73वें स्वतंत्रता दिवस पर भाषण independence day speech in hindi  नमस्कार मित्रों आपका PMO Yojana मे स्वागत हैं आज हम आपको स्वतंत्रता दिवस पर भाषण बताने वाले हैं जैसा की आप जानते ही हैं की कुछ ही दिनो में स्वतंत्रता दिवस आने वाला हैं व बच्चे भी इस त्योहार पर कौनसा भाषण खोज रहे हैं तो ऐसे में आज हम आपको बेहतरीन speech बताने वाले हैं जिसे आप स्वतंत्रता दिवस पर बोल सकते हैं।independence day speech in hindiindependence day speech in hindi हम सब जानते हैं की स्वतंत्रता दिवस पर छोटे बडे सभी बच्चे भाषण बोलते हैं व कठिन शब्दों में लिखा गया भाषण बोलना इतना‌ आसान नही होता इसी को नजर मे रखते हुए हम आज का आर्टिकल लिख रहे हैं ये बहुत आसान व सरल भाषा मे लिखा गया हैं जिसे कोई भी बच्चा बहुत आसानी से बोल सकता हैं व शायद आपने इसना खुबसूरत speech पहले कभी नही पढा होगा ये आज तक का सबसे बेहतरीन speech हैं.

यह भी पढ़े – Republic Day Speech : गणतंत्र दिवस पर शानदार भाषण हिन्दी में

Independence Day क्यों मनाया जाता है 

Independence Day मनाने के बहुत से मुख्य कारण हैं क्युकी 1947 से पहले भारत पर ब्रिटिश शासन का राज था और देश पूर्ण रूप से अंग्रेजो का गुलाम था पर हमारे पूर्वजो ने अग्रेजो की गुलामी दे आजाद होना चाहा 

परिणामस्वरूप कई अलग  अलग क्षेत्रों से स्वतंत्रता सैनानी अग्रेजो के खिलाफ आवाज उठाने लगे और लाखो वीरो ने इसमें अपने प्राणो के बलिदान दे दिए पर आजादी की ज्वाला फिर भी शांत नहीं हुई अग्रेजो ने हर मुमकिन कोशिश की थी की वो भारत को आजाद न होने दे 

पर हमारे पूर्वजो की जिद्द के कारण अंग्रेजो को हारना पड़ा और उनको भारत को आजाद करना पड़ा एक लम्बे दशक के बाद 15 अगस्त 1947 को देश आजाद हुआ था इस  दिन को आज भी भारत के लोग प्रतिवर्ष Independence Day के रूप ,में मानते है 

यह भी पढ़े – Speech About Teachers Day in Hindi : शिक्षक दिवस पर भाषण

Independence Day Speech in Hindi

सभी अध्यापक जी व अध्यापिका जी को मेरा प्रणाम व सभी भाईयों व बहनो को शुभप्रभात मेरा नाम निखिल शर्मा हैं व में कक्षा आठवीं का छात्र हूँ आज का दिवस सभी के लिए बेहद खास हैं आज 15 अगस्त हैं जिसको हम स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं आज में आपको इसी से सम्बंधित कुछ जानकारी आपको बताने वाला हूँ.

जैसा की हम सब जानते हैं की पहले भारत पर  ब्रिटिश साम्राज्य का‌ शासन था व हमारे क्रांतिकारी वीरों ने हमारे देश को आजादी दिलवाने के‌ लिए अथक प्रयास किये थे उन्हीं के मेहनत व हिम्मत के‌ कारण ब्रिटिश शाशन को घुटने टेकने पडे थे व 15 अगस्त 1947 को भारक को स्वतंत्र राष्ट्र घोषित किया गया था। जिसके बाद से हम भारतीय ‌इस दिवस को स्वतंत्रता दिवस के रुप में मनाते हैं.

यह भी पढ़े – Biography of Rabindranath Tagore : रवीन्द्रनाथ का जीवन परिचय

हमारे देश को आजाद कराने मे लाखों वीरों का सहयोग रहा पर दुर्भाग्यवश कई वीरों के नाम इतिहास में नही जोडे गये व कई महान स्वतंत्र सेनानी जिन्होंने हमारे देश को आजाद करने में अहम भूमिका निभाई उनके नाम महात्मा गांधी, चन्द्रशेखर आजाद, भगत सिंह, सरदार वल्लभ भाई पटेल, लाल बहादुर शास्त्री, लाला लाजपत राय आदि  हम सभी वीरों को प्रणाम करते हैं व आज उन्हीं के अथक प्रयासों से हम आजाद भारत में रह रहे हैं इसका श्रेय हम पूर्ण रुप से उन वीरों को देते हैं.

यह एक राष्ट्रीय त्योहार हैं व आज का दिन एक ऐसा दिन हैं जहाँ कोई भी व्यक्ति बिना किसी की अनुमति के व बिना किसी दबाव मे‌ आये अपनी बात स्वतंत्र रुप से सभी के साथ व्यक्त कर सकते हैं व आज बडे ही उत्साह का दिवस हैं जो हमे देश की संस्कृति व देश भक्ति से जोडे रखता है.

यह भी पढ़े – Stories of Moral in Hindi? Stories in Hindi with Moral हिंदी में

अपनी आने वाली पीढ़ी को ब्रिटिश साम्राज्य से आजादी दिलवाने के लिए इन वीरों ने बहुत मेहनत की थी व कई वीरों ने अपना बलिदान दिया ताकि आप आजाद भारत में रह सके दुर्भाग्यवश आज हमारे देश मे कई प्रकार की कुरुतिया जैसे सामाजिक असमानता, भेदभाव, दंगे, हडताल, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, ग़रीबी आदि काफी तेजी से फैल रही हैं जो के हमारे आजाद भारत की नीव को कमजोर कर रही है.

आज हमें भी ये प्रण लेने की जरुरत हैं की हम अपने देश व समाज से इस प्रकार की कुरुतियो को जड से उखाड फैकेगे व  जो लोग इस प्रकार की सोच रखते हैं उन लोगो को भी इसके प्रति सजग करने का प्रयास करेगे ताकि ऐसी कुरुतियो को हम अपनी समाज मे तेजी से मिटा सकते है.

यह भी पढ़े – Govt Teacher कैसे बनते हैं पूरी जानकारी हिन्दी में

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण

सन्न 15 अगस्त 1947 को भारत को ब्रिटिश शासन से पूर्ण रूप से आजादी मिली थी उसके बाद इसी दिन हमारे देश को मौलिक अधिकार भी प्राप्त हुए थे जिसके कारण यह दिन सभी भारतवासियो के लिए बहुत ही गर्व का दिन हैं इस दिन को देखने के लिए लाखो वीर जवानो ने अपना बलिदान दिया तब जाकर हम इस दिन को देख सके 

यह एक ऐसा दिन था जब भारत ने कई वर्षो बाद खुद को पूर्ण रूप से स्वतन्त्र माना और ब्रिटिश शासन के वक्त हमारे पूर्वजो के साथ क्या क्या घटना हुई थी इसके बारे में हमारा इतिहास आज भी हमें बताता हैं और यह सब देख कर हर किसी की आखे नम हो जाती है 

लाखो स्वतन्त्र सेनानियो ने कई दसको तक बेहद कठिन परिश्रम और बलिदान देकर इस देश को आजाद कराया था जिसको हम कभी भी भूल नहीं सकते हैं 1857 में एक भारतीय सैनिक ने पहली बार ब्रिटिश सरकार के खिलाफ आवाज उठाई थी जिसका नाम था मंगल पांडे  

यह भी पढ़े – Bharat Me Kitne Rajya Hai? भारत के सभी राज्य व उनकी राजधानी

इसके बाद से कई स्वतंत्रता सैनानियों ने ब्रिटिश शासन से लम्बे समय तक संघर्ष किया था और उन्होंने होना सब कुछ देश की आजादी के लिए समर्पित कर दिया था जिसका यह परिणाम रहा की ब्रिटिश सरकार को हार माननी पड़ी और उसको भारत को आजाद करना पड़ा 

भगत सिंह, लाला लाजपतराय, चंद्रशेखर आजाद, सुखदेव सिंह जैसे लाखो वीरो ने इस देश को आजाद करने के लिए अपने प्राणो का बलिदान दे दिया था जिसका बलिदान यह देश कभी भी भूल नहीं सकते 

काफी लम्बे संघर्ष के बाद 15 अगस्त 1947 को भारत को आखिर में आजादी मिल ही गयी और अब भारत बेहद ही खुश था क्युकी लम्बे दशक के बाद वापिस भारत के लोग अंग्रेजो की गुलामी दे आजाद हुए थे उसके बाद से ही देश में तेजी से विकास होने लगा और पुरे देश में स्कुल, मंदिर, इमारतों, अस्पतालों के विकास होने लगे जिसका परिणाम हम आज देख सकते है 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें