नमस्कार मित्रो आज हम आपको DDT Full Form In Hindi के बारे में बताने वाले है कई लोग हमे इसके बारे में पूछते रहते है की आखिर यह डीडीटी होता क्या है और इसका अर्थ क्या होता है तो यह आर्टिकल इसीलिए लिखा गया है ताकि आपको हम इससे जुडी पूरी जानकारी आसान भाषा में समझा सके.

DDT Full Form In Hindi

डीडीटी के बारे में पता होना सभी लोगो के लिए बहुत  जरुरी है क्युकी कभी भी  आपको यह शब्द देखने या सुनने को मिलता है उस वक्त आपको अगर DDT Full Form In Hindi के बारे में पता होगा तो आप इसका अर्थ आसानी से समझ पाएंगे वही अगर आपको इसकी जानकारी नहीं होगी तो आपको इस शब्द को समझने में भी काफी परेशानी हो सकती है इसलिए आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़े ताकि आपको पूरी जानकारी समझ में आ सके.

DDT Full Form In Hindi

डीडीटी क्या होता है या डीडीटी किसे कहा जाता है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको इसका पूरा नाम क्या होता है इसके बारे में बता देते है.

DDT Full Form – Dichloro Diphenyl Trichloroethane

हिंदी में इसको डाइक्लोरो डिफेनिल ट्राइक्लोरोइथेन कहते है यह बहुत ही घातक किस्म का कीटनाशक होता है जिसका इस्तमाल दूसरे विश्व युद्ध के  बाद से किया जा रहा है.

DDT क्या है

दुनिया में हर वर्ष 25 हजार से भी अधिक लोग कीटनाशक के जहरीले प्रभाव से मरते है जिसमे से एक तिहाई लोग भारतीय होते है कई लोगो को पता नहीं होता की हजारो लाखो कीटो में से एक दो किट ही नुकसान पहुंचने वाले है जिन्हे मारने के लिए लोग कीटनाशक का इस्तमाल करते  है पर इससे कई लाभदायक किट भी नष्ट हो जाते है जिससे खेतो और फसलों को बहुत ही ज्यादा नुकसान पहुँचता है उदाहरण के लिए केचुआ खेती के लिए बहुत ही अच्छा होता है पर कीटनाशक के इस्तमाल से इस तरह के किट नष्ट हो जाते है.

यह एक ऐसा रसायन होता है जो की किसी भी जीवित वस्तुओ और वातावरण आदि में जल्दी से विभाजित नहीं होता व यह हमारे खाद्य पदार्थ और वसा में एकत्रित होता रहता है और इसकी मात्रा अधिक हो जाने पर यह जीभ और होठो को बेकार कर देता है जिसे गुर्दो और यकृत को भी नुकसान पहुंचने की संभावना रहती है इसके साथ ही इससे कैंसर होने का खतरा भी काफी बढ़ जाता है.

DDT का अविष्कार कब और किसने किया

बहुत से लोग है जिन्हे इसके अविष्कार से सम्बंधित जानकारी नहीं होती तो हम आपको बता दे की इसका अविष्कार Paul Herman Muller ने 1950 में किया था और इसका अब तक सबसे अधिक इस्तमाल दूसरे विश्व युद्ध के बाद कीटो और मच्चर आदि को नष्ट करने के लिए किया गया था उसके बाद यह खेतो में भी कीटनाशक की तरह इस्तमाल किया जाने लगा वही WHO की रिसर्च के अनुसार प्रतिवर्ष 10 से भी अधिक लोग कीटनाशक के कारण प्रभावित होते है.

सन् 1959 में अमेरिका में इसका सबसे अधिक प्रे के रूप में इस्तमाल किया जाता था पर बादमे सन् 1970 के दशर के शुरुआत में पर्यावरण और जीवो को नुकसान पहुंचने पर इसके बारे में काफी सवाल उठाये गए थे कारणवश इसको 1973 में अमेरिका की पर्यावरण सरक्षण एजेंसी ने इसके इस्तमाल पर पूरी तरह से प्रतिबन्ध लगा दिया था.

DDT का इस्तमाल कब होता है

यह सभी जीवो के लिए बहुत ही खतरनाक साबित हो सकता है इसका इस्तमाल खेतो में कीटो को मारने और सफल को सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है इसके छिड़काव से खेत के सभी किट नष्ट हो जाते है पर यह खाद्य पौधों के साथ मनुष्य के शरीर में भी चला जाता है जिससे उनके स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ने लगता है.

अधिकांश लोग इसके इस्तमाल की सलाह नहीं देते क्युकी इसके जितने फायदे है उससे कई अधिक इसके नुकसान भी होते है जिसके कारण इसका इस्तमाल करते वक्त छोटी गलती भी बहुत ही महँगी पड़ सकती है व जिन्हे इसका इस्तमाल करना है उन्हें भी किसी विशेषज्ञ की सलाह लेकर उनके निर्देशानुसार ही इसका इस्तमाल करना चाहिए.

डीडीटी के नुकसान

यह जानवरो, मनुष्यो और पक्षियों के लिए बहुत ही जहरीला और खतरनाक पदार्थ होता है यह किसी भी जिव के शरीर में पहुंचकर उसके उत्तको में कई वर्षो तक सक्रिय रहता है इसके कारण निम्न प्रकार के नुकसान देखने को मिल सकते है जैसे की

  • कैंसर का खतरा
  • डायबिटीज का खतरा
  • लिवर और तंत्रिका तंत्र को नुकसान पहुंचना

यह इसके कुछ मुख्य नुकसान होते है जो की बहुत ही खतरनाक और घातक है जो किसी भी जिव के लिए जानलेवा साबित हो सकते है इसी कारण से अधिकांश लोग इसका इस्तमाल नहीं करते.

Calculation –  इस आर्टिकल में हमने आपको DDT Full Form In Hindi के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे और इससे जुड़ा किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट करके बता सकते है

पिछला लेखआर्मी में ड्राइवर कैसे बने { आवश्यक योग्यता, उम्र सीमा व चयन प्रक्रिया }
अगला लेख15 Positive Thoughts जिससे आपकी जिंदगी बदल जायेगी
मै रघुवीर चारण PMO Yojana का संस्थापक हूँ हमें लेख लिखना व किताब पढ़ना बेहद पसंद है है हम शिक्षा, कंप्यूटर, मोबाइल, सरकारी नौकरी, नई योजनाओं व इस प्रकार की अन्य कई जानकारी इस Website पर लिखते है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें