नमस्कार मित्रो आज हम आपको भारतीय जीके से जुडी जानकारी बताने वाले है कई लोगो को भारतीय जनरल नालेज से जुडी जानकारी नहीं होती तो इस आर्टिकल में हम आपको भारत की आकृति कैसी है इसके बारे में जानकारी देने वाले है जिससे की आपको भारतीय आकृति के बारे में पूरी जानकारी इस आर्टिकल में प्राप्त हो सके.

bharat ki aakriti kaisi hai

भारत से जुडी जानकारी होनी हम सभी व्यक्तियों के लिए बेहद ही महत्वपूर्ण है व आपको भारतीय जनरल नालेज के बारे में जितनी अधिक जानकारी होगी आपके लिए उतना ही बेहतरीन होता है व हम आपको इसके बारे में कुछ जरुरी जानकारी बता रहे है जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए व अक्सर हमे भारत की आकृति किस सामान है इससे जुड़े सवाल मिलती है जिसका हमारे पास कोई सटीक जवाब नहीं होता तो हम आपको भारत की आकृति कैसी है इसके बारे में आपको इस आर्टिकल में बतायेगे.

भारत की आकृति कैसी है

भारत की आकृति चतुष्कोणी है एवं भारत विश्व की सबसे प्राचीनतम संस्कृतियों में से एक माना जाता है व शुरुआत से ही इस देश का इतिहास अद्भुद्ध और सर्वोपरि रहा है हाल में भी कई इस देश की संस्कृति के व्याख्यान पुरे विश्व में किये जाते है व भारत में कर्क रेखा भारत के दो बराबर भागो के मध्य से होकर गुजराती है जो की भारत के 8 राज्यों को छूटे हुए गुजराती है.

हालांकि भारत शुरुआत में आकृति में अथवा क्षेत्रफल में काफी  बड़ा था व आजादी से पूर्व भारत एक संगठित क्षेत्र था पर आजादी के बाद भारत के कई बटवारे हो गए व पाकिस्तान भी आजादी से पूर्व भारत का ही एक हिस्सा था पर आजादी के बाद हिन्दू मुस्लिम में धर्म को लेकर हो रहे दंगो के समाधान के लिए भारत के दो भाग कर दिए थे व उसमे से हिन्दू बहुल राज्य भारत और मुस्लिम बहुल राज्य पाकिस्तान बनाया गया था.

भारत की ऋतुएँ

भारत की ऋतुओ के बारे में विशेषज्ञों की अलग अलग राय है क्युकी भारत के परंपरागत रूप से भारत में कुल छ ऋतुएँ मानी गयी है वही भारत के मौसमविज्ञान विभाग ने  भारत में चार ऋतुएँ मानी है जो की निम्न प्रकार से है

  • शीत ऋतु – इस ऋतु में मौसम ठंडा होता है व यह दिसंबर से मार्च तक का मौसम माना गया है इसमें दिसंबर और जनवरी में सर्वाधिक ठण्ड रहती है
  • ग्रीष्म ऋतु – यह वर्ष का सबसे गर्म  मौसम होता है जिसमे अत्यधिक गर्मी होती है उसको ग्रीष्म ऋतु कहा जाता है व यह अप्रैल से जून तक के महीने की ऋतु होती है इसमें मई सबसे गर्म महीना माना गया है
  • वर्षा ऋतु – जिस ऋतु में वर्षा होती है उसको वर्षा ऋतु कहा जाता  जुलाई से सिराम्बर तक का महीना होता है इसके साथ ही सर्वाधिक वर्षा अगस्त माह में होती है व इस ऋतू का आने का समय या जाने का समय अलग अलग स्थानों में अलग अलग होता है किसी क्षेत्र में वर्षा ऋतु जल्दी आ जाती है तो कई स्थानों में वर्षा ऋतु कुछ समय बाद आती है
  • शरद ऋतु – भारत का उतरी भाग अक्टूबर और नवम्बर के महीने में साफ़ और शांत रहता है व इसी को शरद ऋतु कहा जाता है और अक्टूबर से मानसून का  लौटना शुरू हो जाता है व तमिलनाडु के तट पर लौटते मानसून से वर्षा होने लगती है

भारतीय जनरल नालेज से जुडी जानकारी के लिए आपको इसकी ऋतुओ के बारे में पता होना बहुत जरुरी है इसकी ऋतु के बारे में जानकारी होगी तो यह आपके  भविष्य में  आपके लिए काफी उपयोगी हो सकती है

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको भारत की आकृति कैसी है  और भारत की ऋतू के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है की आपको भारत से जुडी जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें और इससे जुड़ा किसी भी प्रकार का सवाल आदि पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट कर के बता सकते है और आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें

पिछला लेखForest Officer क्या होता है व फारेस्ट ऑफिसर कैसे बने
अगला लेखBSNL किस देश की कंपनी है व BSNL के मालिक कौन है

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें