नमस्कार मित्रो आज हम आपको DM Full Form in Hindi क्या होता है और आप DM कैसे बन सकते है इसके बारे में बता रहे है अक्सर लोगो का सपना होता है की वो  एक सरकारी अधिकारी बने व कई लोग DM बनने का सपना देखते है ऐसे में यह जानकारी आपके लिए बहुत ही उपयोगी होने वाली है इसमें हम आपको डीएम बनने के बारे में पूरी जानकारी बताने  वाले है.

DM Full Form in Hindi

बहुत से लोग अपने जीवन में कई अलग अलग सपने देखते है पर लोगो को पता नहीं होता की वो उस  मुकाम तक कैसे पहुंच  सकते है तो ऐसे में ज्यादातर लोगो का सपना पूरा नहीं हो पाता अगर आप भी DM बनने का सपना देखते है तो इसके लिए आपको DM Full Form in Hindi क्या होता है और DM कैसे बने इसके बारे में जानकारी होनी बेहद ही आवश्यक है.

DM Full Form in Hindi

बहुत से लोगो को DM के पुरे नाम के बारे में पता नहीं होती तो हम पहले आपको इसके नाम के बारे में पूरी जानकारी बता देते हैं

DM full form – district magistrate

हिन्दी मे इन्हैंं जिला न्यायाधीश भी कहते हैं प्रत्येक जिले मे एक ना एक न्यायालय होता हैं वहा  जो न्यायाधीश होते  हैं। उन्हैंं जिला न्यायाधीश कहा जाता हैं.

DM  बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता

DM  बनने के लिए कुछ जरुरी योग्यता रखी गयी है आपको उसे पूरा करना जरुरी है तभी आप इसमें आवेदन कर सकते है जिला न्यायाधीश बनने के लिए  उम्मीदवारों का किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक ( Graduation ) उत्तीर्ण होना अनिवार्य हैं इसके बाद ही आप एक न्यायाधीश बन सकते है.

District Magistrate बनने के लिए उम्र सीमा

जिला न्यायाधीश पद के लिए सभी वर्गो के लिए अलग अलग उम्र सीमा रखी गयी है जो की निम्न प्रकार से है.

  • General – 21 वर्ष से 30 वर्ष तक
  • OBC  – 21 वर्ष से 33 वर्ष तक
  • ST/ST – 21 वर्ष से 35 वर्ष तक

इसके साथ ही आरक्षित वर्गों को उम्र में छूट देने का भी प्रावधान होता है व इसकी विस्तृत जानकारी के लिए आप इसका आधिकारिक नोटिफिकेशन देख सकते है.

District Magistrate के लिए आवेदन कैसे करें

आपको District Magistrate बनना है तो इसके लिए आपको पता होना चाहिए की इसमें आवेदन कैसे करना है तो आप डायरेक्ट कभी भी District Magistrate नहीं बन सकते क्युकी इसकी कभी भी डायरेक्ट भर्ती नहीं आती इसलिए आपको पहले आईएएस बनना होता है व इसके बाद आप प्रमोशन के द्वारा ही जिला मजिस्ट्रेट बन सकते है और इस क्षेत्र में अपना बेहतरीन भविष्य बना सकते.

District Magistrate की चयन प्रक्रिया

जिला न्यायाधीश बनने के लिए  UPSC – Union Public Services Commission द्वारा आवेदन जारी किया जाता हैं व इसके लिए State Civil Service Examination परीक्षा करायी जाती है  व इसमे 3 तरह की चयन प्रक्रिया रखी गयी हैं जिसके आधार पर IAS का चयन किया जाता हैं बादमे पदोन्नति से  जिला न्यायाधीश पद पर चयन किया जाता हैं.

1. प्रारम्भिक परीक्षा – Preliminary Exam

जब आप इसमें आवेदन करते है तो इसके बाद सबसे पहले आपको प्रारंभिक परीक्षा देनी होती है व इसमें आवेदन करने वाले सभी उम्मीदवार हिस्सा लेते है व आपको इसके लिए अच्छी तयारी करनी होगी व इसमें आपको ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाते है आपको जिला मजिस्ट्रेट बनने के लिए इस परीक्षा को उत्तीर्ण करना बहुत ही जरुरी है.

2. मुख्य परीक्षा – Main Exam

जो भी उम्मीदवार प्रारम्भिक परीक्षा में सफल घोषित होते है उन्हें मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है व मुख्य परीक्षा में आपको 9 प्रश्न पत्र दिए जाते है व इसमें से 7 पेपर आपके 250 अंको के होंगे व 2 पेपर आपके 300 अंको के होंगे व इस पेपर को करने के लिए आपको कुल 3 घंटे का समय दिया जाता है इस परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए आपको कड़ी मेहनत करने की आवश्यकता होती है व कड़ी मेहनत के द्वारा ही आप इस परीक्षा में सफल हो सकते है.

3. साक्षात्कार – Interview

जब आप लिखित परीक्षा में सफल हो जाते है तो इसके बाद आपको साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है इसमें आपको एक पेनल के सामने  interview देना होगा इसमें आपके प्रदर्शन के अनुसार आपको अंक प्रदान किये जाते है व अच्छी रैंक के लिए इसके अंक बहुत ही महत्वपूर्ण माने जाते है.

जब आपकी लिखित परीक्षा और साक्षात्कार पूरा हो जाता है तो इसके बाद एक मेरिट जारी की जाती है व उसमे रैंक के अनुसार आपको पोस्ट दी जाती है बादमे आपको कुछ समय तक इसकी ट्रेनिंग देनी होती है जब आप ट्रेनिंग पूरी कर लेते है तो इसके बाद आपको सम्बंधित पोस्ट पर पद्दोनत किया जाता है.

Distinct Magistrate की तैयारी कैसे करे

डीएम बनने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होती है व इसके लिए आपको किस तरह से तयारी करनी चाहिए इसके बारे में हम आपको कुछ आसान और बेहतरीन टिप्स बता रहे है उन्हें अपनकार आप इसमें बेहतर प्रदर्शन दिखा सकते है और बहुत ही अच्छे अंक  प्राप्त कर सकते है.

👉 5 – 6 घंटे पढ़े –  आपको डीएम बनना है तो इसके लिए आपको नियमित रूप से कम से कम 5 या 6 घंटे तक पढाई करनी बहुत ही जरुरी है तभी आप इसकी परीक्षा को आसानी से उत्तीर्ण कर सकते है इस परीक्षा में कॉम्पिटशन बहुत ही अधिक होता है इसलिए आपको एडवांस लेवल पर इसकी तयारी करनी होती है.

👉 कोचिंग करें – इसकी परीक्षा में कॉम्पिटशन बहुत ही ज्यादा होता है इसलिए अगर आप इसकी कोचिंग ज्वाइन कर लेते है तो इससे आपको काफी फायदा होगा व इसे आपको काफी सिखने को मिलता है एवं कोचिंग करने से आप बेहतरीन तरीके से और सटीक तरीके से इसकी  तयारी कर पाएंगे.

👉 पुराने प्रश्न पत्र पढ़े – आपको डीएम बनना है तो इसके लिए पुराने प्रश्न पत्र देखने बेहद ही जरुरी है इससे  आपको इसकी परीक्षा के बारे में काफी सिखने को मिलता है व आपको पता चलेगा की इसकी परीक्षा किस तरह से होती है और किस तरह से इसमें कौनसे सवाल अधिक पूछे जाते है व आपको किस तरह से इसके पेपर देने है इन सब के बारे में आपको पुराने प्रश्न पत्र से जानकारी मिलती है.

👉 सेलेब्स को देखे – आपको डीएम की परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए इसके सेलेबस को देखना बहुत ही जरुरी है व आपको इसके सेलेबस के बारे में जानकारी होगी तो ही आप इसकी सही तरह से तयारी कर पाएंगे  इसलिए आप डीएम परीक्षा का सेलेबस जरूर देख ले.

👉 सभी सब्जेक्ट की किताबे पढ़े – आपको किसी भी कॉम्पिटशन परीक्षा को उत्तीर्ण करना है तो इसके लिए आपको सभी विषय की अलग अलग किताबे पढ़नी चाहिए इससे आपको हर विषय की बहुत ही अच्छी जानकारी प्राप्त हो जाती है व आप सभी सब्जेक्ट की बेहतरीन  तरीके से तयारी कर पाते है इसलिए आपको सभी सब्जेक्ट की अलग अलग किताबे  पढ़नी जरुरी है.

Calculation – हमे उम्मीद है की आपको DM Full Form in Hindi के बारे में दी गयी जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और इससे जुड़ा कोई सवाल पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट करके बता सकते है.

पिछला लेखअखरोट खाने के फायदे और नुकसान क्या क्या होते है पूरी जानकारी
अगला लेखBlogger और WordPress मे SEO Ready Post कैसे लिखें
मै रघुवीर चारण PMO Yojana का संस्थापक हूँ हमें लेख लिखना व किताब पढ़ना बेहद पसंद है है हम शिक्षा, कंप्यूटर, मोबाइल, सरकारी नौकरी, नई योजनाओं व इस प्रकार की अन्य कई जानकारी इस Website पर लिखते है

3 टिप्पणी

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें