नमस्कार मित्रो आज हम आपको CVV Full Form In Hindi के बारे में बताने वाले है अगर आपको CVV के बारे में जानकारी नहीं है तो आप  बिलकुल सही पोस्ट पर आये है यहाँ आपको CVV क्या है, यह किस तरह से कार्य करता है, इसका इस्तमाल क्यों किया जाता है व इसके फायदे आदि क्या क्या होते है इन सब के बारे में हम जानेगे.

CVV Full Form In Hindi

अक्सर आप ऑनलाइन पेमेंट करते है या कुछ भी सामान  खरीदते है और इसका पेमेंट करने की कोशिश करते है तो वहां पर आपको CVV का विकल्प दिया जाता है तब अक्सर कई लोग सोचते है की आखिर इसका मतलब किया होता होगा तो हम CVV Full Form In Hindi आर्टिकल में इसी से सम्बंधित आपको पूरी जानकारी बताने वाले है.

CVV Full Form In Hindi

CVV क्या होता है इसका इस्तमाल कब और किसलिए किया जाता है इन सबके बारे में बताने से पहले हम इसके पुरे नाम के बारे में जान लेते है जो निम्न प्रकार से है.

CVV Full Form – CARD VERIFICATION VALUE

हिंदी में इसको कार्ड सत्यापन कोड भी कहा जाता है यह सिक्योरिटी कोड के नाम से भी जाने जाते है शुरुआत में इसे 11 अंको के कोड के रूप में बनाया गया था पर बादमे इसको 3 अंको के कोड में सिमित कर दिया गया.

CVV क्या है

आप जब कोई भी ऑनलाइन पेमेंट करते है तो उस वक्त आपको CVV डालने का विकल्प दिया जाता है क्युकी किसी भी कंपनी को पता नहीं होता की जिस क्रेडिट या डेबिट कार्ड से खरीदी की जा रही है वो उसका मालिक ही कर रहा है या कोई अन्य है तो इसे वेरीफाई करने के लिए ही CVV माँगा जाता है.

यह किसी भी तरह के फ्रॉड से बचने में बहुत मददगार साबित होता है क्युकी बिना CVV के कोई भी आपके क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड का गलत तरीके से इस्तमाल नहीं कर सकता एवं CVV अक्सर आप ऑनलाइन पेमेंट, पेटीएम, गूगल पे, फोन पे, रिचार्ज आदि करते है और आप पेमेंट अपने डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड के माध्यम से करना चाहते है तो आपको CVV कोड़ डालने के लिए कहा जायेगा बिना CVV के आपका ट्रांसेक्शन पूरा नहीं होगा.

CVV क्यों जरुरी है

जैसा की हमने आपको बताया की यह सिक्योरिटी के लिए इस्तमाल किया जाता है जो की आपको किसी भी फ्रॉड से बचाने में काफी मदद करता है इसका फायदा यही है की इसके द्वारा पेमेंट लेने वाली कंपनी को पता चल जाता है की पेमेंट मालिक द्वारा ही किया जा रहा है.

लेकिन कई मामलों में CVV धोखाधड़ी से बचाने में असफल साबित होती है क्युकी यह कोड आपके क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड के बैक साइड में लिखे होते है ऐसे में आपका कार्ड खो जाता है तो कोई भी व्यक्ति CVV पता कर सकता है और इसके माध्यम से आपके बैंक अकाउंट को खाली कर सकता है इससे बचने के लिए आपको कार्ड खो जाने की स्थिति में अपने डेबिट कार्ड को तत्काल बैंक द्वारा ब्लॉक करवाना होता है ताकि कोई इसका गलत इस्तमाल न कर सके.

CVV एवं CVC में क्या अंतर है

अधिकांश लोग CVV एवं CVC को एक ही समझते है अपर हम आपको बता दे की दोनों में काफी अंतर होता है जिसके बारे  में आपको ध्यान रखना चाहिए यह निम्न प्रकार से है.

  • CVV – इसको  Card Verification Value कहा जाता है जिसका इस्तमाल वीसा कार्ड में किया जाता है.
  • CVC इसे Card Validation Code कहा जाता है जिसका इस्तमाल मास्टर कार्ड में किया जाता है.

CVV कोड कैसे देखे

जितने भी अमेरिकन एक्सप्रेस के कार्ड है उनके CVV नंबर हमेशा 4 अंको के होते है जो की कार्ड में आगे की तरफ ही लिखे होते है जबकि जो मास्टर या वीसा कार्ड होते है उनके CVV नंबर 3 अंको के होते है यह कोड मास्टर कार्ड या वीसा कार्ड के पीछे की तरफ लिखे होते है.

यह आपके डेबिट क्रेडिट कार्ड के पीछे चुम्बकीय पट्टी होती है उसके ठीक नीचे की तरफ लिखा होता है यह एक सिक्योरिटी कोड होता है जो ऑनलाइन पेमेंट में आपके डेबिट कार्ड को सिक्योरिटी प्रदान करता है.

CVV को सुरक्षित कैसे रखे

जो व्यक्ति डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड इस्तमाल करते है उन्हें अपने CVV नंबर सुरक्षित रखने बहुत ही जरुरी है इसके लिए आप कही पर भी अपने CVV कोड लिखकर न रखे जहां से यह दुसरो को पता चल सके इसके साथ ही आप अपने CVV नंबर किसी के साथ शेयर न करें न ही कॉल या SMS पर किसी को यह कोड किसी को बताये.

वही अगर आपका क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड खो जाता है तो उस स्थिति में कोई भी व्यक्ति आपके CVV नंबर पता कर सकता है इसलिए अगर आपका क्रेडिट या डेबिट कार्ड खो जाता है तो आपको बैंक के हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करना है और उन्हें तत्काल अपने डेबिट  कार्ड को ब्लॉक करने के लिए कहे या अपने बैंक से संपर्क करें.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको CVV Full Form In Hindi के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको CVV के बारे में दी गयी जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और इससे जुड़ा किसी भी तरह एक सवाल पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट करके बता  सकते है.

पिछला लेखCISF Full Form in Hindi : CISF में नौकरी कैसे प्राप्त करें
अगला लेखमुंह जीभ, गला और होठों मे छाले होने के कारण व घरेलू उपचार

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें