नमस्कार  मित्रो आज हम आपको BMD Full Form in Hindi  के बारे में बता रह है इसके साथ ही हम आपको BMD क्या होता है इसका इस्तमाल कब होता है और इसके फायदे आदि क्या क्या होते है इन सब के बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले है ताकि आपको BMD से जुडी पूरी जानकारी इसी आर्टिकल के माध्यम से प्राप्त हो सके.

BMD Full Form in Hindi 

हम सब लोग अक्सर ऐसे कई शब्दों के बारे में सुनते रहते है जिनके बारे में हमे विशेष जानकारी नहीं होती पर कई शब्द ऐसे होते है जो हमारे भविष्य में बेहद महत्वपूर्ण साबित होते है BMD भी एक इसी प्रकार का शब्द है जिसके बारे में आपको विशेष रूप से पता होना चाहिए की BMD Full Form in Hindi एवं BMD Full क्या होता है और इसका उपयोग किन परिस्थति में किया जाता है तो इसकी जानकारी के लिए आप हमारा पूरा आर्टिकल ध्यान से पढ़े.

BMD Full Form in Hindi

BMD क्या होता है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको इसके पुरे नाम के बारे बता देते है की इसका पूरा नाम क्या है.

BMD Full Form – Bone Mineral Density

हिंदी में BMD को अस्थि खनिज घनत्व भी कहा जाता है एवं यह एक तरह का एक्स-रे परिक्षण को संदर्भित करते है जिससे की किसी भी व्यक्ति की हड्डियों में खनिजों के घनत्व को मापा जा सके.

BMD क्या है

जैसा की हमने आपको बताया की इसके द्वारा किसी भी व्यक्ति के हड्डियों में खनिज के घनत्व की जांच की जाती है व किसी भी व्यक्ति के हड्डियों के घनत्व को नापा जा सकता है जिससे की कमजोर हड्डियों को पुनः ठीक किया जा सके और भविष्य में हड्डियों की कमजोरी के कारण होने वाली परेशानी से व्यक्ति को बचाया जा सके एवं यह व्यक्तियों के हड्डीओं की ताकत और स्वास्थ्य को इंगित करने में सहायक होते है.

जो भी व्यक्ति ऑस्टियोपीनिया हल्की हड्डी एवं ऑस्टियोपोरोसिस गंभीर हड्डी के जोखिम में होते है खासकर उन व्यक्तियों को इस परिक्षण से गुजरना होता है जिससे की उनकी हड्डियों की जांच व्यवस्तिक तरीके से की जा सके.

BMD का इस्तमाल किसलिए किया जाता है

सामान्यत कहा जाये तो यह जाँच किसी भी व्यक्ति की हड्डियों की जांच करने के लिए किया जाता है और इसके माध्यम से कमजोर हड्डी की पहचान की जा सकती है और इसका इस्तमाल निम्न परिस्थति में किया जा सकता है जो की निम्न प्रकार से है.

  • ऑस्टियोपोरोसिस से छुटकारा पाने के लिए यहाँ बेहद फायदेमंद है.
  • ऑस्टियोपोरोसिस के इलाज में निगरानी करने के लिए भी इसका इस्तमाल किया जाता है.
  • हड्डी के भंग होने से पूर्व हड्डियों के घनत्व की कमी आदि को पहचाने के लिए.
  • अगर एक वर्ष में लम्बाई एक या आधा इंच तक घट जाये तो ऐसी स्थिति में.
  • पचास वर्ष की या इससे अधिक उम्र की पोस्टमेनोपॉज़ल महिला.
  • अगर एक्स-रे में व्यक्ति की रीढ़ की हड्डी में किसी प्रकार का नुकसान दिखाई दे.

यह जांच डॉक्टर की सलाहनुसार की जाती है व अगर आपको किसी भी प्रकार की शंका हो तो आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते है व उनकी सलाह पर यह जांच करवा सकते है.

BMD किस भाग में किया जाता है

यह टेस्ट मानव शरीर के किसी भी हिस्से में किया जा सकता है व यह dexa scan के बहुत से अलग अलग प्रकार के होते है इसमें जिस हिस्से की जांच की जरुरत होती है उसकी स्कैनिंग करवाई जाती है व इसमें शरीर के किसी भी पार्ट की जाँच भी करवाई जाती है और पुरे शरीर की जाँच भी करवाई जाती है.

यह डॉक्टर के ऊपर निर्भर करता है अगर डॉक्टय को लगता है की किसी व्यक्ति के शरीर के किसी हिस्से में कोई कमजोरी है तो उसकी जांच करवाई जा सकती है और कभी कभी डॉक्टर पुरे शरीर की जाँच करवाने की भी सलाह दे सकते है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको  BMD Full Form in Hindi से जुडी जानकारी दी है हमे उम्मीद है की आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें और इससे सम्बंधित आप किसी भी प्रकार का सवाल आदि पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट कर के भी बता सकते है.

पिछला लेखCPT Full Form in Hindi : CPT क्या होता है व कैसे करें पूरी जानकारी
अगला लेखKisan Tractor Yojana क्या हैं और इसमें ऑनलाइन आवेदन कैसे करें
मै रघुवीर चारण PMO Yojana का संस्थापक हूँ हमें लेख लिखना व किताब पढ़ना बेहद पसंद है है हम शिक्षा, कंप्यूटर, मोबाइल, सरकारी नौकरी, नई योजनाओं व इस प्रकार की अन्य कई जानकारी इस Website पर लिखते है

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें