाग – कटनी, छिंदवाड़ा, जबलपुर, डिंडौरी, नरसिंहपुर, मंडला, बालाघाट, सिवनी
  • नर्मदापुरम संभाग – बैतूल, हरदा, होशंगाबाद
  • रीवा संभाग – रीवा, सतना, सीधी, सिंगरौली
  • सागर संभाग – छतरपुर, टीकमगढ़, दमोह, पन्ना, सागर, निवाड़ी
  • शहडोल संभाग – अनूपपुर, उमरिया, शहडोल
  • उज्जैन संभाग – आगर मालवा, उज्जैन, देवास, नीमच, मंदसौर, रतलाम, शाजापुर

इस प्रकार से मध्य प्रदेश में कुल 10 अलग अलग संभाग है और इन सभी संभाग में अलग अलग जिलो को शामिल किया गया है। आप इन सभी संभाग और जिलो के नाम विशेष रूप से याद रखने का प्रयास करें। क्युकी कई बार प्रतियोगी परीक्षा आदि में भी इस प्रकार के सवाल पूछे जा सकते है।

मध्य प्रदेश के सबसे बड़े जिले

क्षेत्रफल की दृष्टी से मध्यप्रदेश के सबसे बड़े 3 जिले निम्न प्रकार से है:

  1. मंडला
  2. छिंदवाड़ा
  3. ग्वालियर

मध्य प्रदेश के सबसे छोटे जिले

क्षेत्रफल की दृष्टी से मध्यप्रदेश के सबसे छोटे जिले निम्न प्रकार से है:

  1. दतिया
  2. खरगोन
  3. हरदा

मध्यप्रदेश से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

मध्यप्रदेश राज्य से जुड़े कई प्रकार के अलग अलग तथ्य है जिन्हें आपको ध्यान में रखना चाहिए। हम आपको इससे जुडी कुछ बेहद ही रोचक जानकारी बता रहे है, जो की निम्न प्रकार से है:

  • मध्यप्रदेश की स्थापना 1 नवंबर, 1956 को हुई थी।
  • मध्यप्रदेश भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य है।
  • मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल है।
  • मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा शहर इंदौर है।
  • मध्यप्रदेश की कुल जनसंख्या 72,626,809 है।
  • मध्यप्रदेश का लिंगानुपात 931 है।
  • मध्यप्रदेश का क्षेत्रफल 3,08,252 वर्ग किलोमीटर है।
  • मध्यप्रदेश का राजकीय पशु ब्रांडेरी बारहसिंगा है।
  • मध्यप्रदेश का राजकीय वृक्ष बरगद का पेड़ है।

मध्यप्रदेश अपनी साभ्यता और संस्कृति के लिए दुनियाभर में काफी ज्यादा लोकप्रिय है एवं राजस्थान के बाद यह दूसरा भारत का सबसे बड़ा राज्य है।