नमस्कार मित्रो आज हम आपको CBSE Full Form In Hindi के बारे में बताने वाले है अक्सर लोगो के मन में CBSE को लेकर कई सवाल होते है जैसे की सीबीएससी क्या होता है इसके कार्य क्या होते है व यह कहाँ पर स्थित है इन सब के बारे में हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से विस्तृत जानकारी बताने वाले है.

CBSE Full Form In Hindi

CBSE की जानकारी आप सभी के लिए बहुत ही उपयोगी है क्युकी अक्सर इससे जुडी जानकारी हमारे लिए बहुत ही उपयोगी साबित होती  है व अगर आपको  सीबीएससी के बारे में जानकारी नहीं है तो ऐसे में आप CBSE Full Form In Hindi आर्टिकल को ध्यान से पढ़े ताकि आपको इससे जुडी पूरी जानकारी समझ में आ सके.

CBSE Full Form In Hindi

CBSE क्या होता है और इसका कार्य क्या है इन सब के बारे में बताने से पहले हम आपको इसका पूरा नाम क्या होता है इसके बारे में बता रहे है.

CBSE Full Form – Central Board Of Secondary Education)

हिंदी में इसे सेन्ट्रल बोर्ड ऑफ़ एजुकेशन अथवा केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के नाम से भी जाना जाता है व सीबीएससी के संस्था है जो प्रदेश में विधालयो का संचालित करती है व सीबीएससी के अंतर्गत आने वाले सभी विधालयो का संचालन केंद्र सरकार के द्वारा किया जाता है.

CBSE क्या है

सीबीएससी केंद्र सरकार का एक विभाग है व यह भारत का एक प्रमुख बोर्ड है जिसकी स्थापना 3 नवम्बर 1962 में की गयी थी एवं सीबीएससी के अंतर्गत जितने भी विधालय आते है उन सभी का संचालन केंद्र सरकार के द्वारा किया जाता है एवं सीबीएससी विधालय में अंग्रेजी और हिंदी दो तरह के शिक्षा के माध्यम होते है जिनके पाठ्यक्रम में सीबीएससी की किताबो का प्रयोग किया जाता है  व सीबीएससी का मुख्यालय भारत के नई दिल्ली में स्थित है.

भारत में सबसे पहले उत्तरप्रदेश बोर्ड ऑफ़ हाई स्कुल एंड इंटरमीडिएट एजुकेशन की स्थापना की गयी थी इसके बाद सीबीएससी ने शिक्षा के क्षेत्र में बहुत ही तेजी से विकास किया जिसके कारण यह बहुत ज्यादा प्रख्यात हो गयी एवं सीबीएससी का मुख्य फायदा यह है की इसमें आपको सीबीएससी का ही पढ़यक्रम दिया जाता है इसके आलावा NEET, JEE आदि में भी सीबीएससी का ही पढ़यक्रम होता है.

CBSE स्थापना के मुख्य उद्देश्य

CBSE की स्थापना करने के कई मुख्य उद्देश्य थे जिसके कारण इसकी स्थापना की गयी थी इसके कुछ मुख्य उद्देश्य के बारे में हम आपको बता रहे है जो की सीबीएससी की स्थापना के मुख्य कारण थे.

  • भारत में केंद्रीय स्तर पर गुणवत्ता युक्त विधालय की स्थापना करना और उसके द्वारा दसवीं और बाहरवीं की कक्षा को शिक्षा प्रदान करना.
  • दसवीं बाहरवीं  सीबीएससी से करने के बाद विधार्थियो को अंक पत्र उपलब्ध करवाना.
  • सभी सफल विधार्थियो को शैक्षणिक योग्यता प्रमाण पत्र उपलब्ध करवाना.
  • जो माता पिता जॉब करते है उनका ट्रांसफर किसी दूसरे राज्य में होता है तो उनके बच्चो का बिना नाम काटे दूसरे विधालय में ट्रांस्फर करना.
  • बच्चो के बिच प्रतिस्पर्धत्मक माहौल को विक्सित करना.
  • बच्चो के अच्छे भविष बनाने में सहायता करना.

निम्न प्रकार के कई अलग अलग उद्देश्य से इस संस्था की स्थापना की गयी थी व पुछले कुछ वर्षो के इसके कार्य ने इसको बहुत ही अधिक प्रख्यात किया है.

क्या सीबीएससी दूसरे  बोर्ड से अच्छा है

अक्सर कई लोगो के मन में होता है की क्या सीबीएससी दूसरे राज्य के बोर्ड से अधिक अच्छा होता है तो हम आपको बता दे की सभी बोर्ड खुद में एक बेहतर बोर्ड होते है और दोनों की मान्यता लगभग सामान ही होती है पर ज्यादातर लोग सीबीएससी को राज्य बोर्ड की तुलना में अधिक गुणवत्ता युक्त मानते है एवं कई मामलों में सीबीएससी ICSE बोर्ड से भी ज्यादा बेहतर साबित होता है जिसके कारण देश के छात्र इस बोर्ड पर अधिक भरोषा रखते है.

CBSE में पढ़ने के लाभ

अगर आप CBSE से पढाई करते है तो इसके कई अलग अलग लाभ आपको देखने को मिल सकते है इसमें से कुछ मुख्य लाभ हम आपको बता रहे है जो की निम्न प्रकार से है.

  • CBSE की परीक्षा बहुत ही जल्दी होती है और इसका रिजल्ट भी बहुत ही जल्दी आता है इससे विधार्थियो को अपनी मनपसंद यूनिवर्सिटी में खाली सीट मिलने की संभावना बढ़ जाती है.
  • जो भी विधार्थी मेडिकल और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते है उनके लिए सीबीएससी बहुत ही अच्छा है.
  • जो लोग भविष्य में AIEEE की परीक्षा देने का सपना देख रहे है उनके लिए CBSE बहुत अच्छी है क्यूकी AIEEE भी CBSE के द्वारा आयोजित करवाई जाती है.
  • CBSE द्वारा हिंदी और अंगेजी दोनों में शिक्षा प्रदान की जाती है.
  • CBSE में कक्षा दसवीं के विधार्थियो को केवल 6 विषय में पढाई करनी होती है इसका अर्थ है की जितने प्रश्न पत्र होंगे उतने ही विषय आपको मिलेंगे.
  • यह एक मान्यताप्राप्त बोर्ड है जिसे पुरे भारत में मान्यता दी जाती है.

यह सभी इसके मुख्य कारण होते है जिससे लोग इस बोर्ड में ज्यादा रूचि दिखाते है व अगर आप भी चाहे तो इस बोर्ड से दसवीं और बाहरवीं कर सकते है और ऊपर बताये लाभ प्राप्त कर सकते है.

CBSE का रिजल्ट कैसे देखते है

आप CBSE का रिजल्ट बहुत ही आसान तरीके से देख सकते है इसके लिए आपको CBSE की आधिकारिक वेबसाइट cbse.nic.in पर विजिट करना होता है इसके बाद आपको उसमे रिजल्ट देखने का विकल्प मिल जाता है उसके ऊपर क्लिक करके आप अपने रोल नंबर आदि डालकर अपने रिजल्ट को देख सकते है और उसकी प्रिंट भी निकाल सकते है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको CBSE Full Form In Hindi के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और इसी जुड़ा किसी भी तरह का सवाल आदि पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट करके भी बता सकते है.

पिछला लेखIP Full Form in Hindi : IP Address क्या होता हैं और कैसे चेक करें
अगला लेखSSPMIS : बिहार वृद्धजन पेंशन योजना की स्थिति कैसे देखें

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें