kisan net आज हम आपको Ganna Parchi Calendar 2020 से सम्बंधित जानकारी देने वाले हैं कई गन्ना किसानो को सुविधाएँ देने के लिए सरकार ने एक website kisan.net की शुरुआत की हैं जिससे की गन्ना किसान बेहद आसानी से घर बैठे किसान नेट से  गन्ने की सप्लाई से सम्बंधित पूरी जानकारी आसानी से प्राप्त कर सके आज हम आपको इसी से सम्बंधित पूरी जानकारी बताने वाले‌ हैं की आप गन्ना पर्ची कलैंडर  कैसे देख सकते हैं.

kisan net

उत्तर प्रदेश राज्य देश के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य में से एक है! लेकिन आज भी गन्ना किसानों कि दयनीय स्थिति में अधिक परिवर्तन नहीं हुआ है! किसान नेट के द्वारा ganna parchi calendar की एक बेहद उपयोगी सेवा सरकार द्वारा शुरू की  गयी हैं जिसके बारे में हम आपको बताने वाले है.

हालंकि सरकार द्वारा किसानों के फायदे हैंतु कुछ कदम उठाए हैं, जैसे कि गन्ना का उत्पादन करने वाले किसानों का समर्थन मूल्य बढ़ाया गया है। साथ ही किसानों की दूसरी अहम समस्या गन्ना पर्ची कैलेंडर ना मिलने की वजह से जो उनकी फसल को नुकसान पहुंचता था उसके लिए भी सरकार द्वारा फैसले लिए गए हैं।.

सरकार द्वारा launch की गयी इस kisan net से आप ganna parchi calendar में गन्ना कृषक घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से चीनी मिल, पर्ची निर्गमन, तौल भुगतान व विकास सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी घर बैठे बेहद आसानी से प्राप्त कर सकते हैं आज के आर्टिकल के माध्यम से हम आपको up kisaan net app से सम्बंधित पूरी जानकारी देगे हमारा निवेदन हैं की आप पूरा आर्टिकल ध्यान से पढे ताकि आपको पूरी जानकारी प्राप्त हो सके.

Ganna Parchi Calender होता क्या है?

किसानों द्वारा प्रतिवर्ष खेतों में गन्ने का उत्पादन बड़ी मात्रा में किया जाता है। जिसे देखते हुए चीनी मिलें सभी गन्ना किसानों के खेतों में जाकर उनकी फसलों का ब्यौरा लेती हैं! जिसके बाद वह चीनी मिल अपनी क्षमता के मुताबिक किसानों से उनका गन्ना खरीदने को कहती है.

लेकिन चूंकि बड़ी संख्या में किसान गन्ने का उत्पादन करते हैं! इसलिए एक ही दिन और एक ही समय में गन्ना खरीदना किसी चीनी मिल के लिए संभव नहीं है, जिसे निपटने के लिए चीनी मिल द्वारा सभी किसानों को एक पर्ची बांटी जाती है.

इस पर्ची में किसानों के फसल की जानकारी का रिकॉर्ड होता है! जिसमें फसल को खरीदने की तारीख भी इसमें लिखी होती है। तो एक बार गन्ना पर्ची मिल जाने से किसान के लिए थोड़ा राहत हो जाती है। और प्रची में जिस डेट में उनके फसल की तौल की तारीख लिखी होती हैं उसी दिन किसान को उस मिल पर जाकर अपना गन्ना बेचना पड़ता है.

तो दोस्तों इस तरह आप समझ चुके होंगे कि आखिर गन्ना पर्ची होती क्या है? लेकिन जो गन्ना पर्ची कैलेंडर होता हैं इसमें प्रत्येक साल का ब्यौरा होता हैं जैसे कि इसमें ही वह सभी जानकारियां होती हैं कि किस किसान ने कितना गन्ना बेचा? उस किसान को उसके गन्ने की पूरी पेमेंट मिली या नहीं और किसान के पास अभी गन्ना उत्पादन के लिए कितनी भूमि शेष हैं यह जानकारी गन्ना पर्ची कैलेंडर के माध्यम से मिल जाती है.

उत्तर प्रदेश में हैं कुल 119 चीनी मिलें

जी हां देश के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में 119 से चीनी मिलें इस समय हैं! और अलग-अलग जिलों के आधार पर इन चीनी मिलों में जाकर किसानों द्वारा गन्ने की आपूर्ति की जाती है! लेटेस्ट रिपोर्ट्स के अनुसार उत्तर प्रदेश में लगभग 42 लाख गन्ना किसान हैं.

और इन गन्ना किसानों द्वारा चीनी मिलों को गन्ने की आपूर्ति सहकारी गन्ना विकास समिति जिनकी संख्या कुल 169 है, एवं चीनी मिल समिति जो की टोटल 14 हैं द्वारा उत्तर प्रदेश में की जाती है.

बता दें! प्रत्येक चीनी मिल हर साल एक टाइम पीरियड में पेराई फैशन चलाती है! और यह वह समय होता हैं जब किसानों से गन्ने की आपूर्ति की जाती हैं और इस कार्य में सहयोग के लिए एक सट्टा नीति बनाई गई है। तो अब हम सट्टा नीति के बारे में समझें उससे पहले आपको बता दें हर किसान एक बेसिक कोटा समितियों द्वारा तय किया जाता हैं और इसकी गणना भी समितियों द्वारा की जाती है.

सट्टा नीति क्या है?

वे सभी किसान जो इन समितियों के सदस्य तौर पर इनसे काफी लंबे समय से जुड़े होते हैं! उनके लिए समितियां सट्टा निर्धारित करती हैं अब यह सट्टे से हमारा मतलब यह हैं कि मिलों को जो गन्ना सौंपा जाता हैं उसका निर्धारण करना! इस कार्य के लिए समितियों की तरफ से किसानों की भूमि तथा उनकी फसल का आकलन किया जाता हैं और किसानों द्वारा अवेलेबल की गई जानकारी के आधार पर सट्टा निर्धारित होता है.

उसके बाद मिल द्वारा किसानों को पर्ची जारी की जाती हैं और इस पर्ची की मदद से ही किसान अपना गन्ना मिल को बेच पाते हैं। किसानों से गन्ने को उचित दाम में खरीदने के लिए सरकार द्वारा अनेक क्रय केंद्र भी स्थापित किए गए हैं जहां पर किसान दी गई पर्ची को दिखाकर अपना गन्ना बेच सकता है.

Kisan Net क्या है

पहले गन्ना किसानो को भुगतान प्राप्त करने के लिए बेहद मेहनत करनी होती थी व कई दिनो तक मेहनत करने व ऑफिस आदि के बार बार चक्कर लगाने पर उन्हैंं भुगतान प्राप्त होता था जिससे गन्ना किसान बेहद परेशान होते थे.

समय पर‌ भुगतान ना होने का सीधा असर उनकी फसलों पर पडता था सरकार ने उनकी सहायता के लिए एक website launch की जिसके माध्यम से वो गन्ने की पर्ची की पूरी जानकारी अपने मोबाइल, कम्प्यूटर, साइबर कैफे आदि से आसानी से देख सकते हैं.

यह सेवा उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा शुरू की गयी हैं जिसके माध्यम से आप गन्ना पर्ची से सम्बंधित किसी भी प्रकार की जानकारी online प्राप्त  कर सकते हैं इस सेवा के शुरू होने से गन्ना की खेती करने वाले किसानो को बहुत फायदा मिला हैं क्युकी इससे वो किसी भी प्रकार की जानकारी को घर बैठे ही प्राप्त कर सकते हैं इसके लिए उन्हैंं किसी को भी जानकारी के लिए किसी को भी पैसे देने की जरुरत नहीं पड़ती.

दोस्तों यदि आप गन्ना पर्ची कैलेंडर देखना चाहते हैं! तो आपको kisaan.net वेबसाइट के बारे में भी जानना जरूरी हो जाता है। यह वेबसाइट उत्तर प्रदेश के सभी गन्ना किसानों के लिए बनाई गई है, सभी गन्ना किसान इस वेबसाइट पर अपना गन्ना सप्लाई कर अपने गन्ने से जुड़ी सारी जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं.

बता दें पहले समितियों के मिल खुलने के 4 दिन पहले ही यह सूचित कर दिया जाता था और वहीं पर गन्ना पर्ची कैलेंडर मिल द्वारा समितियों को गन्ना पर्ची कैलेंडर देती थी। लेकिन आज के समय में पर्ची न मिलने की वजह से कई किसानों की फसलें बर्बाद हो जाती है। जिसे देखते हुए राज्य सरकार द्वारा ऑनलाइन गन्ना पर्ची कैलेंडर के लिए एक वेबसाइट शुरू की हैं जिसका नाम हैं www.kisaan.net.

इस वेबसाइट पर आप अपने गांव का कोड और अपना कोड enter कर अपनी सारी जानकारी गन्ना फसल से जुड़ी इंटरनेट पर देख सकते हैं! और उसका प्रिंट भी निकाल सकते हैं यह पूर्ण आपको आपकी गन्ना पासबुक में मिल जाएगी.

आप एक किसान हैं तो बता दें यह सारे आंकड़े चीनी मिलों से लिए जाते हैं! और यदि आपकी चीनी मिल यहां दी गई लिस्ट में नहीं होती हैं तो आप अपने सोसायटी सचिव जिला गन्ना अधिकारी से भी कांटेक्ट कर सकते हैं! और उनसे आप इसकी रिक्वेस्ट कर सकते हैं ताकि आपकी वाली शुगर मिल का डाटा kisaan.net के पास अवेलेबल किया जाए.

लेकिन अभी हाल ही में 2020 में यह लेटेस्ट अपडेट सुनने को मिल रहा हैं कि kisaan.net वेबसाइट पर गन्ना पर्ची कैलेंडर नहीं दिखाया जा रहा है! तो ऐसे में कई सारी किसान भाई जो इससे परेशान हो चुके हैं उनके लिए हम गन्ना पर्ची कलैंडर का लेटेस्ट तरीका शेयर कर रहे हैं, जिससे आप गन्ना पर्ची कैलेंडर देख सकते हैं.

My Kisan Net Application क्या है

उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा एक android application को भी launch किया गया हैं जिससे आप बहुत आसानी से किसी भी प्रकार की जानकारी को अपने mobile पर भी प्राप्त कर सकते हैं व इसके लिए आपको सिर्फ play store से एक apps download करना होता हैं उस apps के बारे में हम आपको यहाँ पर जानकारी बता रहे है.

अगर आप चाहो तो आप app को अपने मोबाइल में download करके भी गन्ना पर्ची सम्बंधित पूरी जानकारी अपने मोबाइल में ही प्राप्त कर सकते हैं kisan net app download करने के लिये नीचे दी गई link पर click करें।.

Kisan Net Application

अगर आप चाहो तो play store पर जाकर kisan net  search कर सकते हैं वहा आपको जो पहला apps दिखाई देगा आपको उसपर click कर देना हैं व उसके बाद आपको वो app डाउनलोड करना होगा उसके बाद आप उस apps का इस्तमाल कर सकते है.

Ganna Parchi Calendar कैसे देखे

अगर आप चाहो तो गन्ना पर्ची कैलेंडर देखने के लिए kisaan net application का भी इस्तमाल कर सकते हैं इस website पर भी आपको गन्ना पर्ची से सम्बंधित पूरी जानकारी मिल जाती है.

गन्ना पर्ची कैलेंडर देखने  के लिए आपको कुछ step को follow करना हैं जिससे की आप इसकी पूरी जानकारी अपने mobile आदि पर प्राप्त कर सके.

1 Visit Official Website

सबसे  आपको अपने फोन में कोई भी browser open कर के उसने www kisaan net  को search कर लेना है.

2. Enter Captcha

अब यह website open होने के बाद आपको एक number मिलेगा उसको आपको खाली जगह में भर लेना है.

3. Fill Information

अब आपके  सामने एक नया page open होगा  उसमे आपको कुछ मांगी गयी जानकारी को भरना होता है.

इसमें आपको कुछ इस प्रकार  की जानकारी का चयन करना होता है.

  • पूर्वी उत्तर प्रदेश
  • केंद्रीय उत्तर प्रदेश
  • पश्चिमी उत्तर प्रदेश
  • बिहार

4. Select Login

अब आपको 2 option मिलेंगे उसमे से आपको किसान लॉगिन के option को चुनना होगा.

5. Fill Information

अब आपके सामने एक new page open होगा उसमे आपको कुछ मांगी  गयी जानकारी को भरना होगा.

  • अब आपको वर्ष का चयन करना होगा
  • अब आपको समिति को चुनना होगा
  • अब आपको क्रय केंद्र चुनना है
  • अब आपको गाव को चुनना है
  • अब आपको  किसान  को चुनना है
  • अब आपको एक code मिलेगा उसको आप खाली जगह पर भर ले

अब आपके सामने आपके गन्ना पर्ची कलेण्डर से सम्बंधित जानकारी का पूरा ब्यौरा आ जाएगा जिसमे आप अपनी जरुरी जानकारी आसानी से देख सकते हैं व आप चाहो तो उसकी print भी निकाल कर अपने पास रख सकते हैं ताकि आवश्यकता पड़ने पर आप उसका इस्तमाल कर सके.

Calculation – मित्रों हमे उम्मीद हैं की आपको हमारे द्वारा बताई गयी जानकारी ganna parchi calender 2020 कैसे देखे जरुर पसन्द आई होगी व अगर आप up kisan net से  सम्बन्धित कोई सवाल पूछना चाहो तो आप हमे comment कर सकते हैं व अगर आप चाहो तो आप हमें facebook , twitter, instagram  जैसे social platform पर follow कर सकते हैं व जानकारी अच्छी लगे तो आप इसको share भी जरूर करे.
पिछला लेखASCII Full Form in Hindi : ASCII क्या है पूरी जानकारी
अगला लेखMy Jio Login कैसे करें व Jio Account कैसे बनाये
मै रघुवीर चारण PMO Yojana का संस्थापक हूँ हमें लेख लिखना व किताब पढ़ना बेहद पसंद है है हम शिक्षा, कंप्यूटर, मोबाइल, सरकारी नौकरी, नई योजनाओं व इस प्रकार की अन्य कई जानकारी इस Website पर लिखते है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें