आज हम EEE के बारे में बात करने वाले हैं अगर  आपको EEE Full Form के बारे में जानकारी नहीं हैं तो आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए बहुत उपयोगी  हो सकता हैं क्युकी इसमें आज हम आपको ईईई के बारे में पूरी जानकारी बतायेगे की यह क्या होता हैं और इसका अर्थ क्या है.

eee full form

कई बार हम ऐसे बहुत से शब्द सुनते हैं जिसके बारे में हमे ज्यादा जानकारी नहीं होती पर कई शब्द ऐसे भी हैं जिसके बारे में हमे जानकारी  होनी बहुत जरुरी हैं भविष्य में इस प्रकार की जानकारी हम सभी के लिए  बहुत जरुरी हो सकती हैं EEE भी एक ऐसा ही शब्द हैं जिसके बारे में आपको जानकारी होनी बहुत जरूरी है.

EEE Full Form क्या है

EEE के बारे में अन्य जानकारी साझा करने से पहले हम इसका पूरा नाम क्या होता हैं इसके  बारे में जान लेते है.

EEE Full Form – Electrical & Electronics Engineering होता है

हिन्दी में इसे इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग कहा जाता हैं अगर आप‌ इंजिनियरिंग करना चाहते है‌ तो आपको इसका पूरा नाम‌ पता बहुत जरुरी हैं व आप इलेक्ट्रॉनिक इंजिनियर बनना चाहते हैं तो आप ये कोर्स कर सकते हैं इसमे आपको इंजीनियरिंग की पूरी training दी जाती है.

जैसे की इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट्स को डिज़ाइन करना, विकसित करा और टेस्ट करने के लिये प्रैक्टिकल ट्रेनिंग देना आदि इसमे शामिल होते हैं व इसको करने के बाद आप B.Tech कर के आप.कम्युनिकेशन्स, कंट्रोल सिस्टम्स, सिग्नल प्रोसेसिंग, रेडियो फ्रीक्वेंसी डिज़ाइन, माइक्रोप्रोसेसर्स, पॉवर जनरेशन जैसे क्षेत्र में आसानी से नौकरी प्राप्त कर सकते हैं व इसमे अपना भविष्य बना सकते हैं.

आप 10th अथवा 12th उतीर्ण कर के ये कोर्स कर सकते हैं इस कोर्स की अवधि 4 वर्षो की होती हैं इस कोर्स को करने के बाद आपको इलेक्ट्रॉनिक इंजिनियरिंग में B.tec ( बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी ) की डिग्री प्राप्त हो जाती हैं उसके बाद आप इससे जुडे़ किसी भी क्षेत्र में नौकरी कर सकते हैं व इस कोर्स को करने के बाद आपको अच्छे वेतन वाली नौकरी मिलती हैं जिससे की आप काफी अच्छी कमाई भी कर सकते हैं.

EEE Course क्या क्या है

अब हम आपको इसके कोर्स के बारे में बता रहे हैं की इसमें कौन कौनसे कोर्स होते हैं जिसको आप इसमें कर सकते है.

डिप्लोमा- आप इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग में चाहो तो  डिप्लोमा भी कर सकते हैं इसके लिए आप 10वी या 12वी के बाद आवेदन कर सकते हैं इस कोर्स की अवधि 3 वर्ष तक की होती है.

अंडरग्रेजुएट- यह कोर्स करने के लिए आप बाहरवीं के बाद आवेदन कर सकते हैं और यह 4 वर्ष का कोर्स होता हैं इस कोर्स को करने के बादमे आपको बीटेक (बैचलर ऑफ़ टेक्नोलॉजी) की डिग्री प्राप्त हो जाती है.

पोस्टग्रेजुएट- इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग में अगर आप पोस्टग्रेजुएट करना चाहो तो भी कर सकते हैं इसकी अवधि 2 वर्ष को होती हैं और इसमें आवेदन करने के लिए आपका अंडरग्रेजुएट उत्तीर्ण किया हुआ होना जरुरी हैं उसके बाद ही आप इस कोर्स को कर सकते है.

डॉक्टोरल- अगर आपको पीएचडी की डिग्री चाहिए तो आप इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग में डॉक्टोरल कोर्स को चुन सकते हैं इसमें आपको पीएचडी की डिग्री मिल जाती हैं और इस कोर्स को करने के लिए विधार्थियो का किसी भी मान्यताप्राप्त विश्वविधालय से पोस्टग्रेजुएट उत्तीर्ण किया होना जरुरी है.

EEE में आपको यह सभी  प्रकार के कोर्स मिल जाते हैं इसमें से आप अपनी इच्छानुसार कोई भी कोर्स कर सकते हैं और इसके बाद आपको डिग्री भी प्राप्त होती हैं जो की आपको बेहतरीन नौकरी दिलवाने में सहायता करती हैं इसमें अच्छे भविष्य की बहुत अधिक संभावना होती है.

EEE करने करने के लिए जरुरी योग्यता

अगर आप इस कोर्स को  करना चाहते हैं तो इसकी योग्यता के बारे में आपको पता होना बहुत जरुरी हैं अगर आपको इसकी योग्यता के बारे में जानकारी होगी तभी आप इस कोर्स को कर सकते हैं इस कोर्स में निम्न प्रकार की  योग्यता होती है.

  • डिप्लोमा कोर्स – अगर आपको डिप्लोमा करना हैं तो आप यह दसवीं के बाद कर सकते हैं जब आप दसवीं पास कर लेते हैं तो उसके बाद आप इसके  बाद इसके लिए आवेदन कर सकते है.
  • अंडरग्रेजुएट कोर्स – अंडरग्रेजुएट करने के  लिए आपका बाहरवीं उत्तीर्ण होना अनिवार्य हैं तभी आप इसमें आवेदन कर सकते हैं इसके लिए आपको फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स आदि विषयों के साथ बाहरवीं उत्तीर्ण करनी होती हैं उसके बाद  आपको इसके लिए एट्रेंस एग्जाम देना होता हैं उसमे सफल होने के बाद ही आप इसमें आवेदन कर सकते है.
  • पोस्टग्रेजुएट कोर्स – इसमें सिर्फ वो ही विधार्थी आवेदन कर सकते हैं जो की अंडरग्रेजुएट में सफल घोषित किये गए हो इसलिए इसको करने के लिए आपको अंडरग्रेजुएट उत्तीर्ण करना जरुरी हैं इसके बाद आप इसमें आवेदन कर सकते है.

अगर आप इन कोर्स को करना चाहते हैं तो इसके लिए आपका इन योग्यता को पूरा करना जरुरी हैं तभी आप इसके लिए आवेदन कर सकते हैं और आप इस कोर्स को कर सकते है.

ईईई में नौकरी

अगर आप EEE कोर्स को करते हैं तो इसमें आपको कई अलग अलग क्षेत्रों में नौकरी मिलने की भी संभावना रहती हैं और  इसमें आप बहुत से अलग अलग क्षेत्र जैसे प्रोडक्ट डेवलपमेंट, कंट्रोल सिस्टम्स, वायरलेस कम्युनिकेशन, मैन्युफैक्चरिंग, सिस्टम मैनेजमेंट, प्रोडक्ट डिज़ाइन, सेल्स आदि में अपना भविष्य बना  सकते हैं इसमें आपको अच्छी पोस्ट के साथ ही बेहतरीन सैलेरी भी मिल जाती है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको EEE Full Form in Hindi के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है की आपको EEE के बारे में बताई गयी जानकारी जरूर पसंद आयी होगी अगर आपको जानकारी उपयोगी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ  शेयर भी जरूर करें और अगर आप ईईई से संबधित कोई सवाल पूछना चाहो तो आप हमे कमेंट कर सकते है.

पिछला लेखSSLC Full Form in Hindi : SSLC क्या है पूरी जानकारी
अगला लेखPOC Full Form in Hindi : POC क्या होता हैं और इसके फायदे क्या है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें