नमस्कार मित्रो आज हम आपको BCG के बारे में बता रहे है व इसके साथ ही BCG Full Form क्या होता है व BCG किसे कहते है और इसका उपयोग कब और किसलिए किया जाता है इन सब के बारे में हम आपको बतायेगे जिससे की आपको BCG टीके के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त हो सके.

BCG Full Form in Hindi

आप सभी ने कई बार BCG के बारे में सुना ही होगा व कई लोगो को इसके बारे में विशेष जानकारी नहीं होती व BCG Full Form के बारे में पता नहीं होता तो आपको इनसे जुडी जानकारी होनी बहुत ही आवश्यक है क्युकी इस प्रकार की जानकारी आपके लिए काफी उपयोगी हो सकती है इसलिए आपको BCG के बारे में पता होना बहुत ही जरुरी है.

BCG Full Form in Hindi

BCG क्या होता है व किसे कहते है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको इसके पुरे नाम के बारे में बता देते है की इसका पूरा नाम क्या होता है.

BCG Full Form – Bacillus Calmette-Guerin

हिंदी में इसको बेसिल कालमेट ग्यूरिन कहा जाता है व यह एक तरह का टीका होता है जिसका इस्तमाल किसी भी शिशु को टीबी और मेनिनजाइटिस आदि से बचाने के लिए किया जाता है.

BCG क्या होता है

जैसा की हमने आपको बताया की यह एक टीका होता है जिसका उपयोग शिशु को  मेनिनजाइटिस और टीबी आदि से बचाने के लिए किया जाता  है और इसके साथ ही BCG टीके का उपयोग ब्लेडर कैंसर और ब्लेडर ट्यूमर आदि के इलाज में भी किया जाता है जिसके कारण यह स्वास्थ्य के लिए कई अलग अलग प्रकार से उपयोगी माना गया है.

इस देश में इस टीके को शिशु टीकाकरण में भी शामिल किया हुआ है व यह टीका उन बच्चो को दिया जाता है जिनके टीबी होने की संभावना ज्यादा होती है व माना गया है की BCG का टीका लगभग 20 वर्षो तक टीबी फैलाने वाले कीटाणुओं से सुरक्षा करता है व इस टीके को किसी भी शिशु की बाजू पर लगाया जाता है.

BCG का टीका कब लगाया जाता है

आपको इसके बारे में पता होना जरुरी है की BCG का टीका कब और किसलिए लगाया जाता है तो हम आपको इसके बारे में बता देते है की ये टीका कब लगाया जाता है.

  • 6 वर्ष से कम उम्र के बच्चो को BCG का टीका लगाया जाता है.
  • अगर कोई शिशु 3 माह के लिए ट्यूबरकुलोसिस संक्रमित देश में जा रहा ही.
  • अगर कोई शिशु ट्यूबरकुलोसिस संक्रमित देश से  आया हुआ हो.
  • अगर किसी परिवार का कोई सदस्य ट्यूबरकुलोसिस संक्रमित हो तो उस परिवार के बच्चे को.
  • अगर किसी शिशु के माता पिता को कुष्ठ रोग होता है उनके बच्चो को.

निम्न परिस्थिति में किसी भी शिशु को BCG का टीका लगाया जाता है.

BCG का टीका किनको नहीं लगाया जाता

कई लोगो को इसके बारे में पता नहीं होगा की आखिर किन बच्चो को ये टीका नहीं लगाया जाता है और किन परिस्थिति में ये टीका नहीं लगाया जाता तो हम आपको कुछ कारण बता रहे है जिसमे ये टीका नहीं लगाया जाता.

  • अगर किसी शिशु के शरीर में मांस 2 किलोग्राम से कम हो तो उनको ये टीका नहीं लगता.
  • अगर किसी व्यक्ति को हाल में टीबी हो या पहले टीबी हो चूका हो.
  • जिन शिशु में रोगप्रतिरोधक क्षमता की कमी होने पर.
  • कोई एचआईवी से संक्रमित व्यक्ति.
  • कोई महिला गर्भावस्था में हो तो उसको ये टीका नहीं लगाया जाता.
  • अगर कोई भी रोगी किसी भी तरह के गंभीर रोग से ग्रस्त हो तो उसको ये टीका नहीं लगाया जाता.

निम्न परिस्थिति में BCG का टिका नहीं लगाया जाता है इसके बारे में डॉक्टर से परामर्श ले सकते है डॉक्टर इसके बारे में आपको पूर्ण जानकारी बता देते है की ये टीका आपको लगाया जा सकता है या नहीं.

BCG टीके के साइडइफेक्ट

BCG के बहुत से साइड इफ़ेक्ट है जिसके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए व हम आपको इसके कुछ साइड इफेक्ट के बारे में बता रहे है जो की निम्न प्रकार से है.

  • इंजेक्शन लगाया गया है उस जगह पर लालिमा होना.
  • शिशु को टीके के बाद बुखार आना.
  • शिशु को टीके के बाद दस्त लगना.
  • पेशाब में खून का आना.
  • पेशाब करने पर दर्द महसूस होना.
  • बार बार पेशाब लगना.

ये सभी BCG  के साइड इफ़ेक्ट होते है व इसके साथ ही अगर टीके के बाद त्वचा पर रेशेज दिखे या कुछ खाने पिने में परेशानी होने पर या सांस लेने पर घरघराहट लगने पर तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए व किसी नजदीक के अच्छे अस्पताल जाना चाहिए.

BCG के बाद सावधानी

BCG के टीके के लगने के बाद कुछ सावधानी रखनी बहुत ही जरुरी है ताकि बादमे किसी भी  प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े व टीका लगे व्यक्ति का बेहतरीन ख्याल रख सके.

  • जहां पर इंजेक्शन लगा है वहां पर डॉक्टर को बिना पूछे किसी भी तरह की दवाई आदि न लगाए.
  • अगर इंजेक्शन से फफोले हो जाते है तो उसको कभी भी फोड़े नहीं.
  • शिशु के जिस हाथ में इंजेक्शन लगा है उस हाथ पर मालिश न करें.
  • इंजेक्शन वाली जगह को साफ़ सुथरा रखे.
  • जहां तक हो सके वहां तक इंजेक्शन वाली जगह को सूखा  रखने का प्रयत्न करे.

टीका लगने के बाद निंम्न बातो को ध्यान रखना बहुत ही जरुरी है ताकि आपको बादमे किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े और जिसे टीका लगा है वो जल्दी ही सामान्य अवस्था में आ सके.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको BCG Full Form in Hindi और BCG क्या होता है ये टीका कैसे लगता है और इसमें क्या सावधानी रखनी जरुरी है इसके बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है की आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसको शेयर जरूर करें और इससे जुड़ा किसी भी तरह का सवाल आदि पूछना चाहते है तो आप कमेंट कर के बता सकते है.

पिछला लेखGK MP : मध्यप्रदेश से सम्बंधित 100 प्रश्नन उत्तर की जानकारी
अगला लेखAP Voter List : How to See Andhra Pradesh Voter List Online

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें