होम Full Form से सम्बंधित MC Full Form in Hindi व MC किसे कहा जाता हैं व...

MC Full Form in Hindi व MC किसे कहा जाता हैं व इसके लक्षण

आज हम आपको इस आर्टिकल में MC Full Form के बारे में जानकारी देने वाले हैं आम जिन्दगी मे हम हमेशा कई बार ये शब्द सुनते हैं व शायद बोलते भी हैं पर बहुत से लोग हैं जिनको नही पता की इसका पूरा नाम क्या होता हैं व ये क्या होता हैं तो आज का हमारा ये आर्टिकल इसी के लिए लिखा गया हैं जिससे की हम आपको MC के बारे मे पूरी जानकारी बता सके.

mc ful form

हमारे देश में हजारों प्रकार की full form का उपयोग होता हैं इसके बारे मे आप जानते ही हैं व MC भी उसमे से ही एक हैं हर व्यक्ति को MC Full Form क्या हैं इसका पता होना बहुत जरुरी हैं क्युँकि भविष्य मे कई बार इस श्ब्द का उपयोग होता हैं जिन लोगो को इसके बारे में पता नही हैं उन्हैंं भी घबराने की जरुरत नही हैं क्युँकि इस आर्टिकल मे आपको इससे सम्बंधित पूरी जानकारी हिन्दी मे प्राप्त होगी.

 यह भी पढ़े – FD Full Form in Hindi और Fixed Diposit क्या होता है

MC Full Form क्या है

इसकेबारे में बारे जानने से पहले हम इसका नाम हिंदी और अंग्रेजी में क्या होता हैं इसके बारे में बता रहे है.

MC Full Form – Menstrual Cycle होता है.

इसको हिन्दी भाषा मे महावारी या‌ मासिक धर्म भी कहा जाता हैं व सभी क्षेत्रों मे इसके अलग अलग नाम रखे गये हैं जो ज्यादातर लोग इसके लिए अपने क्षेत्र में इस्तेमाल किये जाने वाले शब्द का ही इस्तेमाल करते हैं ये महिलाओं मे होने वाली एक प्रक्रिया हैं जो की लगभग 14 वर्ष की युवती से लेकर 45 वर्ष तक की महिलाओं को होती हैं व मासिक धर्म प्रतिमाह निश्चित समय पर होता है.

ज्यादातर लोग सोचते हैं की मासिक धर्म सभी युवतियो में समान उम्र मे शुरु होता हैं पर ये गलत हैं मासिक धर्म 8 वर्ष से 17 वर्ष की उम्र में किसी भी समय शुरु हो सकता हैं व अधिकांश युवतियो मे मासिक धर्म 13 से 17 वर्ष के मध्य शुरु होता हैं किसी भी युवती का मासिक धर्म आना कई सारी बातो पर निर्भर करता हैं जैसे युवती के jeans की रचना, रहन सहन, वातावरण, खान पान आदि.

यह भी पढ़े – PCS Officer कैसे बने और PCS Full Form क्या होता है

मासिक धर्म हर युवती को प्रतिमाह  आता हैं व इसको पीरियड भी कहा जाता हैं एक माह मे एक बार आता हैं ये सामान्यतः 28 से लेकर 35 दिनो का एक चक्र होता हैं व सभी लडकीयो मे इसकी सीमा अलग अलग होती है.

जैसे कुछ लडकीयो का मासिक धर्म 3-5 दिन का होता हैं तो कुछ का 2 से 7 दिन का भी होता हैं व जब तक युवती गर्भवती नही होती तब तक ये क्रम चलता रहता हैं युवती के गर्भवती होने पर मासिक धर्म कुछ माह के लिए रुक जाता हैं व शिशु के जन्म के बाद ये प्रक्रिया पुनः शुरु होती है.

यह भी पढ़े – ITI Full Form क्या हैं व ITI क्या हैं और कैसे करें

MC कितने चरणो‌ में होती है

MC मुख्यतः चार अलग अलग चरणो में होती हैं जिसके बारे मे हम आपको बता रहे हैं जैसे -.

  1. Menstrual Phase – इस चरण मे महिलाओं के गर्भाशय में टूटे हुए अस्तर रक्त के रुप में योनी से निकलते हैं ये सामान्यतः 2 दिन से 3 दिन तक को होता है.
  2. Follicular Phase – ये महिलाओं के मासिक धर्म का पहला चरण होता हैं मासिक धर्म पुरा होने पर ये शुरु होता हैं जब मासिक धर्म का रक्तस्राव बंद होता हैं तब कूप अंडो को छोडने के लिए तैयार होते हैं सामान्यतः ये केवल एक कूप अंडो मे विकसित होता है.
  3. Ovulatory Phase – ये चक्र मासिक धर्म के लगभग 14 वें दिन शुरु होता हैं व इस चरण मे अंडे अंडाशय से मुक्त होने लगते हैं ये फलोपियन ट्युब् में निर्देशित होता हैं व फलोपियन ट्युब मे शुक्राणु मौजुद ना होने पर इसका निषेचन नही होता हैं एव वह अंडा 24 घंटे के अन्दर विघटित हो जाता है.
  4. Luteal Phase – पिछले चरण में निषेचित ना होने वाले कूप के अवशेष को‌ कॉर्पस ल्युटियम कहा जाता हैं व ये गर्भाशय के आंतरिक परत के‌ परत की और जाता हैं जो की रक्तस्राव की शुरुआत का कारण बनता है.

यह भी पढ़े – SSC Full Form क्या हैं व SSC CGL की तैयारी कैसे करे

MC के पहले के लक्षण 

जब भी महिलाओ में यह दौर शुरू होता हैं तो इसके कई लक्षण पूर्व में ही प्राप्त होने लग जाते हैं  लक्षण माहवारी शुरू होने के 5 से 11 दिन पहले शुरू हो जाते हैं.

इन लक्षणों में सिर दर्द, पैरों में सूजन, पीठ दर्द, पेट में मरोड़, स्तनों का ढीलापन अथवा फूल जाने की अनुभूति होती हैं निम्न प्रकार के लक्षण इस दौरान हो सकते है.

यह भी पढ़े –  OK Full Form क्या होता हैं और इसका इस्तमाल कहा होता है

अधिक स्राव पर समस्या 

इस दौरान सामान्य स्राव होने तक कोई समस्या नहीं होती क्युकी यह प्राकृतिक होता हैं पर अगर अधिक स्राव हो रहा हो तो इससे कई प्रकार की गंभीर समस्या भी हो सकती हैं जो निम्न प्रकार की है. 

  • गर्भाषय के अस्तर में कुछ निकलना.
  • थायराइड ग्रन्थि की समस्याएं होना.
  • रक्त के थक्के बनने का रोग होना.
  • दबाव आदि की समस्या.

यह भी पढ़े – CO Full Form in Hindi : CO Officer क्या होता हैं और कैसे बने

अगर अधिक स्राव हो रहा हो तो ऐसे में जल्दी से जल्दी से डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए ताकि बादमे आपको किसी प्रकार की समस्या न हो हमे उम्मीद हैं की आपको हमारे द्वारा बतायी गयी जानकारी MC Full Form अच्छी लगी होगी.

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें