आज हम आपको ABM Full Form के बारे में जानकारी दे रहे है हम सब यह शब्द कई बार सुनते है पर अक्सर बहुत से लोगो को इस शब्द के बारे में विशेष जानकारी नहीं होती तो आज हम आपको ABM से जुडी कई जरुरी जानकारी आपको बताने वाले है व यह क्या होता है इसके बारे में बताने वाले है.

abm full form

हम सब लोग खबरों या समाचार पत्रों में अक्सर इस शब्द के बारे में सुनते रहते है पर बहुत ही कम लोग इसके पुरे नाम का जिक्र करते है जिसके कारण हमे इसके पुरे नाम के  बारे में जानकारी प्राप्त नहीं हो पाती पर हम आपको ABM Full Form क्या होता है और ABM किसको कहा जाता है व यह किस काम आता है इससे सम्बंधित जानकारी आपको बताने वाले है.

ABM Full Form in Hindi

ABM के बारे में अन्य जानकारी आपको बताने से पहले हम आपको इसका पूरा नाम क्या होता है इसके बारे में बता रहे है ताकि आपको इसके पुरे नाम की जानकारी प्राप्त हो सके.

ABM Full Form – Anti Balistic Missile

हिंदी में इसको एंटी बैलिस्टिक मिसाइल कहा जाता है इसका इस्तमाल सुरक्षा एजेंसी द्वारा किया जाता है जैसे की देश की आर्मी आदि.

ABM क्या है

इसका नाम एंटी बैलिटिक्स मिसाइल है व यह सतह से हवा में मार करने वाली एक मिसाइल होती है इसे मिसाइल डिफेन्स के लिए इंटरसेप्ट और काउंटर  के लिए बनाया गया है व आमतौर पर इस  मिसाइल को  अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों का मुकाबला करने के लिए डिजाइन किया गया है.

सरकार ने माना है की यह एक ऐसी मिशाइल है जो की किसी भी क्षेत्र की 2000 किलोमीटर रेंज वाली दुश्मनो मिसाइल से मदद कर सकती है व इस मिसाइल की मार 150 किलोमीटर से लेकर 600 किलोमीटर तक की है जिससे की आप अंदाजा लगा सकते है की यह कितनी ताकतवर मिसाइल है एंटी बैलिस्टिक मिसाइल प्रणाली का विकास सन् 1999 में हुआ था व इसको लगभग 40 निजी व सार्वजनिक कंपनियों के विकास सिस्टम में शामिल थी.

ABM के बारे में

इस मिशाइल को बनाने का श्रेय डीआरडीओ को जाता है इन्होने ही इस मिसाइल का निर्माण किया था व इस मिसाइल की लम्बाई 7.5 मीटर की है व इस मिसाइल में एडवांस नेगिवेसन सिस्टम लगे हुए है इस मिसाइल की मारक क्षमता 2000 किलोमीटर की बताई जा रही है व यह हवा से भी कई गुना तेज गति से अपने निशाने पर सटीक हमला करने में सक्षम है हाल में इसको अपग्रेड करना का कार्य चल रहा है.

भारत की सबसे ताकतवर और बड़ी मिसाइलों में आज ABM का नाम भी आता है यह भारत की परमाणु शक्ति में काफी बढ़त भी हुई है व इसकी मदद से भारत अन्य दुश्मनो देशो से खुद की रक्षा कर सकता है व इसके साथ ही अन्य दुश्मन देशो में भारत की इस मिसाइल के कारण खौफ भी बना रहता है जिससे की हमलो की आशंका काफी कम रहती है.

ABM लाने के मुख्य उद्देश्य

आप सभी लोग जानते है की भारत ने कई छोटे बड़े हमलो का डटकर सामना किया है व अक्सर भारत पर दुश्मनो के हमलो की चर्चा होती रहती है ऐसे में इस मिसाइल को लाने के भारत के पास कई मुख्य उद्देश्य थे जिसके कारण इसको भारत में लाया गया था.

90 के दशक से भारत ने पाकिस्तान के कई  बैलिस्टिक मिसाइल हमलो का सामना किया है व इसके साथ ही पाकिस्तान और चीन के साथ कई लड़ाईया भी लड़ी है इसके कारण दोनों पक्षों में तनाव की स्थिति बनी रहती है व पाकिस्तान ने चीन से एम-11 मिसाइलों को खरीदकर तैनात किया है इसके जवाब में भारत ने भी अगस्त 1995 में नई दिल्ली समेत अन्य शहरों की रक्षा के लिए रूससे एस-300 सतह-से-एयर मिसाइलों की छह खेप की खरीद की थी.

भारत ने मई 1998 को अपना दूसरा परमाणु परिक्षण किया था जो की पोकरण में किया गया था व इसके कुछ समय पश्चात पाकिस्तान ने भी अपना पहला परमाणु परिक्षण किया था इसके कारण भारत पर मिसाइल का खतरा पहले से काफी अधिक बढ़ गया था व इसके कारण भारत ने  मिसाइल डिलीवरी प्रणाली का भी विकास और परीक्षण किया सन् 1999 में ABM का विकास शुरू किया गया था.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको ABM Full Form क्या है और ABM क्या है इसके बारे में जानकारी देने का प्रयत्न किया है हमे उम्मीद है की आपको ABM के बारे में दी गयी जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको हमारी बताई जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें व इससे जुड़ा किसी भी प्रकार का सवाल पूछना चाहते है तो आप हमे कमेंट के माध्यम से भी बता सकते है.

 

पिछला लेखNCERT Books Free में Download कैसे करे
अगला लेखJio Phone से पैसे कैसे कमाए ( प्रतिदिन 6000/- रूपए )

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें