यह आर्टिकल Computer Full Form के बारे में है इसमें हम आपको कम्प्यूटर से जुडी बहुत ही उपयोगी जानकारी बता रहे है जिससे की आपको बहुत कुछ सिखने को मिलेगा व भविष्य में भी ये जानकारी आपके लिए काफी उपयोगी होगी अक्सर लोगो को कम्प्यूटर के नाम के बारे में जानकारी नहीं होती तो इस आर्टिकल में हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी बतायेगे.

Computer Full Form

कई लोगो को Computer Full Form के बारे में  जानकारी नहीं होती पर आज के समय में आपको  कम्प्यूटर के बारे में जानकारी होनी बहुत जरुरी हैं आज का ज़माना डिजिटल ज़माना हैं और आज के समय में आपको कम्प्यूटर व इंटरनेट आदि की जितनी ज्यादा जानकारी होगी आप उतनी तेजी से कोई भी सफलता प्राप्त कर पाएंगे.

अक्सर आप सभी ने कई जगह पर कम्प्यूटर को देखे होंगे जैसे ऑफिस, स्कुल, कॉलेज, घर अदि ऐसे स्थानों पर आपको आसानी से कम्प्यूटर देखने को मिल जाते हैं बहुत से लोगो को आप इसका पूरा नाम पूछोगे तो वो यही कहैंगे की उसका पूरा नाम कम्प्यूटर ही हैं पर ऐसा नहीं हैं इसका भी एक पूरा नाम हैं जिसके बारे में हम आपको बताने वाले है.

Computer Full Form in Hindi

कम्प्यूटर क्या हैं इसके बारे में बताने से पहले हम आपको इसका पूरा नाम क्या होता हैं इसके बारे में बता देते है.

Computer Full Form –  Commonly Operated Machine Particularly User For Technical Educational Research होता है.

  • C – Commonly
  • O – Operated
  • M – Machine
  • P – Particularly
  • U – User For
  • T – Technical
  • E – Educational
  • R – Research

हिंदी में इसको तकनीकी शैक्षिक अनुसंधान के लिए विशेष रूप से संचालित मशीन कहा जाता हैं पर इसका नाम थोड़ा बड़ा व कठिन होने के कारण अक्सर लोग इसको कम्प्यूटर के नाम से ही जानते है.

कंप्यूटर क्या है

कम्प्यूटर शब्द की उत्पति Compute शब्द से हुई थी इसका अर्थ होता हैं गणना करना परन्तु वर्तमान में सिर्फ गणना के लिए सिमित न रहकर बहुत व्यापक हो चूका हैं व अगर हम बात करे आकार की तो पहले के कम्यूटर आज के कम्प्यूटर से 10 गुना तक बड़े हुआ करते हैं पर आज के समय में कम्प्यूटर में बहुत ही विकास देखने को मिलता है.

इस मशीन के द्वारा आप कई सारे अलग अलग कार्य कर सकते हैं इसमें आप इंटरनेट की सुवधा का इस्तमाल भी कर सकते हैं जिससे की आप ऑनलाइन व्यापार आदि कर सकते हैं व दुनिया की जानकारी घर बैठे कम्प्यूटर के माध्यम से प्राप्त कर सकते है.

इसके माध्यम से बड़ी से बड़ी सख्या को कुछ ही सैकेंड में हल किया जा सकता हैं व आप किसी भी गणना को कम्प्यूटर के माध्यम से बहुत ही आसानी से कुछ ही पलो में हल कर सकते है.

कम्प्यूटर के जनक कौन है

कम्प्यूटर का जनक Charles Babbage को माना जाता हैं क्योंकि इन्होंने सबसे पहले  Mechanical Computer को बनाया था जिसको Analytical Engine के नाम‌ से जाना जाता हैं व इसमे Data Insert करने के‌ लिए Punch Card का इस्तेमाल किया जाता था.

कम्प्यूटर का अविष्कार कब हुआ इसके बारे मे अभी तक कोई ठोस प्रमाण प्राप्त नही हुए हैं पर अनुमानित इसका अविष्कार 1837 में माना गया हैं व कम्प्यूटर को 5 अलग अलग हिस्सों में बांटा गया है.

  1. Vaccum Tubes (1940 – 1956)
  2. Transistors ( 1956 – 1963 )
  3. Integrated Circuit ( 1963 – 1971 )
  4. Microprocessor ( 1971 – Present )
  5. Artificial Intelligence

Hardware vs Software

आमतौर पर हार्डवेयर और सॉफ्टवेर आपको सभी कम्प्यूटर में आसानी से देखने को मिल जाते हैं हम इसके बारे में थोड़ा विस्तार से जान लेते हैं ताकि आपको इसके बारे में पता चल सके की हार्डवेयर क्या हैं व सॉफ्टवेयर क्या होता है.

1 Hardware

हार्डवेयर कम्प्यूटर के वो हिस्से होते हैं जिनको हम हाथो से छू सकते हैं जैसे की – माउस, कीबोर्ड, मॉनिटर, प्रिंटर ये सभी हार्डवेयर होते हैं क्युकी इनको हम अपने हाथो से छू सकते है.

2 Software

आप किसी भी प्रकार का कम्प्यूटर इस्तमाल करते हैं तो उसके सॉफ्टवेयर बहुत ही important होते हैं क्युकी बिना सॉफ्टवेयर के आप कम्प्यूटर में कुछ भी नहीं कर सकते.

सॉफ्टवेयर कई अलग अलग प्रकार के होते हैं जैसे की ms ऑफिस, exel, chrome, photoshop आदि कई सारे सॉफ्टवेयर आपको कम्प्यूटर में देखने को मिल जाते हैं उनको आप सिर्फ इस्तमाल कर सकते हैं पर आप उनको हाथो से छू नहीं सकते उन्हैंं सॉफ्टवेयर कहा जाता है.

सॉफ्टवेयर को यूजर अपनी इच्छानुसार manage कर सकता हैं व यूजर पर इसको इस्तमाल करने का पूरा conterol होता हैं इसके साथ ही कुछ सॉफ्टवेयर paid भी होते हैं जिनको आप पैसे देकर ही इस्तमाल कर सकते है.

कम्प्यूटर के प्रकार

कम्प्यूटर कई सारे अलग अलग प्रकार के होते हैं जिसके बारे में हम आपको बता रहे है.

डेस्कटॉप – ये आमतैर पर आपको कई जगह पर देखने को मिल जाते हैं अधिकांश इसका इस्तमाल सरकारी कार्यालय, विधालय, कॉलेज, कम्प्यूटर क्लासेस व घरो में किया जाता हैं इसमें मॉनिटर, सीपीयू, कीबोर्ड, माउस आदि कई प्रकार के उपकरण जुड़े होते हैं जिससे आप इसको चला सकते है.

लेपटॉप – ये कम्प्यूटर की तरह ही होता हैं पर यह कम्प्यूटर से काफी छोटा आकार का होता हैं इसमें आपको अलग से मॉनिटर, सीपीयू, कीबोर्ड, माउस अदि लगाने की जरुरत नहीं होती बल्कि ये सभी इन्समे इनबिल्ड होते है.

टेबलेट कम्प्यूटर – ये दिखने में मोबाइल की तरह होता हैं पर मोबाइल से इसका आकार काफी बड़ा होता हैं इसमें आपको कम्प्यूटर के सारे फीचर तो नहीं मिलते पर कई सारे फीचर आपको इसमें  देखने को मिल जाते हैं ये टच स्क्रीन पर काम करता है.

सर्वर – ये एक कम्प्यूटर हैं जो की सर्वर पर कम्प्यूटर को जानकारी प्रदान करता है.

कम्प्यूटर कई अलग अलग प्रकार के होते हैं जिसमे से मुख्यत हमने आपको बताया हैं अगर आप कम्प्यूटर का इस्तमाल करते हैं तो इससे आपको कई सारे फायदे भी होते हैं जैसे की आप ऑनलाइन बिजनेस कर सकते है  सोशल मीडिया के द्वारा अलग अलग लोगो के साथ जुड़ सकते हैं व देश विदेश की खबर आदि देख  सकते हैं इसके अलावा भी computer इस्तमाल करने के हजारो प्रकार के अलग अलग फायदे होते है.

Calculation -इस आर्टिकल में हमने आपको Computer Full Form क्या होता है इसके बारे में बताने का प्रयत्न किया है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी पसंद आयी होगी अगर आप इसके बारे में कोई सवाल पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट कर सकते है व जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो एक साथ शेयर भी जरूर करें ताकि अन्य लोगो को भी इसके बारे में जानकारी प्राप्त हो.

पिछला लेखSSSM ID : मध्यप्रदेश समग्र पोर्टल ( MP Samagra ID ) में आवेदन कैसे करें
अगला लेखATM Full Form in Hindi : ATM का इस्तमाल कैसे करें

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें