नमस्कार मित्रो आज का हमारा यह आर्टिकल CGPA  के बारे में है व हम आपको आज CGPA के बारे में  पूरी जानकारी देने वाले है व इसके साथ ही हम CGPA Full Form in Hindi और CGPA किसको कहा जाता है और इसका इस्तमाल कब और किसलिए किया जाता है इन सब के बारे में आज हम विस्तार से जानेगे.

CGPA Full Form in Hindi

हम सब लोग अक्सर कई अलग अलग  शब्दों का इस्तमाल करते है जिनके बारे में हमे कोई विशेष जानकारी नहीं होती पर कुछ शब्दों के बारे में आपको जानकारी होनी जरुरी है CGPA  भी एक इसकी प्रकार का शब्द है जिसके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए क्युकी इस प्रकार की जानकारी भविष्य में आपके लिए कई प्रकार से उपयोगी होती है CGPA Full Form in Hindi और इससे जुडी अन्य कई जानकारी के लिए आप हमारा यह आर्टिकल पूरा पढ़े.

CGPA Full Form in Hindi

CGPA क्या होता है व किसे कहते है और इसके फायदे क्या होते है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको इसके पुरे नाम के बारे में बता देते है.

CGPA Full Form in Hindi – Cumulative Grade Point Average

हिंदी में इसको औसत ग्रेड बिंदु भी कहा जाता है व यह एक प्रकार का एजुकेशन से जुड़ा ग्रेडिंग सिस्टम होता है जो की किसी भी विधार्थी की योग्यता को परखने और रिजल्ट जारी करने में इस्तमाल किया जाता है.

CGPA क्या होता है

यह एक एजुकेशन ग्रेडिंग सिस्टम  होता है व इसका इस्तमाल किसी भी विधालय या कॉलेज आदि में किसी भी विधार्थी के परफॉर्मन्स को जांचने के लिए इस्तमाल किया जाता है व CGPA  को कैलकुलेट करने का सभी देशो का अपना अलग अलग तरीका होता है पर हम आपको आज भारत के CGPA  से जुडी जानकारी के बारे में आपको बतायेगे व सीबीएससी के द्वारा भी दसवीं और बाहरवीं के परिणाम CGPA के रूप में जारी किये जाते है.

जैसा की आप सब जानते है की सभी विधालय में हर विधार्थी को परीक्षा के अंक दिए जाते है जो की हर विषय में 0 से लेकर 100 तक होते है व सभी विषय के अंको को मिलकर प्रतिशत % निकले जाते है जो की किसी भी विधार्थी की परीक्षा का परिणाम होता है पर CGPA  इससे काफी अलग होता है क्युकी इस ग्रेड सिस्टम में किसी भी विधार्थी के अंको के साथ ग्रेड पॉइंट भी दिए जाते है व इसके साथ ही सभी विषय के ग्रेड पॉइंट के आधार पर किसी भी विधार्थी को ग्रेड केटेगरी दी जाती है व इसके आधार पर ही ग्रेड करेगोरी के माध्यम से परीक्षा का परिणाम जारी किया जाता है.

CGPA Calculate कैसे करते है

अक्सर बहुत से लोगो को इसके बारे में पता नहीं होता की CGPA को किस प्रकार से कैलकुलेट किया जाता है तो हम आपको इसको calculate करने के तरीके के बारे में बता रहे है जिससे की आपको आसानी से समझ में आ सके की आप किस प्रकार से CGPA को कैलकुलेट कर सकते है.

  • जैसे की किसी विद्यार्थी ने 41 ग्रेड पॉइंट प्राप्त किये.
  •  सब्जेक्ट की संख्यां 5 है.

तो ऐसे में निम्न प्रकार से CGPA को कैलकुलेट किया जाता है जो की इस प्रकार से है.

Subject Grade Points
हिंदी 8
विज्ञानं 9
maths 6
english 9
सामाजिक विज्ञानं 9
कुल 41
CGPA 41/5 = 8.2

इस तरह से आप बहुत ही आसानी से CGPA को कैलकुलेट  सकते है हमने आपको यह  उदहारण के तौर पर बताया बताया है.

CGPA को Present में कैसे बदले

अगर आप CGPA को Present के रूप में निकलना चाहते है तो आप बहुत ही आसानी से निकाल सकते है इसके लिए आपको इसके एक रूल्स को फॉलो करना होता है जिसके माध्यम से आप CGPA से Present निकाल सकते है.

से Present में बदलने के लिए आपको CGPA को 9.5 से गुना कर देना है व इसके बाद आपको जो रिजल्ट मिलेगा वो ही आपके परसेंटेज होंगे ऊपर बताये CGPA के हम आपको प्रतिशत निकालकर बता रहे है.

  • रूल्स – CGPA X 9.5
  • तरीका – 8.2 X 9.2
  • उत्तर – 77.9%

इस प्रकार से आप किसी CGPA को प्रतिशत में बदल सकते है.

CGPA के फायदे और नुकसान

इसके कई सारे अलग अलग फायदे है तो इसके साथ ही इसके कई नुकसान भी होते है जिसके बारे में हम आपको बता रहे है व सबसे पहले हम आपको इसके फायदे के बारे में बता रहे है.

  • इससे कोई भी विधार्थी किस विषय में कमजोर है इसका आंकलन कर सकता है.
  • इस प्रणाली से बच्चो पर अधिक अंक प्रकार करने का दबाव कम हो जाता है जिससे की बच्चे डिप्रेशन में नहीं जाते.

यह इसके फायदे होते है व अब हम आपको इसके नुकसान के बारे में बता रहे है जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए.

  • इसमें विधार्थी को अंक या प्रतिशत नहीं दिखाए जाते जिसके कारण बच्चे इसके आधार पर सटीक प्रतिशत की जानकारी प्राप्त नहीं कर पाते.
  • इसका सबसे बड़ा नुकसान यह है की इसमें अंक न दिखने के कारण बच्चो को इसके बारे में पता नहीं चल पता की वो किस विषय में कितने कमजोर है.

यह इसके फायदे और नुकसान है और अगर आप किसी भी CGPA  के प्रतिशत निकलना चाहते है तो इसके लिए हमने आपको ऊपर जो तरीका बताया है उसके माध्यम से आप इसके प्रतिशत निकल सकते है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको CGPA Full Form in Hindi और  CGPA क्या है व इसके फायदे और नुकसान क्या क्या होते है इसके बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है की आपको हमारी बताई गयी जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें व इससे सम्बंधित किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट के माध्यम से भी  बता सकते है.

पिछला लेखWest Bengal Ration Card Registration, Application Status Check
अगला लेखSSO Rajasthan : SSO Login व SSO Regiatration कैसे करें

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें