नमस्कार मित्रो आज हम आपको Ayurvedic Doctor Kaise Bane इसके बारे में बताने वाले है आपने कई बार आयुर्वेदिक डॉक्टर को तो देखा ही होगा व ऐसे में कई लोगो के मन में खयाल आता है की हम भी आयुर्वेदिक डॉक्टर कैसे बन सकते है तो इसकी जानकारी के लिए आप हमारे इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़े.

Ayurvedic Doctor Kaise Bane

हर व्यक्ति का अपने भविष्य को लेकर अलग अलग सपना होता है वही बहुत से लोग चाहते है की वो दूसरे जरूरतमंद लोगो की मदद करे व इसके लिए आयुर्वेदिक डॉक्टर बनना बहुत ही अच्छा विकल्प हो सकता है इसके द्वारा आप अपना बेहतरीन कैरियर बना सकते है और दुसरो की सेवा भी कर पाएंगे एवं आपको आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने के लिए Ayurvedic Doctor Kaise Bane इसकी जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है.

Ayurvedic Doctor Kaise Bane

आयुर्वेद भारत की बहुत ही प्राचीन चिकित्सा प्रद्धति है जिसक उपयोग लाखो वर्षो से किया जा रहा है इसमें जड़ी बूटियों के द्वारा किसी भी बीमारी का इलाज किया जाता है व आयुर्वेद विज्ञानं की वो शाखा होती है जिसका उद्देश्य मानव शरीर को निरोगी रखने, किसी भी रोग का उपचार करना, आयु बढ़ाना आदि है.

आयुर्वेद चिकित्सा के आठ अलग अलग अंग माने गए है जैसे कायचिकित्सा, शल्यतन्त्र, शालक्यतन्त्र, कौमारभृत्य, अगदतन्त्र, भूतविद्या, रसायनतन्त्र और वाजीकरण आदि व आयुर्वेद के देवता को धन्वतरि कहा जाता है जो विष्णु अवतार माने जाते है व आपको आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने के लिए आयुर्वेद में रूचि होनी बहुत ही आवशयक है व आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने के लिए आपको यह प्रक्रिया फॉलो करनी होती है.

बाहरवीं उत्तीर्ण करें

सबसे पहले तो आपको आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने के लिए बाहरवीं उत्तीर्ण करना  आवश्यक है जब तक आप बाहरवीं उत्तीर्ण नहीं करते तब तक आप इसकी आगे की पढाई नहीं कर पाएंगे इसके लिए आप पीसीबी ग्रुप यानि फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी से 50% अंको से बाहरवीं को उत्तीर्ण कर ले इसमें आपको ज्यादा से ज्यादा अंक प्राप्त करने की कोशिश करनी चाहिए आप बाहरवीं में जितने ज्यादा अंक प्राप्त करेंगे आपके लिए उतना ही अच्छा होगा.

BAMS में एडमिशन ले

जब आप बाहरवीं उत्तीर्ण कर लेते है तो इसके बाद आपको BAMS अर्थात Bachelor Of Ayurvedic Medicine & Surgery के लिए आवेदन करना होता है व इसमें आवेदन करने के लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ता है व इसके बाद आपको BAMS में एडमिशन मिल जाता है एवं BAMS  का कोर्स 5 वर्ष 6 माह का होता है व जिसमे 1 वर्ष की इंटरशिप भी होती है व जब आप BAMS कोर्स को पूरा कर लेते है तो इसके बाद आपको इसका सर्टिफिकेट भी दिया जाता है जिससे आप बादमे आयुर्वेदिक डॉक्टर के रूप में अपनी सेवाये दे सकते है.

आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने उम्र

जैसा की हमने आपको बताया की आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने के लिए आपको BAMS  कोर्स करना होता है व आप इस कोर्स के लिए आवेदन करना चाहते है तो आपकी उम्र न्यूनतम 17 वर्ष की होनी जरुरी है तभी आप इस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते है.

BAMS कोर्स कैसे करें

आपको सीधा BAMS के लिए प्रवेश नहीं मिल सकता इसके लिए आपको एक एंट्रेंस एग्जाम देना  होता है अगर आप इंडिया लेवल पर एंट्रेंस एग्जाम देना चाहे तो आप NEET का एग्जाम दे सकते है वही आप स्टेट लेवल पर इसका एग्जाम देना चाहे तो CGET, IPU, OJEE, CET, KEAM आदि निम्न प्रकार की परीक्षा देकर इसके कोर्स को कर  सकते है एवं एंट्रेंस एग्जाम देने के बाद मेरिट के आधार पर अलग अलग कॉलेज में कैंडिडेट को BAMS के लिए प्रवेश दिया जाता है.

BAMS के बाद कोर्स

अगर आप BAMS को कर लेते है और उसके  बाद आगे की पढाई करना चाहते तो कई कोर्स है  जिन्हे आप कर सकते है हम आपको इन कोर्स के नाम बता रहे है जो आप BAMS के बाद कर सकते है.

  • Therapist
  • Product Manager
  • Medical Representative
  • Work in Nursing Home
  • Dispensaries
  • Research Institutes
  • On Duty Doctor
  • Work In Healthcare Community
  • Area Sales Manager
  • Sales Representative
  • Category Manager
  • Pharmacist
  • Lecturer

आयुर्वेदिक डॉक्टर के कोर्स की फीस

आप आयुर्वेदिक डॉक्टर का कोर्स करना चाहते है तो उससे पहले आपको इसकी फीस के बारे में जानकारी प्राप्त करनी आवश्यक है इस कोर्स के  लिए आपको 25,000 रूपए लेकर  3 लाख 20  हजार रूपए तक वार्षिक फीस देनी होती है आप प्राइवेट कॉलेज से इस कोर्स को करते है तो आपको ज्यादा फीस देनी होती है व आप सरकारी कॉलेज से इस कोर्स को करते है तो आपकी फीस बहुत ही कम लगती है.

आयुर्वेदिक डॉक्टर का वेतन

आयुर्वेदिक डॉक्टर को उसके अनुभव के आधार पर अलग अलग वेतन दिया जाता है इस पोस्ट पर आपको सामान्यत 50 हजार रूपए तक का वेतन दिया जाता है व बादमे अनुभव के आधार पर आपका वेतन बढ़ता रहता है कुछ वर्ष तक कार्य करने के बाद आपका वेतन एक लाख रूपए तक भी हो सकता है यह आपके अनुभव और कार्य करने के तरीके के ऊपर निर्भर करता है.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको Ayurvedic Doctor Kaise Bane इसके बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी अच्छी लगी होगी अगर आपको जानकारी उपयोगी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और इससे जुड़ा किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहे तो आप कमेंट करके भी बता सकते है.

पिछला लेखRSVP Full Form in Hindi : आर.एस.वी.पी. क्या होता हैं पूरी जानकारी
अगला लेखRO Full Form in Hindi : RO Water के फायदे व नुकसान

अपना सवाल यहाँ पूछे

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें