नमस्कार मित्रो आज हम बात करने वाले है HIV Full Form in Hindi के बारे में अगर आपको HIV के बारे में जानकारी नही है तो इसे में यह आर्टिकल आपके लिए बहुत ही उपयोगी साबित हो सकता है इसमें हम आपको HIV क्या होता है, HIV किसे कहते है और इसके होने के मुख्य कारण क्या होते है इन सब के बारे में हम आपको विस्तृत रूप से बताने वाले है.

HIV Full Form in Hindi

HIV के बारे में हर व्यक्ति को जानकारी होनी बेहद ही आवश्यक है अगर आपको इसके बारे में जानकारी होनी तो यह आपके लिए कई तरह से उपयोगी साबित होगी व जिन लोगो को HIV  के बारे में पता नही है वो व्यक्ति HIV Full Form in Hindi आर्टिकल को ध्यान से पढ़े ताकि आपको इसके बारे में बतायी गयी पूरी जानकारी समझ में आ सके.

HIV Full Form in Hindi

HIV क्या होता है और किसे कहा जाता है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको इसके पुरे नाम के बारे में बता देते है की इसका पूरा नाम क्या है.

HIV Full Form – Human immunodeficiency Virus

हिंदी में इसको मानव प्रतिरक्षी न्यूनता विषाणु कहा जाता है व यह एक प्रकार का वायरस होता है जो की एड्स का मुख्य कारण बनता है व यह एड्स का अंतिम स्टेज माना जाता है.

HIV क्या है

यह बेहद ही घातक विषाणु होता है व इसके कारण ही एड्स होता है व इसे एड्स का अंतिम स्टेज भी माना जाता है यह वो स्टेज होता है जिसमे शरीर इस संक्रमण से लड़ने योग्य नही रहता है और धीरे धीरे यह हमारे इम्युनिटी सिस्टम पर हमला करते है इस कारण से शरीर में तेजी से कमजोरी बढ़ने लगती है और शरीर कई तरह की बीमारियों की चपेट में आ जाता है.

HIV का कोई भी इलाज नही होता पर सक्रमित व्यक्ति को इलाज के द्वारा अधिक समय तक जीवित रखा जा सकता है हालांकि HIV से संक्रमित व्यक्ति अपनी पूरी उम्र नहीं निकाल पाता एवं HIV से बचाव ही इसका एक मात्र इलाज है इसके लिए कंडोम का इस्तमाल करना चाहिए क्युकी अधिकांश लोगो में यह रोग असुरक्षित सम्बन्ध बनाने के कारण ही होता है इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति को लगाई गयी सुई और इंजेक्शन का इस्तमाल स्वास्थ्य व्यक्ति पर किया जाये तो स्वास्थ्य व्यक्ति भी संक्रमित हो सकता है.

HIV और AIDS में क्या सम्बन्ध है

किसी भी व्यक्ति को AIDS सीधे तरीके से नही होता यह किसी भी व्यक्ति में HIV के द्वारा ही बनता है पर यह भी जरुरी नही है की हर व्यक्ति को HIV के कारण एड्स हो क्युकी कई बार लोगो को HIV होने के बाद भी एड्स की समस्या नही होती.

HIV का स्टेज मुख्य रूप से तीन प्रकार का होता हैं जिसके बारे में सभी को पता होना बेहद आवश्यक है यह निम्न प्रकार से है.

  1. यह सबसे तेज स्टेज है जिसमे जो वायरस के संचरण के बाद पहले कुछ हप्तो में होती है.
  2. यह नैदानिक, पुरानी और विलंबता स्टेज होती है.
  3. यह अंतिम स्टेज है जिसमे सही इलाज न होने से रोगी को एड्स हो सकता है.

इस प्रकार से इसके तीन अलग अलग स्टेज होते है व यह किसी भी व्यक्ति के शरीर में कितनी तेजी से एड्स बनता है इसके बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता अगर रोगी को सही इलाज न मिले तो धीरे धीरे यह एड्स का रूप ले लेता है वही अगर मरीज को समय पर उपयुक्त इलाज मिल जाये तो इसको एड्स में परिवर्तित होने से रोका जा सकता है हालांकि रोगी के शरीर में HIV तो हमेशा के लिए रहता है पर वो सामान्य जीवन यापन कर सकता है.

HIV की उत्पत्ति कैसे हुई

हालांकि इस विषय पर हर किसी के अलग अलग मत है वही वैज्ञानिकों की बात करे तो उसके अनुसार इम्यूनोडेफिशियेंसी वायरस का चिम्पांजी वर्जन सबसे अधिक मनुष्य में संचारित किया गया था व धीरे धीरे यह HIV में बदल गया जब मनुष्य द्वारा चिम्पांजी का शिकार करके उन्हें खाया जाने लगा तो इसे में उनके इन्फेक्टेड ब्लड से HIV मनुष्य के अन्दर आ गया कई अध्ययनों के अनुसार यह वाइरस चिम्पांजी से मनुष्य में आया व धीरे धीरे यह पुरे अफ्रिका में फ़ैल गया व इसके बाद यह पुरे विश्व में फ़ैल गया आज विश्व का कोई भी देश इससे बचा हुआ नही है.

HIV कैसे होता है

HIV होने के कई अलग अलग कारण हो सकते है यह कई तरीके से व्यक्ति को अपनी चपेट में ले सकता है इसके कुछ मुख्य कारण हम आपको बता रहे है जिसके कारण यह HIV फैलने का खतरा बढ़ जाता है.

असुरक्षित यौन सम्बन्ध – यौन सम्बन्ध बनाते वक्त कई तरह की जानकारी आपको पता रखनी होती है क्युकी इसमें थोड़ी सी असावधानी भी व्यक्ति को भारी पड़ सकती है अधिकांश लोग इसी के द्वारा HIV की चपेट में आते है इससे बचने के लिए सम्बन्ध बनाते वक्त कंडोम का इस्तमाल करना चाहिए यह HIV से बचाने में काफी उपयोगी होता है.

संक्रमित सुई के कारण – अगर किसी संक्रमित व्यक्ति को कोई सुई लगायी गयी है वो ही सुई किसी स्वास्थ्य व्यक्ति को लगाई जाये तो इससे स्वास्थ्य व्यक्ति भी संक्रमित हो सकता है और उस व्यक्ति को HIV  हो सकता है.

टैटू बनवाने के यंत्र से – हाल में टैटू बनाना एक ट्रेंड की तरह चल रहा है पर इसमें सावधानी बेहद ही जरुरी है अगर आप टैटू बनवाते है तो ध्यान रखे की वो यंत्र अच्छे से धोये गये हो क्युकी अगर सक्रमित व्यक्ति को टैटू बनाने के बाद बिना धोये वो यंत्र अन्य व्यक्ति के लिए इस्तमाल किया जाये तो स्वास्थ्य व्यक्ति भी संक्रमित हो सकता है.

प्रेगनेंसी में –  लेबर पैन के दौरान या बच्चे के जन्म के दौरान महिला से बच्चे में HIV का संचरण किया जा सकता है व इसमें असावधानी रखने पर माँ से शिशु में HIV फ़ैल सकता है.

संक्रमित व्यक्ति के खून से – अगर किसी संक्रमित व्यक्ति का खून स्वास्थ्य व्यक्ति के खून के संपर्क में आ जाता है तो इससे स्वास्थ्य व्यक्ति जल्दी ही संक्रमित हो जाता है और HIV की चपेट में आ जाता है.

HIV कैसे नहीं फैलता

अक्सर HIV को लेकर लोग काफी डर जाते है और मरीज से दूर रहने की कोशिश करते है पर यह कुछ मुख्य परिस्थिति में ही दुसरे व्यक्ति में फैलता है हम आपको कुछ अन्य कारण बता रहे है जिससे संक्रमित व्यक्ति से स्वास्थ्य व्यक्ति में HIV नहीं फैलता.

  • संक्रमित व्यक्ति के पसीने और मूत्र से यह नहीं फैलता
  • संक्रमित व्यक्ति के स्वीमिंग पुल इस्तमाल करने से
  • कीड़ो मकोडो और मच्छर के काटने से
  • संक्रमित व्यक्ति का टॉवल इस्तमाल करने से
  • संक्रमित व्यक्ति को छूने से
  • संक्रमित व्यक्ति के साथ काम करने से
  • संक्रमित व्यक्ति के सामने खाँसने और छींकने से

निम्न परिस्थिति में संक्रमित व्यक्ति से स्वास्थ्य व्यक्ति में HIV नहीं फैलता इसलिए संक्रमित व्यक्ति से दुरी बनाने की बजाय आप उसकी देखभाल करे और सावधानी जरुर बरते ताकि संक्रमित व्यक्ति को भी हौसला मिल सके.

HIV के लक्षण

HIV रोग के कई अलग अलग लक्षण दिखाई देते है जिससे इसके संक्रमण का पता किया जा सकता है पर इसकी सटीक जानकारी आपको चेक अप करवाने से ही मिल सकती है व इस संक्रमण में जो लक्षण दिखाई देते है वो निम्न प्रकार से होते है जैसे की.

  • सरदर्द होना
  • बुखार आना
  • जोड़ों का दर्द होना
  • सूजन ग्रंथियां आना
  • गले में खराश होना
  • मांसपेशियों में दर्द होना
  • त्वचा पर लाल चकत्ते होना

यह सभी इसके मुख्य लक्षण होते है जिनके बारे में आपको पता होना जरुरी है अगर यह सभी लक्षण दिखाई दे तो बिना देरी के आपको अस्पताल में अपना चेक अप करवाना चाहिए और डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए.

HIV टेस्ट का चार्ज कितना है

अगर कोई व्यक्ति HIV टेस्ट करवाता है तो इसका चार्ज हर अस्पताल में अलग अलग हो सकता है इसका चार्ज अस्पताल के नियमानुसार होता है व सामान्यत इस टेस्ट के लिए 1000 से लेकर 2500 रूपए तक का चार्ज लिया जा सकता है इसकी विस्तृत जानकारी आप सम्बंधित अस्पताल से प्राप्त कर सकते है.

HIV टेस्ट कितने समय में होता है

अगर किसी व्यक्ति को HIV टेस्ट करवाना है तो इस टेस्ट में लगभग 2 से 4 घंटे तक का समय लग सकता है व कोई भी व्यक्ति इस बात का ध्यान रखे की इस टेस्ट में आपको 2 घंटे तक का समय लग सकता है इसमें किसी प्रकार की जल्दबाजी काम नहीं आती

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको HIV Full Form in Hindi के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरुर करें करें और इससे जुडा किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट करके भी बता सकते है.

पिछला लेखआलस दूर करने के 10+1 आसान और बेहतरीन तरीके
अगला लेखChalak Kaise Bane : सिर्फ 7 दिन में चंट चालाक कैसे बने
मै रघुवीर चारण PMO Yojana का संस्थापक हूँ हमें लेख लिखना व किताब पढ़ना बेहद पसंद है है हम शिक्षा, कंप्यूटर, मोबाइल, सरकारी नौकरी, नई योजनाओं व इस प्रकार की अन्य कई जानकारी इस Website पर लिखते है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें