नमस्कार मित्रो आज हम आपको Bank Manager Kaise Bane इसके बारे में बताने वाले है अगर आपका सपना बैंक मेनेजर बनने का है तो यह जानकारी आपके लिए बेहद ही उपयोगी साबित होने वाली है इसमें हम आपको बैंक मेनेजर कैसे बनते है, इसके लिए योग्यता क्या होनी चाहिए, इसकी चयन प्रक्रिया क्या होती है इन सब के बारे में बतायेगे.

Bank Manager Kaise Bane

अगर आप बैंक मैनेजर की सम्मानजनक नौकरी पाना चाहते हो तो आपको उसके अनुसार मेहनत भी करनी पडेगी क्युँकि बैंक मैनेजर की नौकरी पाना बहुत कठिन कार्य हैं इसके लिये बहुत मेहनत व उचित मार्गदर्शन मिलना बहुत आवश्यक हैं। जब तक आप को सही मार्गदर्शन नही मिलेगा तब तक आपकी मेहनत ना के बराबर है एवं आप बैंक मेनेजर बनने का सपना देख रहे है तो आप Bank Manager Kaise Bane यह आर्टिकल ध्यान से पढ़े.

Bank Manager Kaise Bane

अगर आप बैंक में मैनेजर बनना  चाहते हैं तो इसके लिए आपको सही मार्गदर्शन के साथ साथ कठिन परिश्रम भी करना होता हैं क्युकी आप सभी जानते होंगे की यह एक जिम्मेदारी वाली पोस्ट होने के साथ ही लाखो होनहार विधार्थियों की पसंदीदा नौकरी भी है.

इस कारण से इस पोस्ट पर नौकरी प्राप्त करने के लिए आपको बहुत अच्छी तयारी करनी होगी व बैंक मैनेजर बनने की प्रोसेस हम आपको आज  बता रहे है  ताकि आपको इसमें आवेदन करने और नौकरी प्राप्त करने के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके.

BANK MANAGER बनने के लिए योग्यता

आपको बैंक मेनेजर बनना है तो इसके लिए आपको कुछ आवशक योग्यता को पूरा करना जरुरी है उसके बाद ही आप एक बैंक मेनेजर के रूप में अपना कैरियर बना सकते है इसके लिए आपको निम्न प्रकार की योग्यता को पूरा करना होगा.

  • उम्मीदवार किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन अथवा पोस्ट ग्रेजुएशन किया हुआ होना आवश्यक हैं.
  • उम्मीदवार को बैकिंग का अनुभव होना आवश्यक हैं.
  • उम्मीदवार की उम्र 21 वर्ष या अधिक हो‌ना आवश्यक हैं.
  • उम्मीदवार के ग्रेजुएशन मे 60% होने आवश्यक हैं। इससे कम‌ अंको वाले उम्मीदवार भी इसके‌ लिए आवेदन किया जा सकता हैं पर ये सुविधाएँ बहुत कम बैंक देती हैं.
  • 12th मे commerce वाले उम्मीदवारों को अधिक मान्यता दी जाती हैं। क्युँकि commerce के उम्मीदवारों को बैकिंग का अनुभव होता हैं.
  • उम्मीदवार कोई कैदी नही होना चाहिए। व उस पर किसी तरह का पुलिस केस नही होना चाहिए.
  • English भाषा का अनुभव होना आवश्यक हैं। क्युँकि बैकिंग में ज्यादातर English भाषा का इस्तेमाल होता हैं.

यह सभी कुछ विशेष योग्यता है जिन्हें आपको पूरा करना होता है इन योग्यता को पूरा करने के बाद आप बैंक मैनेजर पद के लिए आवेदन कर सकते है और अपना बैंक मैनेजर बनने के सपने को पूरा कर सकते है

बैंक मैनेजर बनने की प्रोसेस

आपको बैंक मैनेजर  बनने के लिए कुछ आसान सी प्रोसेस को फॉलो करना होता है उसे फॉलो करने के बाद ही आप एक बैंक मैनेजर  के रूप में अपना बेहतरीन कैरियर बना सकते है इसके लिए आप निम्न प्रोसेस फॉलो करनी होगी.

बेसिक शिक्षा प्राप्त करें – आपको बैंक मैनेजर  बनने के लिए बाहरवी के बाद फाइनेंस से सम्बंधित विषय में बैचलर डिग्री करनी होती है इसके लिए आप चाहे तो B.Com कोर्स को कर सकते है या आप BBA कोर्स को कर सकते है एवं इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपका किसी भी मान्यताप्राप्त बोर्ड से न्यूनतम 50% अंको के साथ बाहरवी उतीर्ण करना जरुरी है.

मास्टर डिग्री करें – जब आपकी बैचलर डिग्री हो जाती है तो इसके बाद आपको मास्टर डिग्री करनी होती है अगर आप मास्टर डिग्री कर लेते है तो इससे आपको बैंक मैनेजर की पोस्ट में वरीयता दी जाएगी और आपको सरकारी या प्राइवेट बैंक में आसानी से किसी भी अच्छी पोस्ट पर नौकरी मिल जाएगी.

बैंकिंग अनुभव प्राप्त करें – जब आप मास्टर डिग्री प्राप्त कर लेते है तो इसके बाद आपको बैंकिंग के क्षेत्र में अनुभव प्राप्त करना होता है इसके लिए आप किसी भी सरकारी या प्राइवेट बैंक में काम कर सकते है इससे आपको बैंकिंग से जुड़े क्षेत्र में कार्य करने का अच्छा अनुभव प्राप्त हो जाता है और आप बैंकिंग से जुड़े कार्य आसानी से सीख पायेगे.

निम्न प्रोसेस को फॉलो करने से आपको बैंक मैनेजर पद पर नौकरी मिलने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है व इससे आप बैंकिंग से जुड़े कार्य भी सीख जाते है जिससे आपको काम करने में काफी आसानी होगी.

बैंक मैनेजर के लिए आवेदन कैसे करें

बैक मैनेजर बनने के लिए आपको आने वाली बैंक की भर्ती पर ध्यान रखना होगा जब इसकी भर्ती आती हैं तब आपको आवेदन करना होगा हर बैंक के लिए अलग अलग भर्तीया आती हैं व प्राइवेट बैंक मे मैनेजर बनना आसान हैं इसमे आप सीधे document जमा करवा दे और आपको interview के लिए बुलाया जाये तब आप अपने सारे document ले कर interview देने जाये अगर आप  interview मे सफल होते हैं तो आपको सीधे नौकरी पर लगाया जाता हैं.

Bank Manager की चयन प्रक्रिया

बैंक मैनेजर की चयन प्रक्रिया चार अलग अलग चरणों में रखी जाती है इनमें सफल होने के बाद ही आपको बैंक मेनेजर की पोस्ट पर नौकरी प्राप्त हो सकती है.

  • प्रारम्भिक परीक्षा
  • मुख्य परीक्षा
  • साक्षात्कार
  • समुह विचार-विमर्श

आवेदन करने के बाद आपको निम्न अलग अलग चयन प्रक्रिया से होकर गुजरना होता है इसके बाद ही आप एक bank मेनेजर में रूप में अपना कैरियर बना सकते है.

1. प्रारम्भिक परीक्षा

बैंक मैनेजर बनने के लिये ये पहला चरण होता है, ये परीक्षा उम्मीदवार की काबीलियत की परख करने के लिए किया जाता हैं। इस परीक्षा के माध्यम से काबिल उम्मीदवारों को छाटा जाता हैं व अन्य लोगो को मुख्य परीक्षा से बाहर कर दिया जाता हैं। ये परीक्षा बहुत महत्वपूर्ण होती हैं व इसके‌ लिए भी उम्मीदवारों को कडी मेहनत करनी पडती हैं.

2. मुख्य परीक्षा

जब आप प्रारंभिक परीक्षा को उतीर्ण कर लेते है तो इसके बाद आपको मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है इसमें आपकी 100 अंको की परीक्षा होती है व इसमें उतीर्ण होने के लिए आपको काफी अच्छे से मेहनत करनी होगी तभी आप इस परीक्षा में सफल हो सकते है यह परीक्षा प्रारंभिक परीक्षा की तुलना में काफी ज्यादा कठिन होती है एवं इस परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग नहीं रखी जाती.

3. साक्षात्कार

दोनो परीक्षा मे‌ सफल‌ होने वाले उम्मीदवारों को इस चरण मे‌ बुलाया जाता है। इस चरण मे‌ कुछ अधिकारी उम्मीदवारों को उनके बताये गये स्थान पर उनके document ले‌ के बुलाते हैं व अधिकारी उम्मीदवारों को कुछ सवाल जवाब करते हैं। उम्मीदवारों द्वारा उनके सवालो का जवाब किस तरह से दिया जाता हैं उसके आधार पर अधिकारी उम्मीदवारों को इस चरण मे उतीर्ण घोषित करते है.

4. समुह विचार – विमर्श

बैक मैनेजर बनने‌ का‌ ये अन्तिम चरण होता हैं जो की साक्षात्कार से काफी मिलता जुलता होता हैं। इसमे‌ कुछ अधिकारी व उम्मीदवार एक जगह पर‌ बैठ कर उम्मीदवार को कोई एक विषय देते हैं। और उम्मीदवार को उस विषय पर अपने‌ विचार व्यक्त कर के अपनी काबिलीयत दिखानी होती है.

जब  आप इन सभी चरणों को पूरा कर लेते हैं तो इसके बाद मेरिट जारी होती हैं व उसके माध्यम से Bank Manager का चयन किया जाता हैं इन सभी चरणों को उत्तीर्ण करने के लिए आपको कठिन मेहनत करनीं होती हैं तभी आप इसमें सफलता प्राप्त कर सकते हैं.

बैंक मेनेजर कितने प्रकार के होते है

हर बैंक में अलग अलग प्रकार के बैंक मेनेजर नियुक्त होते है व सभी के कार्य और अधिकार भी अलग अलग होते है इसमें कई अलग अलग तरह की पोस्ट होती है जिसके बारे में हम आपको बता रहे है.

ब्रांच मैनेजर – यह बैंक मैनेजर की सबसे बड़ी पोस्ट होती है इसमें बैंक मैनेजर किसी भी ब्रांच का कार्यकारी प्रमुख होता है एवं किसी भी ब्रांच में कर्मचारियों को काम पर रखना,ऋण स्वीकृत करना, मार्केटिंग करना, ग्राहकों की समस्या का समाधान करना, ब्रांच के विकास और सुरक्षा के लिए कदम उठाना, ब्रांच को सही वक्त पर खोलना और बंद करना इस तरह के तमाम कार्य ब्रांच मैनेजर को करने होते है व हर ब्रांच में ब्रांच मैनेजर का पद अहम् होता है.

सार्विस मैनेजर – यह अधिकारी सेवा प्रबधन एवं ग्राहकों को संभालने के लिए जिम्मेदार होते है व सर्विस मैनेजर का मुख्य कार्य ग्राहकों को बेहतरीन सेवाए उपलब्ध करवाना होता है इसके साथ ही यह अधिकारी वर्त्तमान परियोजनाओं की प्रगति पर निगरानी रखते है व टीम को दिए गये लक्ष्य को पूरा करने के लिए कार्य करते है.

सीनियर बैंक मैनेजर – यह अधिकारी ब्रांच को सही तरह से संचालित करने के लिए अन्य अधिकारियो को निर्देश देते है इसके साथ ही यह ऋण, लेनदेन, ग्राहक सेवा, मानव संसाधन आदि से जुड़े कार्य करते है व ग्राहकों के लिए आवश्यक सुविधाए मुहैया करवाते है.

जूनियर बैंक मैनेजर –  यह अधिकारी सीनियर मैनेजर के अधीन कार्य करते है एवं इनके कार्य बैक के कनिष्ठ ग्रेड अधिकारियो के प्रबंधन से जुड़े होते है इसके साथ ही यह नए नए रणनीति बनाने और ब्रांच को दिए गये लक्ष्य को पूरा करने के लिए भी जिम्मेदार होते है.

बैंक मैनेजर बनने के लिए कोर्स

बैंक मैनेजर बनने के लिए कई अलग अलग प्रकार के कोर्स होते है जिन्हें आप कर सकते है हम आपको कुछ कोर्स के बारे में बात रहे है उन्हें करने के बाद आप एक बैंक मैनेजर बन सकते है

  • Bachelor of Commerce (B Com)
  • Master of Commerce (M Com)
  • Bachelor of Business Administration (BBA)
  • Master of Business Administration (MBA)

यह कोर्स बैंक मैनेजर बनने के लिए बहुत ही पोपुलर कोर्स है व यह कोर्स आपको हर कॉलेज या संस्थान में आसानी से मिल जायेगे जहां से आप इन कोर्स को कर पायेगे

भारत के सरकारी बैंक की सूचि

भारत में कई अलग अलग सरकारी बैंक है जिसके बारे में हम आपको बता रहे है अगर आप सरकारी बैंक में नौकरी करना चाहते है तो इसके लिए आप निम्न बैंक में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते है

  • Bank of Baroda
  • Bank of India
  • Bank of Maharashtra
  • Canara Bank
  • Central Bank of India
  • Indian Bank
  • Indian Overseas Bank
  • Punjab National Bank
  • Punjab & Sind Bank
  • Union Bank of India
  • UCO Bank
  • State Bank of India

भारत के प्राइवेट बैंक की सूचि

भारत में कई प्राइवेट बैंक भी है जिसमे आप नौकरी प्राप्त कर सकते है प्राइवेट बैंक में नौकरी प्राप्त करना सरकारी बैंक की तुलना में थोडा आसान होता है अगर आप प्राइवेट बैंक में नौकरी प्राप्त करना चाहते है तो इसके लिए आप निम्न बैंक में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते है.

  • Axis Bank
  • HDFC Bank
  • ICICI Bank
  • IndusInd Bank
  • RBL Bank
  • YES Bank
  • Citibank
  • HSBC
  • Kotak Mahindra Bank Ltd
  • Federal Bank

निम्न बैंक में आप नौकरी के लिए आवेदन कर सकते है व इन बैंक में आप एक ब्रांच मेनेजर या बैंक मेनेजर के रूप में भी कर सकते है.

बैंक मेनेजर की सैलेरी

सरकारी और प्राइवेट दोनों बैंक में बैंक मेनेजर की सैलेरी अलग अलग होती है प्राइवेट बैंक की तुलना में सरकारी बैंक में सेलेरी अधिक दी जाती है एवं सामान्यत एक बैंक मैनेजर को 20,000/- रूपए से लेकर 60,000/- रूपए तक की सेलेरी दी जाती है इसके साथ ही महंगाई भत्ता, आवास सुविधा, यात्रा भत्ता, चिकित्सा भत्ता, इन्सुरांस आदि भी बैंक द्वारा प्रदान किये जाते है.

Bank Manager FAQ

बैंक मैनेजर बनने के लिए क्या क्या पढ़ना पड़ता है?

बैंक मैनेजर बनने के लिए आपको कई तरह के विषय को पढना होता है जिसमें सभी फाइनेंस और अकाउंट से संबधित विषय होते है इसकी विस्तृत जानकारी के लिए आप IBPS सेलेबस को देख सकते है उसमे आपको विस्तृत रूप से जानकारी मिल जाएगी की बैंक मेनेजर परीक्षा में किस प्रकार के सवाल पूछे जाते है.

बैंक मैनेजर का वेतन कितना है?

हर बैंक में इस पोस्ट के लिए अलग अलग वेतन होता है व प्राइवेट बैंक की तुलना में सरकारी बैंक के मैनेजर को अधिक वेतन दिया जाता जाता है इस पोस्ट पर सामान्यत 20,000/- रूपए से लेकर 60,000/- रूपए तक का भी वेतन दिया जाता है एवं साथ में अन्य कई सुविधाए और भत्ते भी प्रदान किये जाते है.

बैंक में मैनेजर का क्या काम होता है?

एक बैंक मेनेजर को किया अलग अलग तरह के कार्य करने होते है जिसमे ब्रांच का सञ्चालन, ब्रांच की सुरक्षा, ब्रांच में नए नियम कानून बनाना, ऋण स्वीकृति, बैंक की मिले टारगेट पूरा करना, ग्राहकों की शिकायत सुनना, कर्मचारियों से कार्य करवाना, ब्रांच में कर्मचारियों की नियुक्ति करवाना इस तरह के कई कार्य इन्हें करने होते है.

बैंक मैनेजर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए?

आप बैंक मैनेजर  बनने के लिए बाहरवी के बाद बैंकिंग और फाइनेंस से जुडा कोई भी सब्जेक्ट ले सकते है और इसमें पढाई करके आप बैंक मैनेजर के लिए आवेदन कर सकते है इसकी विस्तृत जानकारी हमने आपको ऊपर आर्टिकल में बतायी है आप उसे भी पढ़ सकते है.

बैंक में कुल कितने पद होते हैं?

किसी भी बैंक में कई अलग अलग प्रकार की पोस्ट होती है इसमें से सबसे मुख्य पोस्ट की बात करे तो सबसे मुख्य पोस्ट 3 प्रकार की होती है जो Bank PO, Clerk और Bank Manager की होती है इसके अलावा भी कई अलग अलग तरह की पोस्ट होती है जिसके बारे में हम आपको आने वाले आर्टिकल में विस्तृत रूप से बताने का प्रयत्न करेंगे.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको Bank Manager Kaise Bane इसके बारे मे जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें व इससे सम्बंधित किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट कर के भी बता सकते है.

पिछला लेखBLO Full Form In Hindi : बीएलओ क्या है और कैसे बनते है
अगला लेखLLB Full Form in Hindi : एलएलबी का पूरा नाम क्या है

2 टिप्पणी

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें