नमस्कार मित्रो आज हम आपको IVF Full Form In Hindi के बारे में बता रहे है अक्सर कई लोग IVF के बारे में सवाल पूछते है की यह क्या होता है और इसका पूरा नाम आदि क्या होता है तो इसकी पूरी जानकारी हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बतायेगे ताकि आपको इसकी पूरी जानकारी हिंदी में प्राप्त हो सके.

IVF Full Form In Hindi

IVF Treatment पूरी दुनिया में काफी पोपुलर हो चुका है व अक्सर यह शब्द हम सभी के सुनने में आता है एवं आपको IVF के बारे में पूर्ण जानकारी होनी बेहद ही आवश्यक है यह बांजापन का इलाज करने के लिए बहुत ही उपयोगी होता है व IVF के बारे में जानने के लिए आप IVF Full Form In Hindi आर्टिकल को ध्यान से पढ़े.

IVF Full Form In Hindi

IVF क्या होता है और इसका इस्तमाल कब और कैसे किया जाता है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको इसके पुरे नाम के बारे में बता देते है.

IVF Full Form – In Vitro Fertilization

हिंदी में इसे विट्रो फर्टिलाइजेशन भी कहा जाता है व ज्यादातर लोग इसको टेस्ट ट्यूब बेबी के नाम से भी जानते है यह गर्भधारण करने की कृतिम प्रक्रिया होती है एवं इस प्रक्रिया द्वारा पैदा होने वाला बच्चा ट्यूब बेबी कहलाता है.

IVF क्या है

जैसा की हमने आपको बताया की यह गर्भधारण करने की एक कृतिम प्रक्रिया होती है यह प्रक्रिया उन महिलाओ के लिए एक वरदान की तरह साबित होती है जो की किसी कारण से गर्भवती नही हो पाती.

हाल में पूरी दुनिया में आईवीएफ की मांग बहुत ही तेजी से बढती जा रही है इसका सर्वप्रथम उपयोग 1978 को इंग्लेंड में किया गया था व इस प्रक्रिया में प्रयोगशाला में महिला के एम्स को और पुरुष के स्पर्म को आपस में मिलाया जाता है और इसके सयोजन से भ्रूण बनता है तो उसे महिला के गर्भाशय में रखा जाता है.

IVF थोड़ी जटिल और महँगी प्रक्रिया होती है इसलिए हर व्यक्ति इसका लाभ  नही ले पाता पर यह प्रक्रिया उन दम्पति के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है जो काफी समय से गर्भधारण का इंतज़ार कर रहे हो और किसी कारणवश उन्हें यह सुख नही मिल पा रहा हो.

IVF प्रक्रिया कब की जाती है

यह प्रक्रिया केवल उन्ही लोगो के लिए होती है जिन्हें हकीकत में इसकी आवश्यकता हो व इसकी जानकारी के लिए आपको अच्छे डॉक्टर से संपर्क करना होता है वो ही स्थिति देखकर उसके आधार पर IVF करवाने की सलाह दे सकते है या अगर इसकी जरुरत न हो तो अन्य इलाज भी दे सकते है एवं डॉक्टर IVF की सलाह निम्न स्थिति में दे सकते है.

  • स्पर्म कम होने की स्थिति में
  • PCOD की स्थिति के कारण ओव्यूलेशन में समस्या होने पर
  • फैलोपियन ट्यूब के साथ समस्या होने की स्थिति में
  • अगर किसी कारणवश दम्पति ने नसबंदी करवाई हो तो
  • दुसरे फर्टिलिटी इलाज में असफल होने पर

निम्न प्रकार की स्थिति में डॉक्टर आपको इस प्रक्रिया को अपनाने की सलाह दे सकते है व अगर कोई दम्पति किसी आनुवाशिकी विकार से पीड़ित है और वो अपने बच्चो में उस प्रकार के विकार नही चाहते तो वो किसी डोनर एग या डोनर स्पर्म का भी प्रयोग कर सकती है.

IVF की जरुरत कब पड़ती है

यह एक बहुत ही खास सवाल होता है की आखिर IVF की आवश्यकता कब पडती है तो इसके कुछ मुख्य कारण होते है उन स्थिति में इसकी आवश्यकता पड़ती है जो निम्न प्रकार से है.

पुरुष प्रजनन क्षमता – यह समस्या कई पुरुषो में पायी जाती है व इसमें शुक्राणु की कमी होना, शुक्राणु की गति, शुक्राणु का आकार, शुक्राणु की ख़राब गुणवत्ता आदि शामिल होती है पर IVF प्रक्रिया में केवल एक स्वास्थ्य शुक्राणु की आवश्यकता पड़ती है.

स्त्री बाँझपन – बहुत से महिलाओं को ओव्यूलेशन की समस्या होती है इसके कारण अनियमित पीरियड्स, पीरियड्स में अधिक दर्द होना, पीरियड्स के दौरान अधिक रक्तश्राव होना या पीरियड्स न आने जैसी कठिनाइयो का सामना करना पड़ता है व इसका सीधा असर प्रजनन शक्ति पर पड़ता है ववम फैलोपियन ट्यूब में ब्लॉकेज बाँझपन का सामान्य कारण हो सकता है ऐसे में अन्डो के विकास के लिए अंडाशय में इंजेक्शन लगाया जाता है.

IVF में गर्भपात की संभावना कितनी होती है

जो दम्पति IVF करवाने की सोच रहे है उन्हें इसके बारे में भी पता होना चाहिए की आखिर इसमें गर्भपात की संभावना कितनी होती है तो हम आपको बता दे की इसमें सामान्य गर्भावस्था में गर्भपात की संभावना होती है उतनी ही IVF में भी होती है एवं सिस्टेड रिप्रोडक्टिव तकनीक आनुवांशिक असामान्यताओं को किसी भी तरह से घटाती या बढ़ाती नही है.

IVF से गर्भवती होने में कितना समय लगता है

जो महिलाए IVF के बारे में सोच रही है तो यह जरुर जानना चाहती है की आखिर IVF का इस्तमाल करने से वो कितने समय में गर्भवती हो सकती है तो हम आपको बता दे की इसमें आप बहुत ही कम समय में गर्भवती हो जाती है सामान्यत IVF साईकिल पूरी होने में 4 से लेकर 6 सप्ताह तक का समय लगता है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको IVF Full Form In Hindi के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरुर करें और इससे जुडा किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट करके बता सकते है.

पिछला लेखमोबाइल में पीडीएफ कैसे बनाते है ( Mobile Me PDF Kaise Banaye )
अगला लेखउत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से संपर्क कैसे करें
मै रघुवीर चारण PMO Yojana का संस्थापक हूँ हमें लेख लिखना व किताब पढ़ना बेहद पसंद है है हम शिक्षा, कंप्यूटर, मोबाइल, सरकारी नौकरी, नई योजनाओं व इस प्रकार की अन्य कई जानकारी इस Website पर लिखते है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें