नमस्कार मित्रो आज हम आपको CABG Full Form in Hindi के बारे में  बताने वाले है आप सभी ने कई बार CABG के बारे में सुना व पढ़ा होगा पर कई लोगो को इससे जुडी अधिक जानकारी नहीं होती की यह क्या होता है व इसके फायदे क्या है तो इससे जुडी जानकारी के लिए आप हमारा यह आर्टिकल ध्यान से पढ़े.

CABG Full Form in Hindi

अक्सर कई लोग CABG के बारे में अलग अलग प्रकार के सवाल पूछते रहते है व कई लोगो को इस शब्द के बारे में विशेष जानकारी नहीं होती पर यह जानकारी हर व्यक्ति के लिए बहुत ही उपयोगी होती है व अगर आपको CABG Full Form in Hindi के बारे में पता होगा तो यह आपके जीवन में कई तरह से  उपयोगी हो सकती है.

CABG Full Form in Hindi

CABG क्या होता है इसके फायदे आदि क्या है इन सब के बारे में बताने से पहले हम आपको इसके पुरे नाम के बारे में बता देते है.

CABG Full Form – Coronary Artery Bypass Graft

हिंदी में इसे कोरोनरी रक्तवाहिनी बायपास ग्राफ़्ट कहा जाता है व इसके साथ ही इसे ह्रदय धमनी बाईपास सर्जरी के नाम से भी जाना जाता है व यह एक प्रकार की  सर्जरी होती है.

CABG क्या है

यह एक सर्जरी होती है व यह शरीर में रक्त के प्रवाह को पहले से बेहतर बनाती है व यह ह्रदय बाईपास और बाईपास सर्जरी आदि नाम से प्रसिद्ध शल्य क्रिया है जो की ह्रदय में रक्त पहुंचाने वाले तीन धमनियों की शल्य क्रिया को कहा जाता है कई बार ह्रदय की धमनी वसा की जमावट से रुकावट उत्पन्न हो जाती है व इसके कारण धमनी कठोर हो जाती है.

ऐसी परिस्थिति में उक्त धमनी में रक्त का प्रवाह सही तरीके से नहीं हो पाटा और इससे ह्रदय के वाल्व के के खराब होने या रक्तचाप बढ़ने या ह्रदय में मांशपेशियां बढ़ने एवं ह्रदय के कमजोर हो जाने के कारण ह्रदयघात हार्ट अटैक होने की संभावना काफी अधिक बढ़ जाती है व समय पर अगर इसका उपयुक्त इलाज न किया जाए तो ऐसी स्थिति में प्राण भी जा सकते है.

ऐसे में व्यक्ति के ह्रदय की तीन धमनियों में से किसी भी धमनी या सभी धमनियों में अवरोध पैदा होने की संभावना होती है व इस शल्य चिकित्सा के अंतर्गत ऐसी धमनी को निकलकर उसके रुके हुए स्थान को अन्य सामान धमनी से जोड़ा जाता है व इसके कारण जो रुकी हुई धमनी है उसमे नयी जोड़ी गयी धमनी से रक्त प्रवाह पुन शुरू हो जाता है.

CABG के संकेत क्या है

शरीर में कुछ संकेत होने के आधार पर ही डॉक्टर निम्न शल्य चिकित्सा की सलाह देते है व इसमें आपको निम्न प्रकार के संकेत देखने को मिल सकते है.

  • छाती में दर्द होने और धमनी के ब्लॉक होने के कारण एंजाइना की समस्या होने की स्थिति में इसकी सलाह दी जाती है.
  • अगर किसी को कोरोनरी धमनी से जुडी परेशानी हो तो ऐसी स्थिति में इसकी सलाह दी जाती है.
  • अगर किसी व्यक्ति को दिल का दौरा अथवा हार्ट अटेक आता है तो ऐसे में यह सर्जरी की जाती है.
  • किसी भी व्यक्ति में कोरोनरी हार्ट डिजीज के लक्षण दिखाई देते है तो इसकी सलाह दी जाती है.

निम्न परिस्थिति में डॉक्टर के द्वारा इस शल्य चिकिस्ता की सलाह दी जाती है व इससे जुडी जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते है व उनसे  इसके बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको CABG Full Form in Hindi के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है की आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी उपयोगी लगी होगी व अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें और इससे जुड़ा किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट कर के बता सकते है.

पिछला लेखSDM Full Form in Hindi : SDM क्या है और कैसे बनते है
अगला लेखIAS Full form in Hindi : IAS क्या है व IAS कैसे बनते है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें