नमस्कार मित्रो आज हम आपको Baccho Ko Kaise Padhaye इसके बारे में बताने वाले है अक्सर हर एक व्यक्ति चाहता है की उसके बच्चे पढ़ाई में बहुत ही होशियार हो व इसके लिए लोग अपने बच्चो को बड़े बड़े स्कूल आदि में एडमिशन दिलवाते है लेकिन आप अपने बच्चो को होशियार करना चाहते है तो आपको उन्हे  पढ़ाना बहुत ही जरुरी है.

Baccho Ko Kaise Padhaye

ज्यादातर लोगो को इसके बारे में जानकारी नहीं होती की वो अपने बच्चो को किस प्रकार से पढ़ा सकते है व इस कारण से ज्यादातर लोग अपने बच्चो को अच्छे से पढ़ा नहीं पाते लेकिन हम आपको Baccho Ko Kaise Padhaye इस आर्टिकल में जो तरीका बताने वाले है उससे आप बहुत ही आसानी से अपने बच्चो को पढ़ा सकते है.

Baccho Ko Kaise Padhaye

बच्चो को पढ़ाने के लिए सबसे पहले तो आपको उनके लिए उपयुक्त समय निकालना होगा जिसमे आप अपने बच्चो को पढ़ा सके व इसके साथ ही आप जिस विषय में अपने बच्चे को पढ़ा रहे है या पढ़ना चाहते है उस विषय के बारे में आपको भी काफी अच्छी जानकारी होनी चाहिए तभी आप अपने बच्चो को बेहतरन शिक्षा दे सकते है.

बच्चो को डराए नहीं

आप अपने बच्चो को पढ़ाना चाहते है तो ऐसे में यह बात आपको विशेष रूप से ध्यान रखनी होगी की आप कभी भी अपने बच्चो को डराए नहीं क्युकी की अगर आपके बच्चे आपसे ज्यादा डरेंगे तो वो कभी भी आपके साथ पढाई में फोकस नहीं कर पाएंगे और इस कारण से आपके पढ़ाने का इतना ज्यादा असर बच्चो पर नहीं होगा इसलिए आप अपने बच्चो के साथ सही तरीके से पेश आये और उन्हें कभी भी डराने की कोशिश न करें.

बच्चो को दुसरो के सामने न डांटे

अगर आप अकेले में बच्चे को थप्पड़ भी मारते है तो उसे इतना बुरा नहीं लगता पर अगर आप अपने दोस्तों के सामने या किसी रिश्तेदारों के सामने अपने बच्चो को डांटते है तो इससे बच्चो को अपमान महसूस होता है व इसका असर सीधे बच्चे के दिमाग पर पड़ता है इसलिए आप कभी भी अपने बच्चो को दूसरे व्यक्ति के सामने न डांटे व कोई बात है तो बच्चो को डांटने की बजाय उन्हें समझाने का प्रयत्न करें.

बच्चो की बात अनसुनी न करें

कोई भी बात होती है तो बच्चा सबसे पहले उसे अपने माता पिता को बताता है ताकि उसके सही मार्गदर्शन मिल सके व ऐसे में आपको कभी भी अपने बच्चो की बातो को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए अगर आपका बच्चा आपसे कुछ भी बात करना चाहता है या कुछ बताना चाहता है तो आप अपने बच्चे की बात को ध्यान से सुने और बच्चो को कोई समस्या हो तो उसका समाधान निकालने की कोशिश करें तभी आपका बच्चा पढाई में पूरा मन लगा पायेगा.

बच्चो पर हाथ न उठाये

अक्सर कोई लोग अपने बच्चो पर सही तरीके से पढाई न करने पर हाथ उठा लेते है यह बहुत ही बुरी आदत होती है इससे बच्चे के दिमाग में पढाई से ज्यादा रोष उत्पन हो जाता है इससे बच्चा सही तरीके से पढाई नहीं कर पाता और बच्चे का मन भी पढाई में नहीं लगता इसलिए आप अपने बच्चो पर कभी भी हाथ न उठाये एवं बच्चे से गलती होती है तो उसे प्यार से समझाने की कोशिश करें.

बच्चो को फोटो वाली किताब पढ़ाये

अक्सर बच्चे कठिन भाषा में पढाई नहीं कर पाते उन्हें सबसे आसान तरीके से पढ़ाना होता है अगर आप बच्चो को बेहतर तरीके से पढ़ना चाहते है तो इसके लिए आपको अपने बच्चो को फोटो वाली किताबे पढ़ाने का प्रयत्न करें इस तरह की किताबो को बच्चे आसानी से समझ पाते है और आप जो भी पढ़ाएंगे वो बच्चे को याद भी बहुत ही आसानी से और बहुत ही जल्दी होगा जिसके कारण आप अपने बच्चो को इस तरह की किताबे पढ़ाने का प्रयत्न अधिक करें.

खिलौनों का भी सहारा ले

अगर आप अपने बच्चो को पढ़ाते है और आप चाहते है की आप जो पढ़ा रहे है वो बच्चो को जल्दी याद हो तो इसके लिए आप खिलौने का सहारा ले सकते है क्युकी खिलौने का सहारा लेकर आप बच्चो को जो भी पढ़ाते है वो बच्चो को आसानी से समझ में आ जाता है इससे आप जो पढ़ा रहे है वो बच्चा जल्दी सिख लेता है इसलिए आप बेहतर तरीके से पढ़ाने के लिए खिलोने की मदद जरूर ले.

बच्चो के सवालों का जवाब दे

अक्सर बच्चो के मन में कई प्रकार के सवाल आदि आते रहते है और वो अपने सवालों को माँ बाप या अभिभावकों से ही पूछते है तो आपको बच्चो के सवालों को ध्यान से सुनना होगा और आप बच्चो के सवालों का जवाब भी जरुरी दे इससे बच्चे आपसे बहुत कुछ सीखेंगे और बच्चो के मन में कोई सवाल आदि होंगे तो उसके जवाब भी उनको मिल जायेगे इसलिए आपको बच्चो के सभी सवालों का जवाब देना बहुत ही जरुरी है.

पढाई का रूम बेहतरीन बनाये

आप किस जगह पर बच्चो को पढ़ाते हो यह बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होता है व अक्सर किसी पेड़ की छाया में बच्चो को पढ़ाना काफी अच्छा होता है वहां वातावरण काफी अच्छा रहता है पर आप किसी रूम या क्लासरूम में बच्चो को पढ़ते है तो उसकी बनावट या सजावट उसी प्रकार से करें जिससे की बच्चो की उसमे कुछ न कुछ सिखने को मिल सके और बच्चे उस जगह पर रहकर पढ़ाई में फोकस कर सके.

पढ़ाई का समय निश्चित करें

ऐसा न हो की आपका जब मन करें तब आप बच्चो को पढ़ाने लग जाए क्युकी इससे बच्चे सही तरीके से पढाई नहीं कर पाते और उनका मन भी पढाई में नहीं लगता इसलिए आप बच्चो को पढ़ाते है तो आपको समय  निश्चित रखे की आपको बच्चो को कब  पढ़ाना है एवं  निश्चित समय पर पढाई करवाने पर बच्चा अच्छे से पढाई कर पाता है और आपका पढ़ाया हुआ बच्चो को आसानी से याद हो जाता है.

माइंड गेम्स खेलाए

माइंड गेम कई तरह के होते है व इसमें हमे अपना दिमाग लगाकर खेलना होता है तभी हमको इसमें जित मिल पाती है अगर आप बच्चो को मानसिक रूप से स्ट्रांग बना लेते है तो वो पढाई में बहुत ही ज्यादा बेहतर बन जाते है इसके लिए आपको अपने बच्चो को माइंड गेम खेलने के लिए  प्रेरित करें इससे बच्चे मानसिक रूप से स्वास्थ्य रहते है और माइंड गेम खेलने से बच्चो का दिमाग भी जल्दी बढ़ने लगता है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको Baccho Ko Kaise Padhaye इसके बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको यह जानकारी  पसंद आये तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और इससे जुड़ा किसी भी प्रकार का सवाल पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट करके बता सकते है.

पिछला लेखFASTag Recharge Kaise Kare? सिर्फ 2 मिनिट में
अगला लेखLoco Pilot की Salary क्या होती है व लोको पायलट कैसे बने

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें