भारत के राष्ट्रपति कौन हैं? | राष्ट्रपति की शक्तियां और योग्यताएं

आज हम आपको भारत के राष्ट्रपति कौन हैं इसके बारे में बता रहे है। अगर आप एक भारतीय निवासी है तो ऐसे में आपको भारत के राष्ट्रपति के बारे में पता होना आवश्यक है। अक्सर ज्यादातर लोगो को भारत के राष्ट्रपति का नाम पता नहीं होता तो ऐसे में यह लेख आपके लिए बहुत ही उपयोगी साबित हो सकता है।

भारत के राष्ट्रपति कौन हैं

इस लेख में हम आपको भारत के राष्ट्रपति से जुडी बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी बताने वाले है। इसमें हम आपको भारत के राष्ट्रपति का नाम, राष्ट्रपति बनने के लिए जरूरी योग्यता और राष्ट्रपति की मुख्य शक्तियों के बारे में विस्तृत रूप से बताने जा रहे है। अगर आप इसके बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो भारत के राष्ट्रपति कौन हैं यह लेख ध्यान से पढ़े।

भारत के राष्ट्रपति कौन हैं?

भारत के राष्ट्रपति देश के सर्वोच्च पद पर आसीन व्यक्ति होते हैं। उन्हें देश का प्रथम नागरिक भी माना जाता है। भारत का राष्ट्रपति भारतीय सेना का सर्वोच्च सेनापति भी होता है। भारत के राष्ट्रपति का चुनाव लोकसभा, राज्यसभा और विधानसभा के निर्वाचित सदस्यों द्वारा किया जाता है। भारत के राष्ट्रपति का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है।

वर्तमान में भारत का राष्ट्रपति कौन हैं?

वर्तमान में भारत के राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू हैं। वे भारत की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति हैं। उनका जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के एक छोटे से गाँव बैदापोसी में हुआ था। उन्होंने स्नातक की उपाधि प्राप्त की है और उन्होंने समाज सेवा में अपना अहम योगदान दिया है।

भारत के राष्ट्रपति बनने के लिए आवश्यक योग्यताएं

भारत के राष्ट्रपति बनने के लिए कई प्रकार की आवश्यक योग्यता रखी जाती है। इसके लिए उम्मीदवार के पास निम्नलिखित योग्यताएं आवश्यक हैं:

  • आवेदक भारत का नागरिक होना चाहिए।
  • आवेदक की न्यूनतम आयु 35 वर्ष होनी चाहिए।
  • आवेदक के पास लोकसभा का सदस्य होने की योग्यता होनी चाहिए।
  • आवेदक किसी भी प्रकार के लाभपद पर नहीं होना चाहिए।

भारत के राष्ट्रपति की शक्तियां क्या हैं?

भारत के राष्ट्रपति को कई प्रकार की शक्तियां प्राप्त होती हैं। हम आपको भारत के राष्ट्रपति की प्रमुख शक्तियां बता रहे है  इनमें से कुछ प्रमुख शक्तियां निम्नलिखित हैं:

  • आपातकालीन शक्तियां
  • कार्यपालिका शक्तियां
  • न्यायिक शक्तियां
  • विटो शक्तियां
  • विधायी शक्तियां
  • विवेक शक्तियां
  • सैन्य शक्तियां

आपातकालीन शक्तियां

राष्ट्रपति देश में आपातकाल की घोषणा कर सकता है, इसका अधिकार भारत के राष्ट्रपति के पास होता है। आपातकाल की तीन श्रेणियां हैं जो निम्न प्रकार से है:

  • राष्ट्रीय आपातकाल: जब देश पर बाहरी आक्रमण या आंतरिक अशांति का खतरा होता है।
  • वित्तीय आपातकाल: जब देश की वित्तीय स्थिति गंभीर रूप से बिगड़ जाती है।
  • राष्ट्रपति शासन: जब किसी राज्य में सरकार अस्थिर हो जाती है।

कार्यपालिका शक्तियां

राष्ट्रपति कार्यपालिका का प्रमुख होता है। वह प्रधानमंत्री और मंत्रिमंडल की नियुक्ति करता है। वह किसी भी राज्य का राज्यपाल नियुक्त कर सकता है। वह सेना का सर्वोच्च सेनापति होता है।

न्यायिक शक्तियां

राष्ट्रपति उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की नियुक्ति करता है। वह किसी भी व्यक्ति की सजा माफ़ कर सकता है।

विटो शक्तियां

राष्ट्रपति संसद द्वारा पारित किसी भी विधेयक को वीटो कर सकता है। इसका मतलब है कि वह उस विधेयक को लागू होने से रोक सकता है।

विधायी शक्तियां

राष्ट्रपति संसद के दोनों सदनों का संयुक्त अधिवेशन बुला सकता है। वह संसद को भंग कर सकता है।

विवेक शक्तियां

कुछ विशेष मामलों में राष्ट्रपति को अपने विवेक से निर्णय लेने की शक्ति प्राप्त होती है। राष्ट्रपति अपनी इच्छा से इस शक्ति का उपयोग कर सकता है।

सैन्य शक्तियां

राष्ट्रपति भारत की संपूर्ण सेना का सर्वोच्च सेनापति होता है। वह किसी भी युद्ध या शांति की घोषणा कर सकता है। भारतीय सेना को दिशा निर्देश देने का अधिकार राष्ट्रपति के पास होता है।

भारत के राष्ट्रपति देश के सर्वोच्च पद पर आसीन व्यक्ति होते हैं। उन्हें देश का प्रथम नागरिक भी माना जाता है। भारत के राष्ट्रपति को कई प्रकार की शक्तियां प्राप्त होती हैं, जिनका प्रयोग वह देश के हित में करता है।

पिछला लेखपेट्रोल खत्म? घबराएं नहीं! यहां है आस पास के पेट्रोल पंप
अगला लेखरुकी हुई हाइट कैसे बढ़ाए? – 10 आसान उपाय
Raghuveer
रघुवीर दान, PMO योजना केसंस्थापक है एवं एक लेखक है। इन्हें 5 वर्षो का लेख लिखने का अच्छा अनुभव है। यह विभिन्न प्रकार की जानकारी प्रकाशित करते है।

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें