नमस्कार मित्रो आज हम आपको COPD Full Form In Hindi के बारे में बता रहे है कई लोगो के मन में इस शब्द को लेकर कई तरह के सवाल जवाब होते है की आखिर यह होता क्या है इसके लक्षण क्या होते है और COPD किसे कहा जाता  है तो इसकी पूरी जानकारी हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले है.

COPD Full Form In Hindi

COPD एक ऐसा शब्द है जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए की आखिर यह होता है क्युकी COPD के बारे में जानकारी आपके भविष्य में काफी उपयोगी साबित हो सकती है अगर आपको इसके बारे में विस्तृत जानकारी नहीं है तो आप COPD Full Form In Hindi आर्टिकल को ध्यान से पढ़े.

COPD Full Form In Hindi

COPD किसे कहते है या यह क्या होता है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको इसका पूरा नाम क्या होता है इसके बारे में बता देते है.

COPD Full Form – Chronic Obstructive Pulmonary Disease

हिंदी में इसका अर्थ लंबे समय तक फेफड़ों में रुकावट होता है व यह एक तहा की बीमारी होती है जो की फेफड़ो से जुडी होती है.

COPD क्या है

ज्यादातर लोग ऐसे होते है जो COPD और अस्थमा को एक जैसी बीमारी समझते है जिसका मुख्य कारण है की दोनों के लक्षण काफी हद तक सामान होते है जैसे की खांसी आना, सांस लेने में दिक्कत होना आदि पर आपको बता दे की यह अस्थमा से कई गुना खतरनाक बीमारी होती है जो बहुत ही तेजी से दुनियाभर के लोगो को अपनी चपेट में ले रही है इसलिए इसकी विस्तृत जानकारी सभी के लिए बहुत मायने रखती है.

यह ऐसा रोग होता है जिससे फेफड़े बहुत स्पॉन्जी होते है व इसके कारण व्यक्ति सांस नहीं ले पाता सामान्यत एक स्वस्थ व्यक्ति जब सांस लेता है तो ऑक्सीजन उसके रक्त में मिल जाती है इसके बाद कार्बन डाइऑक्साइड बाहर निकलती है पर COPD इस प्रक्रिया को रोक देता है जिससे सांस से जुडी समस्या होने लगती है और ऑक्सीजन मरीज के पुरे शरीर तक नहीं पहुंच पाती.

COPD के लक्षण

COPD के कुछ विशेष लक्षण होते है जिसकी मदद से इसकी पहचान की जा सकती है हम आपको इसके कुछ लक्षण के बारे में बता रहे है जो निम्न प्रकार से है.

  • सांस लेने में परेशानी
  • गहरी सांस लेना
  • कफ होना
  • खांसी आना
  • सीने में जकड़न होना
  • वजन का कम होना
  • हार्ट से जुडी समस्या होना
  • फेफड़ो में कैंसर होना

यह सभी इसके मुख्य लक्षण माने गए है व यह लक्षण समय के साथ लम्बे समय तक चलते रहते है और धीरे धीरे मरीज की स्थिति अधिक बिगड़ने लगती है.

COPD होने के मुख्य कारण

COPD की समस्या कुछ मुख्य कारणों से होती है इसके बहुत से अलग अलग कारण होते है जिससे COPD की समस्या देखने को मिल सकती है जैसे.

  • धूल, मिट्टी, डस्ट आदि के कारण
  • वाहनों के धुए के कारण
  • जहरीली गैस के कारण
  • धूम्रपान के कारण
  • उपलों के चूल्हे का जलाने के कारण
  • स्मोकिंग या ड्रग्स आदि लेने के कारण

यह सभी इसके मुख्य कारण है इन स्थिति में व्यक्ति को COPD की समस्या होने का खतरा बना रहता है अगर आप निम्न तरह की गतिविधियों से बचे रहते है तो COPD  की समस्या से खुद का बचाव कर सकते है.

COPD किस उम्र में अधिक होता है

सामान्यत COPD  की समस्या को 40 वर्ष या इससे अधिक उम्र के लोगो में देखी जाती थी पर हाल में यह बीमारी बच्चो और युवाओ को भी अपने चपेट में ले रहा है इसमें 2 वर्ष या इससे अधिक उम्र के बच्चे भी शामिल होते है क्युकी बच्चे अधिक प्रदुषण को झेलने में असक्षम होते है जिसके कारण वो इसकी चपेट में आने की संभावना काफी बढ़ जाती है.

COPD होने पर जटिलताएं

अगर किसी को COPD की समस्या होती है तो यह भविष्य में उसके लिए काफी खतरनाक साबित हो सकती है क्युकी इससे फेफड़ो में कई तरह की बीमारिया होने का खतरा बढ़ जाता है और इसके कारण कैंसर होने की संभावना भी बढ़ जाती है इसलिए इस बीमारी का समय रहते जल्दी से जल्दी इलाज करवाया जाना बहुत जरुरी है.

प्रदुषण को कम करना हमारे हाथ में नहीं है पर आप प्रदुषण वाले स्थान से दूर रहकर और धूम्रपान आदि छोड़कर इस तरह की बीमारी से खुद का बचाव कर सकते है और COPD  के खतरे को काफी हद तक कम कर सकते है.

COPD  की समस्या कब होती है

COPD की समस्या कुछ विशेष परिस्थित में होने की संभावना रहती है हम आपको इसके मुख्य कारण जिससे COPD  का खतरा बढ़ जाता है इसके बारे में बता रहे है.

  • तम्बाकू का सेवन अधिक करना या अधिक धूम्रपान करना COPD का मुख्य कारण होता है अगर कोई लम्बे समय से बीड़ी सिगरेट पी रहा है तो या किसी व्यक्ति के आसपास अधिक संख्या में लोग धूम्रपान करते है तो इस तरह की समस्या होने की संभावना बढ़ जाती है.
  • अस्थमा होने पर भी धूम्रपान करने वाले व्यक्ति में COPD की समस्या बढ़ जाती है क्युकी अस्थमा और धूमपान के सयोजन से इसका खतरा बढ़ जाता है.
  • धूल या रसायन के संपर्क में आने से अथवा अधिक दिन तक धूल के संपर्क में रहने से फेफड़ो में जलन और अन्य कई  तरह की समस्या हो सकती है.
  • किसी ईंधन के जलने से उत्पन होने वाले धुए के संपर्क में अधिक दिन तक रहने या घर में खाना पकाते दौरान धुए की निकासी न होने से यह हमारे शरीर में चला जाता है व इस तरह की समस्या हो सकती है.

COPD बहुत ही धीरे धीरे विकसित होता है इसलिए इसके लक्षण दिखने में काफी समय लग जाता है सामान्यत इसके लक्षण 40 वर्ष की उम्र के बाद ही अधिक देखने को मिलते है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको COPD Full Form In Hindi के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे और इससे सम्बंधित किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहे तो आप कमेंट करके भी बता सकते है.

पिछला लेखESIC Login Kaise Kare : ESIC में कौन कौनसे फीचर मिलते है
अगला लेखएक दिन में करोड़पति कैसे बने बेहद ही आसान तरीके से
मै रघुवीर चारण PMO Yojana का संस्थापक हूँ हमें लेख लिखना व किताब पढ़ना बेहद पसंद है है हम शिक्षा, कंप्यूटर, मोबाइल, सरकारी नौकरी, नई योजनाओं व इस प्रकार की अन्य कई जानकारी इस Website पर लिखते है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें