डेंगू के लक्षण और उपचार इन हिंदी आज का आर्टिकल ‌हमारा dengue igm डेंगू के बारे मे हैं आज हम आपको डेंगू के बारे में जानकारी देने वाले हैं आज के समय मे बहुत से लोग dengue fever बिमारी से पीडित हैं व ये बहुत खतरनाक बिमारी होती हैं अगर इसका समय पर इलाज ना लिया जाये तो ये जानलेवा तक हो सकती है

dengue

डेंगू के बहुत से लक्षण होते हैं जिससे हम इस बिमारी को आसानी से पहचान सकते हैं व इस बिमारी से राहत पाने के लिए भी बहुत से घरेलू उपाय हैं जिससे आप इस बिमारी से निजात प्राप्त कर सकते हैं डेंगू बुखार dengue igm के लक्षण व उपचार dengue hemorrhagic fever एक ऐसी बिमारी हैं जो हमारे शरीर को अन्दर से बहुत कमजोर कर देती हैं ये किसी जानवर या कीडे के काटने से या डंक मारने से फैलता हैं जो की एक वायरस होता हैं.

डेंगू बुखार के लक्षण

dengue fever के कई सारे अलग अलग लक्षण होते हैं जिससे की आप इसकी पहचान कर सकते है

  • आंखों का पिछला हिस्सा, जोड़ो, पीठ, पेट, मांसपेशी, एवं हड्डियों आदि मे दर्द होना
  • पूरे शरीर में ठंड लगना, थकान, बुखार आदि की शिकायत रहना
  • उल्टी मतली व भुख ना लगना
  • त्वचा पर लाल चकते‌ व धब्बे होना
  • शरीर पर खरोंच के‌ निशान व सिरदर्द की समस्या होना

डेंगू बुखार के उपचार

यह एक बहुत ही गंभीर बिमारी हैं इसका समय पर उपचार करना बहुत ही जरुरी हैं हम आपको कुछ आसान से तरीके व dengue fever vaccine बता रहे हैं जिससे आप इसका इलाज कर सकते है

1. हल्दी से डेंगू बुखार का उपचार

डेंगू जैसी बीमारियों मे हल्दी का उपयोग बहुत लाभदायक होता हैं इसमे एंटीबायोटिक गुण पाये जाते हैं जो डेंगू से लडने मे सहायक हैं इसके लिए आपको हल्दी का सेवन ज्यादा करना चाहिए आप सब्जी, दाल आदि मे हल्दी का सेवन करते ही हैं इसके अलावा आप‌ दुध मे हल्दी मिला कर सेवन कर सकते हैं इससे आपको डेंगू की बिमारी में काफी फायदा मिलता हैं.

2. विटामिन सी से डेंगू बुखार का उपचार

विटामिन सी हमारे शरीर मे‌ रोग प्रतिरोधक क्षमता को‌ बढाता हैं व ये किसी भी प्रकार के संक्रमण को फैलने से रोकने मे‌ सहायता करता हैं डेंगू बुखार की शिकायत रहने पर आपको उन वस्तुओ का सेवन अधिक करना चाहिए जिसमे विटामिन सी अधिक‌ मात्रा में पाया जाता है.

3. हर्बल टी से डेंगू का इलाज

हर्बल टी सभी प्रकार की बीमारियों मे लाभदायक माना गया हैं ये हमारे शरीर मे‌ रोग प्रतिरोधक क्षमता को‌ बढाता हैं व इसमे ये हमारे शरीर से विशैले पदार्थ को भी बहार निकालता हैं डेंगू की समस्या होने पर प्रतिदिन ग्रीन टी का सेवन करना चाहिए इससे आपको बहुत लाभ मिलेगा यह एक बेहतरीन dengue vaccine मानी जाती हैं .

4. तुलसी से डेंगू बुखार का उपचार

तुलसी मे‌ एंटी बैक्टीरियल गुण पाये जाते हैं जो डेंगू जैसी समस्याएं दुर करने मे सहायक होता हैं इसके लिए आप तुलसी के पत्ते को पानी मे उबाल कर उसमे‌ थोड़ा सा शहद मिला कर सेवन करे या चाय‌, काढा आदि मे‌ तुलसी पत्तो का प्रयोग करे इससे डेंगू से छुटकारा मिलता है.

5. अनार से डेंगू का इलाज

अनार मे फोलिक एसिड व एंटी ऑक्सीडेंट पाया जाता हैं जो डेंगू जैसी बीमारियों मे बहुत फायदेमंद होता हैं इससे डेंगू के कारण होने वाली रक्त की कमी को रोका जा सकता हैं अनार मे विटामिन ए, सी, ई पाया जाता हैं जो रक्त बढाने मे सहायक होता है.

6. पपीते के पत्ते से डेंगू का इलाज

पपीते मे पोपेन नामक एंजाइम पाया जाता हैं जिसमें प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है  डेंगू में ये बेहद लाभदायक होता हैं डेंगू होने पर पपीते के पत्तो का रस निकाल कर दिन मे दो तीन बार उसका सेवन करने से डेंगू से राहत मिलेगी.

7. मैथी पत्ते से डेंगू का इलाज

मैथी पत्ते डेंगू से बचाव के लिए विशेष लाभदायक होते हैं व मैथी पत्ते हमारे शरीर में से जहरीले पदार्थों को बाहर निकालने मे‌ मदद करते हैं डेंगू से बचाव के‌ लिए मैथी पत्तो का अधिक सेवन करना‌ चाहिये व आप मैथी की सब्जी या मैथी पत्ते पानी मे उबाल कर भी सेवन कर सकते हैं.

8. गिलोय के रस से डेंगू का इलाज

गिलोय हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता हैं व ये रोग प्रतिरोध शक्ति को बढाता हैं जिसके कारण ये सभी प्रकार की बीमारियों मे विशेष लाभदायक माना गया है  डेंगू मे गिलोय के रस का सेवन बहुत लाभदायक होता हैं व आप चाहो तो इसके साथ तुलसी का रस मिला कर भी सेवन कर सकते हैं.

9. बकरी के दुध से डेंगू का इलाज

बकरी का दुध स्वास्थ्य के लिए कई प्रकार से लाभदायक होता हैं ये हमारे शरीर मे प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करता हैं व ये जोडो के दर्द मे भी लाभदायक होता हैं व रक्त की कमी को पुरा करने मे ये बहुत अच्छा माना गया हैं डेंगू मे बकरी का दुध 2 बार जरुर पीना चाहिए.

10. ज्वार के रस से डेंगू का इलाज

ज्वार गेहूँ की हरी घास को कहा जाता हैं ये डेंगू मे बहुत लाभदायक होता हैं इसका रस पीने से रक्त मे प्लेटलेट्स का तेजी से निर्माण होता हैं व  ये रोग प्रतिरोध क्षमता को बढाता हैं डेंगू की शिकायत होने पर प्रतिदिन ज्वार का रस पीना चाहिए इससे डेंगू का खतरा काफी कम होता है.

Calculation – मित्रों हमने डेंगू बुखार के लक्षण व डेंगू बुखार के उपचार के बारे में जो जानकारी दी हैं उससे आप dengue डेंगू की बिमारी से बचाव कर सकते हैं ये एक खतरनाक बिमारी होती हैं इसमे आपको डॉक्टर से परामर्श करना भी अनिवार्य होता हैं व इससे बचाव के लिए आप इन तरीको को भी अपना सकते हैं अगर इससे सम्बंधित कोई सवाल पूछना चाहो तो आप हमे comment कर सकते हैं.

पिछला लेखSSC CGL क्या हैं और SSC में ऑनलाइन आवेदन कैसे करे
अगला लेखतुतलाने हकलाने की होम्योपैथिक दवा व तुतलापन दूर करने के घरेलू उपाय

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें